Tuesday , 17 September 2019
Top Headlines:
Home » Jaipur » अक्षदा कार्यक्रम का प्रदेश में विस्तार किया जाएगा : राजे

अक्षदा कार्यक्रम का प्रदेश में विस्तार किया जाएगा : राजे

rajeजयपुर। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा कि मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य तथा उनके पोषण स्तर में सुधार के लिए झालावाड में चल रहे अक्षदा कार्यक्रम का प्रदेश के सभी जिलों में विस्तार किया जायेगा।
श्रीमती राजे ने जिला कलेक्टर और जिला पुलिस अधिकारियों की कान्फेंस के दूसरे दिन आज यहां कहा कि टाटा ट्रस्ट की सहयोगी संस्था अंतरा फाउंडेशन के साथ मिलकर झालावाड़ में चल रहे अक्षदा कार्यक्रम ट्रिपल एज के सकारात्मक परिणामों को देखते हुये अब इसका प्रदेश के विभिन्न जिलों में विस्तार किया जाएगा। उन्होंने इस योजना को जनजाति क्षेत्र के जिलों में फोकस करने पर बल देते हुये अघिकारियों को इसके लिए अलग-अलग भौगोलिक परिस्थितियों वाले जिले चिन्हित करने के निर्देश दिये।
कांफ्रेंस मेें अंतरा फाउंडेशन के संस्थापक निदेशक अशोक अलेक्जेंडर ने प्रदेश के झालावाड में चल रहे अक्षदा कार्यक्रम के सकारात्मक परिणाम आने का दावा करते हुये मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य तथा उनके पोषण स्तर में सुधार के लिए संचालित अक्षदा कार्यक्रम का प्रस्तुतीकरण दिया। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम के तहत जमीनी स्तर पर काम करने वाली एएनएम, आशा सहयोगिनी और आंगनबाडी कार्यकर्ता मिलकर गांवों के नक्शे तैयार करती हैं, जिनमें प्रसूताओं, गर्भवती महिलाओं एवं नवजात शिशुओं के स्वास्थ्य तथा पोषण की सम्पूर्ण जानकारी उपलब्ध रहती है। इन नक्शों के जरिए स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के लिए काम करना आसान हो रहा है। उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम के तहत गांव में 13 से 19 वर्ष की किशोरियों को भी जोड़ा जा रहा है तथा वे स्वयं उत्साहित होकर अपने गांव की गर्भवती महिलाओं और प्रसूताओं की देखभाल में भागीदारी निभा रही हैं। उन्होंने बताया कि मई माह के अंत तक झालावाड के साथ-साथ बारां जिले के सभी गांवों की मैङ्क्षपग पूरी कर ली जाएगी।
प्रस्तुतीकरण के दौरान चिकित्सा मंत्री राजेन्द्र राठौड़ ने कहा कि एएनएम और आशा सहयोगिनी को आंगनबाडी कार्यकर्ता का सहयोग मिलने से मातृ एवं शिशु मृत्यु दर जैसी संवेदनशील समस्या से प्रभावी रूप से निपटा जा सकेगा। राज्य स्तरीय बीस सूत्री कार्यक्रम क्रियान्वयन समिति के उपाध्यक्ष डॉ. दिगम्बर ङ्क्षसह ने कहा कि इस कार्यक्रम में किशोरी बालिकाओं को जोडऩे के नवाचार के अच्छे परिणाम आएंगे। इस अवसर पर राज्य मंत्रिपरिषद के सदस्य, संसदीय सचिव, विभिन्न आयोगों के अध्यक्ष, मुख्य सचिव तथा विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*