Wednesday , 24 April 2019
Top Headlines:
Home » Jaipur » किसानों का कर्ज माफ करने का आग्रह

किसानों का कर्ज माफ करने का आग्रह

गहलोत ने पीएम मोदी को लिखा पत्र

जयपुर (कासं)। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने किसान कर्जमाफी के सम्बन्ध में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। इस पत्र में उन्होंने देश के कृषकों की चुनौतीपूर्ण आर्थिक स्थिति का जिक्र करते हुए कांग्रेस शासित प्रदेशों की तर्ज पर देश भर के किसानों की कर्जमाफी का आग्रह किया है। साथ ही प्रदेश में किसानों के हित में खरीफ 2018 में समर्थन मूल्य पर मूंग खरीद लक्ष्य उत्पादन का 40 प्रतिशत करने और खरीद तिथि बढ़ाने की भी अपील की है।
मुख्यमंत्री गहलोत का प्र.म. मोदी को लिखा गया पत्र
आदरणीय श्री मोदी जी,
देश में कृषकों की आर्थिक स्थिति निरंतर चुनौतीपूर्ण होती जा रही है। जैसा कि आपको विदित है कि राजस्थान एक कृषि प्रधान राज्य है, जिसकी विषम भौगोलिक परिस्थितियों व गत सरकार का अपेक्षित आर्थिक सहयोग नहीं मिलने के कारण राज्य के अधिकांश किसान आर्थिक रूप से संकटग्रस्त हैं। अत: उन्हें सरकार के सकारात्मक दृष्टिकोण और तत्काल सहायता की जरूरत है।
कांग्रेस अध्यक्ष श्री राहुल गांधी जी लम्बे समय से देश के किसानों की ऋण माफी की लगातार मांग करते आ रहे हैं। कांग्रेस शासित प्रदेशों राज्यों पंजाब, कर्नाटक, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में कांग्रेस की प्रतिबद्धता के अनुरूप सरकार बनते ही किसानों के ऋण माफ किए हैं। जिससे किसानों ने राहत की सांस ली है। देश भर के किसानों की यही मांग है।
हमने राज्य के सहकारी बैंकों के ऋणी कृषकों का निर्धारित पात्रता अनुसार समस्त बकाया अल्पकालीन फसली ऋण माफ किए जाने का निर्णय लिया है। इसके साथ-साथ हमनें राष्ट्रीयकृत, अनुसूचित, क्षेत्रीय ग्रामीण एवम भूमि विकास भूमि के ऋणी कृषकों, जो कि आर्थिक रूप से संकटग्रस्त है और अपना ऋण नहीं चुका पा रहे हैं, का निर्धारण मापदण्डानुसार दो लाख रूपए तक की सीमा तक अवधिपार/कालातीत ऋण माफ़ किये जाने का भी निर्णय लिया गया है।
इसके अतिरिक्त पूर्ववर्ती राज्य सरकार द्वारा बिना वित्तीय प्रावधान के ऋणी कृषकों हेतु जो आठ हज़ार करोड़ रूपए की फसली ऋण माफ़ी थी, उसके तहत तत्कालीन सरकार के कार्यकाल में केवल 2 हज़ार करोड़ रूपए का ही प्रावधान किया गया था। इस प्रकार उक्त योजना के शेष 6 हज़ार करोड़ रूपए का वित्तीय भार भी हमारी सरकार द्वारा ही वहन किया जाना है। इन परिस्थितियों में राज्य सरकार पर अत्यधिक वित्तीय भार आना स्वाभाविक है।
देश का किसान आप से उम्मीद रखता है कि उसकी विपरीत आर्थिक परिस्थितियों में भारत सरकार किसानों का कज़ऱ् माफ़ करेगी। अत: आपसे आग्रह है कि कांग्रेस शासित राज्यों की तर्ज पर पूरे देश के लिए राष्ट्रव्यापी ऋण माफी योजना लाकर देश के किसान बंधुओं को राहत पहुंचाएं तथा हमारी सरकार के प्रयासों को सम्बल प्रदान करें।
भवदीय,
अशोक गहलोत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.