Saturday , 25 November 2017
Breaking News
Home » Udaipur » पार्षद का ‘अपनों’ पर ही प्रताडऩा का आरोप, आत्महत्या की दी धमकी

पार्षद का ‘अपनों’ पर ही प्रताडऩा का आरोप, आत्महत्या की दी धमकी

दलित होना बताया प्रताडऩा का कारण मण्डल अध्यक्ष-पदाधिकारियों ने किया प्रताडऩा से इंकार

उदयपुर। नगर निगम के भाजपा पार्षदों और मण्डल के पदाधिकारियों के बीच के विवाद अब खुलकर सामने आ रहे है, जिसमें एक भाजपा पार्षद बाबूलाल कटारा ने अपने मण्डल के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं की बार-बार धमकियां देने से पीडि़त होकर आत्महत्या करने की चेतावनी दी है। पार्षद ने आरोप लगाया कि अम्बेडकर मण्डल के पदाधिकारी उसके दलित होने पर बार-बार उसे प्रताडि़त कर रहे है और इस्तीफा देने का दबाव बनाया जा रहा है। अब तो पदाधिकारियों द्वारा दौड़ा-दौड़ा कर मारने की धमकी दी जा रही है और भाजपा के मण्डल अध्यक्ष सहित भाजपा के जिला पदाधिकारी भी कोई भी कार्यवाही नहीं कर रहा है।
जानकारी के अनुसार भाजपा अम्बेडकर मण्डल में वार्ड 7 के पार्षद बाबूलाल कटारा पर वार्ड के लोगों का काम नहीं करने का संगठन के ही पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं द्वारा सोशल मीडिय़ा पर बने विभिन्न व्हाट्स एप्प ग्रुप में आरोप लगाने पर पार्षद और मण्डल पदाधिकारियों के बीच का विवाद खुलकर सामने आ गया है। पार्षद बाबूलाल कटारा ने कहा कि वह दलित है और दलित होने के कारण कोई उसकी मदद नहीं कर रहा है। अम्बेड़कर मण्डल में महामंत्री और अन्य पदाधिकारियों ने कार्यकर्ताओं को बहला-फुसला रखा है और उसे परेशान किया जा रहा है। पार्षद ने बताया कि कई समय से उपर इस्तीफा देने का दबाव बनाया जा रहा है और नहीं देने पर पहले भी उसके साथ एक कार्यक्रम में उसी के भाजपा कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों ने मारपीट की थी। इसकी शिकायत देने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं की गई। मण्डल स्तर के नेताओं को मण्डल की शह प्राप्त है इसी कारण जिला पदाधिकारी भी कोई कार्यवाही नहीं कर रहे है।
पार्षद बाबूलाल कटारा ने आरोप लगाया कि मण्डल महामंत्री कमलेश जावरिया उससे व्यक्तिगत दुश्मनी निकाल रहा है और बार-बार सोशल मीडिया पर अपने समर्थकों के माध्यम से धमका रहा है। कुछ दिनों से उसके खिलाफ सोशल मीडिया पर मैसेज चलाया जा रहा है कि पहले तो केवल थप्पड़ मारा था अब तो दौड़ा-दौड़ा मारेंगे। इसी को लेकर पार्षद ने कहा कि यदि उसे इतना ही प्रताडि़त किया गया तो उसने आत्महत्या करने की चेतावनी दी है।
इधर इस मामले में जब अम्बेडकर मण्डल महामंत्री कमलेश जावरिया से बात की तो जावरिया ने स्पष्ट रूप से इसे मनगढ़ंत बताया है। जावरिया ने कहा कि कटारा गलत आरोप लगा रहा है। पूर्व में कटारा ने उसके खिलाफ मामला दर्ज करवाया था, जो जांच में गलत साबित हुआ था तो उसने जांच अधिकारी पर ही आरोप लगा दिया। जावरिया ने कहा कि कटारा के खिलाफ कई मामले चल रहे है और जिनकी जांच हो रही है। इसके बाद भी यदि मेरे खिलाफ कोई आरोप साबित हो जाता है तो मुझे संगठन से बाहर निकालकर कानूनी कार्यवाही की जा सकती है।
इधर इस मामले में अध्यक्ष अतुल चंडालिया से बात की तो उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा कि जब पार्षद बने है तो काम भी करना ही होगा। पार्षद बाबूलाल ने उनसे कभी भी मण्डल के पदाधिकारी की कोई शिकायत की है तो इस बारे में जिला पदाधिकारियों को बताया जा चुका है। जावरिया और कटारा के बीच में जो विवाद है उसे जिला पदाधिकारी दोनों को साथ बैठाकर सुलझाएं तो ठीक रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*