Tuesday , 17 October 2017
Breaking News
Home » Udaipur » पानी आने से निखरी झीलों की खुबसूरती पर लगा गंदगी का पैबंद

पानी आने से निखरी झीलों की खुबसूरती पर लगा गंदगी का पैबंद

उदयपुर। शहर की प्रमुख फतहसागर झील में बारिश के पानी के आवक के बाद बढ़े जलस्तर से निखरे स्वरूप पर झील के किनारों पर भारी मात्रा मेें फैली गंदगी से झील की खुबसूरती पर बदनुमा दाग लग रही है। हैरत की बात यह है कि प्रशासन और झील विकास प्राधिकरण की ओर से इस झील की सफाई को लेकर अभी तक कोई कदम नहीं उठाया गया है।
फतहसागर झील में बारिश के बाद से ही लगातार पानी की आवक जारी है और धीरे-धीरे फतहसागर का जलस्तर बढ़ा और नियत समय पर झरना भी शुरू हो गया। इधर जैसे-तैसे फतहसागर का जलस्तर बढ़ा तो झील में पड़ी गंदगी, जैसे खाली प्लास्टिक बोतले, शराब की बोतले, प्लास्टिक का कचरा सहित कई गंदगी भी पानी के साथ-साथ उपर उठी और झील के किनारों पर जमा होने लग गई। प्रमुख रूप से रानी रोड़ और होटल लेक हाउस के पास में गंदगी इतनी जमा हो चुकी है कि वहां पर पानी ही नजर नहीं आ रहा है। केवल खाली बोतलें और कचरा ही तैरता हुआ नजर आ रहा है।
हैरत की बात यह है कि फतहसागर झील को स्थानीय प्रशासन ने सिवरेज और प्रदूषण मुक्त घोषित किया हुआ है, इसके बाद भी यह स्थिति सामने आ रही है। झील के किनारों पर इतना कचरा और गंदगी फैली हुई है कि यहां पर आने वाला पर्यटक भी नाक भौंह सिकोड़कर निकलता है। झील में तो नावें चलती है, इसी कारण पानी मेें हिलौरे आने के कारण सारा कचरा एक तरफ एकत्रित हो रहा है। स्थानीय प्रशासन, निगम और यूआईटी यदि चाहे तो दोपहर को झीलों की सफाई करने वाले ठेकेदार कर्मचारियों के माध्यम से इस कचरे को बाहर निकलवाकर इस झील की खुबसूरती पर लग रहे धब्बे को हटा सकती है। वहीं झीलों को लेकर बने कई संगठनों को भी इस बारे में जानकारी तक नहीं है कि झील में इतनी गंदगी फैली है।
झील विकास प्राधिकरण भी कुछ नहीं कर पा रहा
इधर झीलों के संरक्षण के लिए बना झील विकास प्राधिकरण भी इस मामले में कुछ नहीं कर पा रहा है। ले दे के दो माह में इस प्राधिकरण की एक बैठक होती है, उसमें भी पहले से तय मामले ही उठते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*