Friday , 19 October 2018
Top Headlines:
Home » Rajasthan » आदिवासियों के बलिदान को कांग्रेस ने सम्मान नहीं दिया

आदिवासियों के बलिदान को कांग्रेस ने सम्मान नहीं दिया

उदयपुर में आयोजित संभाग स्तरीय जनजाति सम्मेलन में जमकर बरसे भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह
चार पीढिय़ों के राज में कांग्रेस आदिवासी कल्याण मंत्रालय तक नहीं बना सकी

उदयपुर। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि आदिवासी और जनजाति क्षेत्र के लोगों ने मेवाड़ की आन-बान-शान को बनाए रखने के लिए कई बलिदान दिए, परन्तु कांग्रेस ने इस बलिदान का उचित सम्मान नहीं दिया। चार पीढिय़ों के अपने राज में आज तक कांग्रेस आदिवासी कल्याण मंत्रालय तक नहीं बना पाई और आदिवासियों के बलिदान का अपमान किया है।
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह अपने एक दिवसीय दौरे पर मंगलवार को उदयपुर आए थे। इस दौरान फतहस्कूल में आयोजित जनजाति सम्मेलन को वे सम्बोधित कर रहे थे। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि महाराणा प्रताप स्वधर्म और स्वराज की लड़ाई लड़े थे। वे इस लड़ाई के लिए जंगलों में रहे, परन्तु उन्होंने देशभक्ति को नहीं छोड़ा। शाह ने कहा कि राज चला गया, परन्तु महाराणा प्रताप अपनी देशभक्ति से पीछे नहीं हटे और इस लड़ाई में आदिवासियों और जनजाति क्षेत्र के लोगों ने भी अपना पूरा सहयोग दिया और यहां तक कि अपने प्राणों का बलिदान तक दे दिया। शाह ने कहा कि आज भी श्रीएकलिंगजी के दर्शन करने जाते है तो वहां पर भीलू राणा की प्रतिमा दिखाई देती है। आदिवासियों और भीलूराणा के बलिदान को इतिहास (कांग्रेस) ने उचित सम्मान नहीं दिया, परन्तु भाजपा इस मौके को हाथ से जाने नहीं देगी।
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि के प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेन्द्र मोदी ने कहा कि मेरी सरकार गरीब और आदिवासियों की सरकार है और पिछले चार वर्षों में इन शब्दों ने हकीकत का रूप ले लिया है। वसुन्धरा राजे ने भी अपने कार्यकाल के दौरान आदिवासी और जनजाति क्षेत्र को नम्बर एक पर रखा। आजादी के बाद से ही जनजाति समाज कांग्रेस से जुड़ा था, परन्तु चार पीढिय़ों के राज में कांग्रेसी कभी भी आदिवासी कल्याण मंत्रालय तक नहीं बना पाए। इसकी नींव अटलबिहारी वाजपेयी ने अपने कार्यकाल में रखी। जनजाति क्षेत्र के लिए भाजपा की स्पष्ट सोच है। शाह ने कहा कि सभी खदाने जनजाति क्षेंत्र मे है और प्रधानमंत्री मोदी ने आदिवासी समाज की इस वेदना को समझा और प्रत्येक जिले में डिस्ट्रिक्ट मिनरल फंड बनाया और इस फंड में एक निर्धारित रकम को जमा हुई। जिससे उस क्षेत्र का विकास हुआ। अब तक 16 हजार करोड़ इस फंड में आ चुका है।
शाह ने कहा कि बांस को कांग्रेस सरकार ने पेड़ की श्रेणी मेें रखा हुआ था, मोदी सरकार बांस को घास की श्रेणी में लाई और बांस को काटकर एक लाख करोड़ रूपए तक आदिवासियों को आय हुई है। शाह ने कहा कि नरेन्द्र मोदी सरकार की वन बंधू कल्याण योजना से आदिवासी गांव, जिले के लिए योजना बनाई और प्रत्येक परिवार को इस योजना से जोड़ा गया। हर गांव में पंचायत घर और स्कूल बनाया। आदिवासी ब्लॉक के लिए 10 करोड़ रूपए देना तय किया गया। एक वर्ष में देश भर के आदिवासी क्षेत्रों में 184 एकलव्य मॉडल आवासीय स्कूलोंं का निर्माण करवाया गया। देश में 115 पिछडे जिलों का चयन किया गया। जिसमें से 85 आदिवासी जिले निकले और इन जिलो में मोदी सरकार ने जमकर काम करवाया।
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रबी-खरीफ की फसल का समर्थन मूल्य डेढ़ गुना तक बढ़ा दिया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वन्य उत्पादनों के लिए भी समर्थन मूल्य की घोषणा की है। शाह ने कहा कि स्टेण्ड अप योजना से आज देश के सभी सरकारी बैंक आदिवासी और जनजाति क्षेत्र के लोगों को आसानी से लोन दे रहे है। जन सुरक्षा योजना में देश के 5 करोड़ आदिवासियों का बीमा करवाया गया है। मुद्रा योजना से बैंकों ने आदिवासी और जनजाति क्षेत्र के लोगों को छोटे-छोटे लोन देना शुरू किया है। गांवों में शौचालय, गैस, के साथ-साथ गांव में रहने वाले ग्रामीणों को मकान तक बनाकर रहने के लिए दिए है। सौभाग्य योजना में गांव-गांव तक बिजली पहुंंची है और आज ग्रामीणों के घर रोशन हुए है।
इस मौके पर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे के कामों को गिनाते हुए कहा कि राजस्थान की मुख्यमंत्री राजे ने जनजाति क्षेत्र के बच्चों को निशुल्क पढ़ाई के साथ-साथ निशुल्क कोचिंग भी उपलब्ध करवाई है। 1727 हॉर्टिकल्चर की स्थापना करने के साथ-साथ 11 हजार 181 हैक्टर जमीन को ड्रिप एरिगेशन पद्धति से जोड़ा है। शाह ने राजस्थान में भाजपा को वोट देने की अपील की।
इस मौके पर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मदनलाल सैनी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम माथुर, राष्ट्रीय महामंत्री अविनाश रॉय खन्ना, प्रदेश संगठन महामंत्री चन्द्रशेखर मिश्रा, प्रदेश के गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया (शेष पेज 8 पर)श्रीजी की शरण में शाहनाथद्वारा। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने मंगलवार को श्रीजी प्रभु व नवनीत प्रियाजी की ग्वाल झांकी के दर्शन किए। इसके बाद उनका परम्परानुसार तिलकायत पुत्र विशाल बावा ने चीरा फेंटा बांध कर रजाई ओढ़ा प्रसाद भेंट कर परंपरानुसार समाधान (स्वागत) किया। समाधान के बाद साझा फोटो खिंचवाते अमित शाह, विशाल बावा, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सैनी एवं मंत्री किरण माहेश्वरी।
फोटो : जगदीश सोनी देरी से आने पर मांगी माफी
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह सभा स्थल पर करीब ढ़ाई घंटे देरी से आए थे और आते ही शाह ने भीड़ से माफी मांगी। शाह ने कहा कि नागौर में देर होने के कारण वे देरी से आ पाए है। इसके बाद उन्होंने भाजपा जिंदाबाद और भारत माता की जय के नारे भी लगवाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.