Saturday , 26 May 2018
Breaking News
Home » Udaipur » हाईकोर्ट की बेंच के लिए शहर में निकली चेतावनी रैली

हाईकोर्ट की बेंच के लिए शहर में निकली चेतावनी रैली

उदयपुर। राजस्थान उच्च न्यायालय खण्डपीठ की मांग को लेकर सोमवार को सरकार को चेतावनी देने के लिए शहर की सड़कों पर चेतावनी रैली निकालकर यह संदेश दिया कि यदि सरकार ने समय रहते उदयपुर में राजस्थान उच्च न्यायालय खंडपीठ की स्थापना की घोषणा नहीं की तो आने वाले दिन सरकार के लिए खतरनाक होंगे और आगामी 16 मई को पूर्व विधानसभा अध्यक्ष शांतिलाल चपलोत आमरण अनशन पर बैठेंगे। वहीं वरिष्ठ भाजपा नेता मांगीलाल जोशी ने कहा कि भाजपा शासन में मेवाड़ का अपमान हुआ है। शेखावत मंच इस आंदोलन में तन-मन से साथ है। कांग्रेस ने भी आंदोलन का समर्थन करते हुए रैली में भाग लिया।
मेवाड़-वागड़ हाईकोर्ट बेंच संघर्ष समिति के आव्हान पर सोमवार को सुबह नौ बजे न्यायालय परिसर से गगनभेदी नारों के बीच वाहन रैली रवाना हुई। सबसे आगे मास्टर बैण्ड बुलबुल की लॉरी पर बार अध्यक्ष रामकृपा शर्मा के नेतृत्व में युवा वर्ग सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर रहे थे। इस दौरान उपाध्यक्ष सत्येंद्र सांखला, महासचिव चेतन पुरी गोस्वामी, सचिव ओमप्रकाश प्रजापत, वित्त सचिव हरीश शर्मा, पुस्तकालय सचिव हेमंत पालीवाल, पूर्व महासचिव भरत वैष्णव, सुंदरलाल माण्डावत, रोशनलाल जैन, प्रवीण खण्डेलवाल, महेन्द्र नागदा, कमलेश दवे, अशोक सिंघवी, राजेश सिंघवी, कैलाश भारद्वाज, नीरज अग्निहोत्री, सुविवि अध्यक्ष भवानी बोरीवाल, मनिष शर्मा, एवं प्रवक्ता हरीश पालीवाल, सहित अधिवक्ता पैदल-पैदल नारेबाजी करते हुए चल रहे थे। उसके पीछे अधिवक्ता एवं अन्य संगठनों के कार्यकर्ता अपने-अपने वाहनों पर सवार होकर नारेबाजी करते हुए चल रहे थे। रैली में दो खुली जीपे, कारे और महाकालेश्वर ट्रस्ट का पुष्पक वाहन भी शामिल था। इस पुष्पक वाहन में संघर्ष समिति के अध्यक्ष शांतिलाल चपलोत, महासचिव शांतिलाल पामेचा, समन्वयक रमेश नंदवाना, पूर्व महासचिव अरूण व्यास, कोषाध्यक्ष गौतमलाल सिरोही के अलावा बार के सभी सदस्य और पूर्व पदाधिकारी रथ में सवार होकर शहर की जनता से इस मांग के समर्थन में अपील करते हुए नारेबाजी करते हुए चल रहे थे। रैली शहर के विभिन्न मार्गो से होते हुए पुन: कोर्ट चौराहे पर पहुंची, जहां पर जमकर नारेबाजी की गई। इस दौरान भाजपा के वरिष्ठ नेता मांगीलाल जोशी ने सम्बोधित करते हुए कहा कि इस संघर्ष में उदयपुर का आमजन अधिवक्ताओं के साथ है। शेखावत मंच इस आंदोलन में पूर्ण सहयोग करेगा। उन्होंने कहा कि मेवाड़ में हाईकोर्ट बेंच की स्थापना नहीं कर सरकार मेवाड़ का अपमान कर रही है। कांग्रेस के शहर जिलाध्यक्ष गोपाल शर्मा, विप्र फाउण्डेशन के नरेन्द्र पालीवाल, एसटीएससी के तिलकसिंह, राशन विक्रेता संघ के अध्यक्ष रोशनलाल सामोता सहित वरिष्ठ अधिवक्ता एवं विभिन्न संगठनों के पदाधिकारी मौजूद थे। रैली में मेवाड़ वागड़ हाई कोर्ट बेंच संघर्ष समिति के आह्वान पर बार एसोसिएशन के नेतृत्व में इस रैली में विप्र फाउंडेशन उदयपुर, भारतीय मजदूर संघ, शिवसेना, चेतक व्यापार मंडल, आप पार्टी, वैष्णव समाज उदयपुर सहित धरने पर आने वाले विभिन्न स्वयंसेवी संगठन के पदाधिकारियों ने भी शिरकत की।
चपलोत ने की आमरण अनशन की घोषणा
रैली के समापन पर न्यायालय परिसर के बाहर हुई सभा में संभागीय संयोजक शांतिलाल चपलोत ने कहा कि बहुत हो चुका मेवाड़ का अपमान, अब नहीं सहेंगे यदि सरकार ने 16 मई तक उदयपुर में हाईकोर्ट बेंच की स्थापना की घोषणा नहीं की तो मैं मर मिटने के लिए तैयार हूं और 16 मई से न्यायालय के मुख्य द्वार पर आमरण अनशन पर बैठूंगा। इस बार कोरे आश्वासन पर आंदोलन को समाप्त नहीं करेंगे। इस दौरान राशन विक्रेता संघ के जिलाध्यक्ष रोशनलाल सामोता ने भी घोषणा कि भी हाईकोर्ट बेंच के लिए चपलोत के साथ आमरण अनशन पर बैठेंगे।
अधिवक्ता ने चपलोत को उठाया कंधों पर
पुष्पक वाहन से बार अध्यक्ष सहित वरिष्ठ अधिवक्ता ने शांतिलाल चपलोत को कंधों पर उठा लिया और नारेबाजी करते हुए धरना स्थल पर ले गये जहां पर उन्हें कुर्सी पर बैठाया गया और नारेबाजी की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*