Thursday , 14 December 2017
Breaking News
Home » Udaipur » रणधीर के रणक्षेत्र में धैर्य धरो : प्रदेश अध्यक्ष

रणधीर के रणक्षेत्र में धैर्य धरो : प्रदेश अध्यक्ष

उदयपुर। देहात भाजपा की बैठक में वल्लभनगर विधानसभा क्षेत्र में संगठन की सक्रियता को लेकर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी ने स्थानीय संगठन को धैर्य रखने के लिए निर्देश दिए है और साथ ही कहा कि आने वाले समय में वे स्वयं ही निर्णय लेेंगे। बैठक में तय किया गया कि देहात के सभी मण्डलों पर शीघ्र ही प्रभारियों की नियुक्ति की जाएगी।
जानकारी के अनुसार शनिवार को पटेल सर्कल स्थित भाजपा कार्यालय में भाजपा देहात की बैठक का आयोजन देहात अध्यक्ष गुणवंतसिंह झाला के नेतृत्व में हुआ। बैठक में देहात से आए मण्डल अध्यक्षों और अन्य पदाधिकारियों ने अपने विचार रखे और संगठन को लेकर चर्चा की। इस मौके पर भीण्डर से आए मण्डल अध्यक्ष हिरालाल ने वल्लभनगर विधानसभा क्षेत्र में सुस्त हो चुके भाजपा के संगठन को एक बार फिर से सक्रिय करने और पुन: नया संचार पैदा करने का मामला उठाया तो देहात अध्यक्ष झाला ने कहा कि इस बारे में उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष अशोक परनामी से बात की थी तो प्रदेश अध्यक्ष ने अभी रूकने के लिए कहा है और प्रदेश अध्यक्ष परनानी ने वल्लभनगर विधानसभा क्षेत्र के संगठन पर बाद में समय आने पर निर्णय लेने के लिए कहा है। देहात मीडिया प्रभारी धमेन्द्र कुमार ने बताया कि बैठक में देहात जिला महामंत्री चंद्रगुप्तसिंह चौहान, रामकृपा शर्मा व नरेंद्र मीणा, उपाध्यक्ष भगवतीलाल सेवक, नाथूलाल जैन, विमल कोठारी, भरत भानुसिंह देवड़ा, महिला मोर्चा अध्यक्ष गोपाल कुमार शक्तावत, ओबीसी मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष जगदीश शर्मा, एससी मोर्चा अध्यक्ष पूरण खटीक ने अपने संबोधन में कहा कि राज्य सरकार एवं केंद्र सरकार के विकास कार्य जनता तक पहुंचाना ही संगठन का उद्देश्य है। विस्तारक के कार्यों की जानकारी प्रस्तुत की बैठक में 29 मंडलों के अध्यक्ष एवं महामंत्री मौजूद रहे। बैठक में निर्णय लिया गया कि शीघ्र ही सभी मण्डलों पर प्रभारियों की नियुक्ति की जाएगी। क्यों दिए प्रदेशाध्यक्ष ने ऐसे आदेश
गौरतलब है कि वर्तमान वल्लभनगर विधायक जनता सेना के संस्थापक रणधीरसिंह भीण्डर है। भीण्डर ने जनता सेना को भाजपा का ही एक हिस्सा बताया है। इसी कारण यह आंकलन किया जा रहा है प्रदेश भाजपा अभी वल्लभनगर में संगठन को सक्रिय करने के नाम पर जनता सेना से सीधा मुकाबला करना नहीं चाहती है। हो सकता है कि भविष्य में समझौता हो जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*