Wednesday , 25 April 2018
Breaking News
Home » Udaipur » यादों के तरानों के साथ विदा हुआ संगीत महाकुंभ

यादों के तरानों के साथ विदा हुआ संगीत महाकुंभ

उदयपुर। तीन दिन के लिए विश्व संगीत की राजधानी बने उदयपुर के गांधी ग्राउंड में रविवार को सहर द्वारा परिकल्पित एवं निर्देशित उदयपुर वर्ल्ड म्यूजिक फेस्टिवल का कई नायाब और यादगार प्रस्तुतियों के साथ रंगारंग समापन हुआ। बड़ी संख्या में मौजूद संगीत प्रेमियों ने दुनियाभर से आए कलाकारों को शानदार विदाई दी। टीआरसी के नाम से मशहूर फिलिपिंस के इंडी लोक बैंड रैनसम कलेक्टिव जिसमें कीयन रैनसम ने वोकल और गिटार, जर्मेन चो पेक ने वोकल के साथ फयूशन, लिली ने कीबोर्ड और म्यूरील गोंजालेस ने वायलिन, लीह हैलिली ने बास और रेडड क्लाउडियो ने ड्रम पर जब संगत कर उदयपुर वर्ल्ड म्यूजिक फेस्टिवल के अंतिम दिन की शाम में सुर छेडे तो लोग झूम उठे। पहली प्रस्तुति इट्स बीन सो लाँग व उसके बाद लेट्स वन ओ वे पर दर्शकों से संवाद करते हुए ताल-से ताल मिलाई। व्हेन विल फॉलो ने ठेठ देहाती धुनों के साथ आधुनिक धुनों के संगम की बानगी दिखाई। बैंड ने अपना आत्म शीर्षक गीत ईपी, हिट सिंगल्स ‘फूल्स, सैटल और ओपन रोड से शाम को और भी हसीन बना दिया।
हिंदुस्तान जिंक, राजस्थान टूरिज्म और वंडर सीमेंट के साझे में आयोजित फेस्विटल के समापन की शाम में इजराइल के अंडरग्राउंड बीट पॉप जैज, फ्यूजन बैंड बटरिंग ट्रायो ने मन को सुकून और मीठा कर देने वाला संगीत सुनाया। आई जस्ट कीप, कम से विद मी, आई कॉल टू यू, क्लोज योर आई, यू शुड कॉल मी गीतों ने संगीत प्रेमियों को नई ऊर्जा से भर दिया। रिजॉइसर, बेनो और केरेनडुन ने सैक्सोफोन, स्वर, सिन्थ्स और बास के मिश्रण से संगीत प्रेमियों को सुरों से चेतन कर दिया। तीसरी प्रस्तुति आनंद भास्कर कलेक्टिव की थी जिसमें गायक और गीतकार आनंद भास्कर ने भारतीय शास्त्रीय और रॉक का संगम जब प्रस्तुत किया तो दिल को छू गया। आनंद ने प्रस्तुतियों की शुरुआत तेरे बिना .. अब तूं मान जा मेरी कातिल हसीना से की। इसके बाद, मल्हार, कबसे प्यासे मोरे नैना, काहे लूटे मोरा चेना मोरी राधे..सुनाया तो मस्त कलंदर सा समां बंध गया। भास्कर के पावर-पैक प्रदर्शन ‘एक हो गए हम और तुम, तो उड गई नींदे रे..हम्मा-हम्मा-हम्मा पर संगीतप्रेमी नाच उठे। उन्होंने गिटार पर चंदन रैना, बास पर नीलकांत पटेल, ड्रम पर शिशिर ठाकुर और वायलिन पर अजय जयंती के साथ ‘कान्हा, राधे, तेरे बिना, फना, मेरा सफर, इंट्रो, फासले, एक्सक्यूज-मी, कलेमि् सांग गाना जैसे एलबम गीत की प्रस्तुतियां दीं।
फेस्टिवल की अंतिम प्रस्तुति स्पेन के चेरेंगो बैंड की रही इसमें अलग्वेर मिकेल ने वोकल, मार्सेल लजारा, उर्फ टिटो ने वोकल व गिटार, सर्गी कार्बोनेल-हिपी ने की-बोर्ड, जोकोम नहर ने ड्रम, एलेक्स पुजोल ने बास व गिटार जैसे वाद्य यंत्र पॉ प्यूग पर्कयूशन, इवान लोपेज ने सैक्सोफोन और जॉर्डी बर्नोला ने तुरही पर प्रस्तुतियां देकर शाम को यादगार बना दिया। डबस्टेप, लैटिन संगीत, पॉप, जमैकन संगीत, रॉक बीट्स से समां बांध दिया।

  • उदयपुर वर्ल्ड म्यूजिक फेस्टिवल का रंगारंग समापन
  • ‘दुनिया की इस भीड़ में सबसे पीछे हम खड़े …’

छुट्टी का दिन, गुनगुनी धूप और सैलानियों व संगीत प्रेमियों से सराबोर फतहसागर की पाल। थोड़ा सा रुमानी हो जाने वाले पल..। ऐसा कुछ नजारा था संगीत के महाकुंभ उदयपुर वर्ल्ड म्यूजिक फेस्टिवल की विदाई की शाम से पहले सजी गीतों भरी दुपहरी का जिसमें देश के जाने-माने कलाकार अंकुर तिवारी ने जब खुद की लिखी कविता को गिटार के सहारे परोसा तो फुर्सत के लम्हें कीमती हो गए। अंकुर ने अपने साथी गिटारिस्ट भृगु की धुन पर राग छेड़ी तो दर्शकों ने तालियों से स्वागत किया। उसके बाद प्रेमभरे गीत जानू ने मौजूद लोगों को अपने प्रेम से मिला दिया। अंकुर ने ‘तेरी आंखों का जादू पूरी दुनिया पर है, दुनिया की इस भीड़ में सबसे पीछे हम खड़े’ और ‘तुम बदल गए’, ‘तुझे जाने बिना जैसे गीत प्रस्तुत किए जिसे दिल थाम कर वहां मौजूद हर दर्शक ने सुना और तालियों से दाद दी। डूब कर गाने का अंकुर का अंदाज सबको बहुत पसंद आया। इससे पूर्व दो ट्यूनीशियाई संगीतकार भाइयों अमीन और हमजा ने अपने बैंड के साथ शास्त्रीय अरबी संगीत के दो प्रमुख वाद्य यंत्रों ऑउड और क्यूनन पर यादगार धुनें छेड़ीं। शास्त्रीय पश्चिमी संगीत, जाज, लैमेन्को, भारतीय, फारसी संगीत और कई अन्य विविध संगीत परंपराओं तक प्रस्तुतियों का विस्तार करते हुए अपनी सात चुनिंदा एलब्म्स के तराने पेश किए। फेस्टिवल के निदेशक सहर संस्थान के संजीव भार्गव ने फेस्टिवल के आयोजन प्रमुख हिंदुस्तान जिंक, राजस्थान टूरिज्म और वंडर सीमेंट सहित उदयपुर के संगीत प्रेमियों, देश-विदेश से आए कलापे्रमियों व कलाकारों का धन्यवाद देते हुए चौथे संस्करण को भी फरवरी, 2019 में लाने का वादा किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*