Tuesday , 20 February 2018
Breaking News
Home » Udaipur » भाव-विभोर हुए भक्त, खूब लगे जयकारे

भाव-विभोर हुए भक्त, खूब लगे जयकारे

शिवालयों में भोले बाबा के दर्शनों के लिए उमड़े भक्तजन

उदयपुर। लेकसिटी मंगलवार को महाशिवरात्रि पर शिवमय हो गई। अलसुबह शिवालयों में दर्शनों के लिए भक्तों का रेला उमड़ पड़ा। मेवाड़ के आराध्यदेव एकलिंगजी व महाकालेश्वर महादेव सहित प्रसिद्ध शिवालयों में मेले सा माहौल रहा। रात को चारों पहर भगवान शिव की विशेष आराधना हुई तथा अभिषेक कर अलग-अलग शृंगार धारण करवाए गए।
सुबह चार बजे से ही महाशिवरात्रि पर रानी रोड स्थित महाकालेश्वर महादेव, सीसारमा के बैजनाथ महादेव, हास्पीटल रोड स्थित हजारेश्वर महादेव, समोरबाग स्थित नीलकंठ महादेव, अंबेरी स्थित अमरखजी महादेव, तीतरड़ी स्थित गुप्तेश्वर महादेव के अलावा शहर के आसपास रमणीक स्थलों पर स्थित उबेश्वर महादेव, नांदेश्वर महादेव, केदारेश्वर महादेव, बड़बड़ेश्वर महादेव, तनेश्वर महादेव, झामेश्वर महादेव, धर्मेश्वर महादेव, सोमेश्वर महादेव सहित अन्य शिवालयों में भगवान का जल और दूध से अभिषेक कर पूजा अर्चना की गई तथा बिल्वपत्र अर्पित कर विशेष शृंगार धारण करवाया गया। इसके बाद मंगला के दर्शन खुलते ही भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा। भक्तजनों ने आक पुष्प की माला और प्रसाद अर्पित कर दर्शनों का लाभ लिया। शिवालयों में सुबह पांच बजे से भक्तों की रेलमपेल शुरू हो गई जो दिनभर जारी रही। शिवालयों को पत्र-पुष्पों के साथ ही रंगबिंरगी रोशनी से सजाया गया। मंदिर में भगवान के जयकारे गूंजते रहे।
अमरख जी महादेव मन्दिर में गुरुवार को दर्शनार्थियों की रेलमपेल रही। मंदिर में भव्य सजावट की गई। भगवान का विशेष शृंगार किया गया। प्रातः दर्शन के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। शिव भक्तों ने माला-प्रसाद भेंट आदि अर्पित कर सुख-समृद्धि की कामना की। मंदिर परिसर को आकर्षक विद्युत रोशनी से सजाया गया।
रात को चारों पहर पूजा
शहर के शिवालयों में रात्रि को विशेष पूजन मनोरथ शुरू हुए। रात 10 बजे बाद से एकलिंगजी में शिवरात्रि के दर्शन हुए। चोरों पहर वैदिक मंत्रोच्चार के बीच शिवजी के अभिषेक कर अलग-अलग शृंगार धारण कराए गए। रात भर भजनकीर्तन की धूम रही। भक्तजन भजनों पर भावविभोर होकर देर रात तक थिरकते रहे।
एकलिंगनाथ के दर्शनों को उमड़े भक्त
मेवाड़ के आराध्यदेव कैलाशपुरी स्थित एकलिंगनाथ के दर्शनों के लिए भक्तों का रैला उमड़ पड़ा। दर्शनों के लिए शहर व ग्रामीण अंचल से बड़ी संख्या में भक्तजनों ने रात को ही कैलाशपुरी के लिए कूच किया। सुबह चार बजे मंगला के दर्शन खुलने से पूर्व ही हजारों भक्तजन मंदिर पहुंच गए। जैसे ही चार बजे पट खुले भक्तजन भोले भंडारी के जयकारे लगाते हुए दौड़ पड़े। भक्तजनों ने महादेव के दर्शन किए और घरों की ओर कूच किया। कैलाशपुरी में दिनभर भक्तों की रेलमपेल लगी रही। रात्रि में चारों पहर में एकलिंगनाथ के विशेष अभिषेक किए गए।
शिव-बाबा का जन्मदिन मनाया
ब्रह्माकुमारीज के स्थानीय केंद्र पर रीटा दीदी के सान्निध्य में शिव बाबा का जन्मदिन मनाया गया। इस अवसर राजयोग के माध्यम से मन को सदा स्वस्थ रखने का संकल्प किया गया। कार्यक्रम में एमपीयूएटी के कुलपति प्रो. उमाशंकर शर्मा भी मौजूद रहे। रीटा दीदी ने मन को शांत-शीतल रखने का अभ्यास भी करवाया। इधर, मेवाड़ किसान संघर्ष समिति की ओर से मनवाखेड़ा स्थित प्राचीन शिव मंदिर रेलेश्वर महादेव का अभिषेक किया गया। संघर्ष समिति संयोजक विष्णु पटेल ने बताया कि देवस्थान विभाग के अन्तर्गत प्राचीन शिव मंदिर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*