Wednesday , 20 November 2019
Top Headlines:
Home » Udaipur » उपद्रव की वजह : रमेश के हत्यारों को गिरफ्तार करने के बाद भी कारण नहीं बता रही है पुलिस

उपद्रव की वजह : रमेश के हत्यारों को गिरफ्तार करने के बाद भी कारण नहीं बता रही है पुलिस

कहीं तस्करों द्वारा तो हत्या नहीं करवाई गई या कोई और ही है मामला
उदयपुर. नगर संवाददाता & जिले के जावरमाइंस थाना क्षेत्र में गत दिनों हुई रमेश पटेल की हत्या के मामले में पुलिस की लापरवाही और हत्या के कारणों को खुलासा नहीं करने का खामियाजा सोमवार को पुलिस ने भुगत ही लिया। ग्रामीणों ने जमकर उपद्रव मचाया। हत्या के आरोपियों को पुलिस ने शुक्रवार को ही गिरफ्तार कर लिया था, परन्तु अभी तक हत्या के कारणो का खुलासा पुलिस नहीं कर पाई है और यही बात ग्रामीणों को आक्रोशित कर गई, जिसका नतीजा सामने आ ही गया। इस हत्याकांड के पीछे तस्करों और क्षेत्र में गलत काम करने वालों का हाथ बताया जा रहा है, लेकिन पुलिस कुछ भी बताने को तैयार नहीं है।
रमेश पटेल हत्याकांड में पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया और ग्रामीण बार-बार यह मांग कर रहे थे कि इस हत्याकांड में ओर भी लोग लिप्त है और उन्हें भी गिरफ्तार करना होगा, जबकि पुलिस का एक ही तर्क था कि परिजनों को यदि किसी पर शंका हो तो परिजन उसका नाम बताएं, पुलिस उससे भी पूछताछ करेगी। पुलिस ने हत्याकांड के दो आरोपियों को पकडऩे के बाद भी यह खुलासा नहीं कर पाई कि आखिरकार हत्याकांड का असली कारण क्या था। इसी को लेकर ग्रामीणों में आक्रोश था और आखिरकार आक्रोश फट ही पड़ा। पुलिस चाहती तो एक बार तो पहले ही दिन ग्रामीणों को संतुष्ट कर सकती थी, परन्तु ऐसा
नहीं हुआ।
कौन जिम्मेदार, ऐसे बिगड़ा माहौल
जावरमाइंस के पीलादर से 8 जुलाई को रमेश पटेल नाम का युवक लापता हो गया था। परिजनों ने इसकी गुमशुदगी भी जावरमांइस थाने में दर्ज करवायी थी। परिजनों ने बताया था कि दो लोग उसे बुलाकर साथ ले गए थे, इसके बाद वह घर नहीं लौटा। 12 जुलाई को जावरमाइंस के जयसमंद अभयारण्य के पास जंगल के काफी अंदर रमेश पटेल की लाश मिली थी। पुलिस ने जब उन दो लोगों को गिरफ्तार किया, जो रमेश को बुलाकर ले गए थे। पूछताछ में उन लोगों ने हत्या कबूल की थी। लेकिन पुलिस ने आरोपियों की गिरफ्तारी के चार दिन बाद भी हत्या के कारणों का खुलासा नहीं किया है।
तस्करों का हाथ या अन्य कारण : परिजनों ने पुलिस को बताया कि इन दो आरोपियों के अलावा भी रमेश पटेल की हत्या में शराब माफिया व तस्कर शामिल हो सकते हैं। रमेश के परिजनों ने बताया कि कुछ दिनों पहले आबकारी विभाग ने पलोदड़ा के एक होटल के अंदर चल रही बड़े स्तर पर शराब की अवैध फैक्ट्री पकड़ी थी और होटल मालिक को गिरफ्तार किया था। इससे जुड़े शराब तस्करों को संदेह था कि उनकी मुखबीरी रमेश पटेल ने की है। इसी कारण परिजनों को शंका थी।
क्यों खलासी ने ही कर दी रमेश की हत्या : रमेश पटेल की हत्या करने में पुलिस ने उसके मिनी ट्रक पर खलासी का काम करने वाले रमेश मीणा ने हत्या कर दी थी। जबकि मृतक रमेश पटेल और रमेश मीणा कई समय से साथ में काम कर रहे थे। ऐसे क्या कारण बने कि खलासी ने ही रमेश को आधी रात में फोन कर बुलाया यह जानने के बाद भी वह कॉल डिटेल से आसानी से पकड़ा जाएगा तो भी उसने हत्या कर दी। ऐसे मेंं कोई ना कोई बड़ा कारण अवश्य है जिसे रमेश मीणा बता नहीं रहा है और हत्या का आरोप अपने सिर पर ले रहा है।
आधी रात को कोयले की सप्लाई करता था मृतक : जांच में सामने आया कि था कि मृतक रमेश पटेल खुद आधी रात को मिनी ट्रक में कोयला सप्लाई करता था। जयसमंद क्षेत्र के जंगलों से लकड़ी का कोयला भरकर वह उदयपुर और गुजरात तक सप्लाई करता था। उसके साथ में इसकी हत्या करने वाला रमेश मीणा भी रहता था। चार दिन से हो रहा प्रदर्शन, फिर भी नहीं चेती पुलिस
निष्पक्ष जांच की मांग कर परिजन और पटेल समाज 12 जुलाई से लगातार प्रदर्शन कर रहे थे और अधिकारियों को ज्ञापन देकर उग्र प्रदर्शन की चेतावनी दे रहे थे। ग्रामीणों का कहना है कि जब पुलिस की तरफ से हमें कोई भरोसेमंद जवाब नहीं मिला तो सभी ने उग्र प्रदर्शन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*