Thursday , 19 September 2019
Top Headlines:
Home » Business » इस बार न बजट, न ब्रीफकेस

इस बार न बजट, न ब्रीफकेस

लाल कपड़े में बहीखाता लाई वित्त मंत्री
नई दिल्ली (एजेंसी)। बजट पेश करने से पहले अभी तक आप सभी वित्त मंत्रियों को हाथ में लाल रंग का ब्रीफकेस लेकर संसद भवन जाते देखते रहे होंगे। संसद भवन जाने से पहले वित्त मंत्री अपनी बजट की कोर टीम के साथ मंत्रालय के बाहर फोटो भी खिंचवाते रहे हैं। इस बार भी देश की पहली पूर्णकालिक पहली महिला वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपनी कोर टीम के साथ फोटो खिंचवाई लेकिन इस बार उनके हाथ में लाल रंग का ब्रीफकेस की जगह लाल रंग का मखमली पैकेट था। निर्मला ने अभी तक चली आ रही प्रथा को पूरी तरह बदल दिया। इसे बजट नहीं बल्कि ‘बही खाताÓ कहा गया।
निर्मला ने बदल दी प्रथा
प्र.म. नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल का पहला पूर्ण बजट पेश करने से पहले जब वित्त मंत्री निर्मला मंत्रालय से बाहर निकलीं तो उनके हाथ में वित्त मंत्रियों के हाथ में हर बार दिखने वाला लाल रंग का ब्रीफकेस नहीं था। निर्मला के हाथ में ब्रीफकेस की जगह लाल रंग का अशोक स्तंभ चिह्न वाला एक पैकेट था। ऐसा पहली बार हुआ जब ब्रीफकेस की जगह बजट को एक लाल कपड़े में रखा गया है।
‘बजट नहीं बल्कि बही खाताÓ
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के ब्रीफकेस की जगह लाल कपड़े में बजट लपेटने के सवाल पर मुख्य आर्थिक सलाहकार के सुब्रमण्यन ने कहा, यह पश्चिमी दासता से निकलने का प्रतीक है। यह बजट नहीं है बल्कि बही खाता है। बता दें कि आजादी के बाद देश का पहला बजट तत्कालीन वित्त मंत्री आर.के. शानमुखम शेट्टी ने 26 नवंबर, 1947 को पेश किया था। वह तब बजट के दस्तावेज लेदर बैग में लेकर आए थे।
लाल ब्रीफकेस में ही पोज देते रहे हैं वित्त मंत्री
बता दें कि संसद में बजट भाषण से पहले वित्त मंत्री इस ब्रीफकेस के साथ मीडिया के सामने पोज देते नजर आते रहे हैं। लेकिन इस बार इस प्रथा को वित्त मंत्री निर्मला ने बदल दिया है। आपको जानकर हैरानी होगी कि संविधान में ‘बजटÓ शब्द का इस्तेमाल ही नहीं किया गया है। इसे वार्षिक वित्तीय विवरण कहा गया है। ‘बजटÓ शब्द भी इसी बैग से जुड़ा हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*