Monday , 21 May 2018
Breaking News
Home » Udaipur » नेताओं के वादे के बावजूद नहीं बना मादड़ी-कालाभाटा तक नया मुख्य रोड

नेताओं के वादे के बावजूद नहीं बना मादड़ी-कालाभाटा तक नया मुख्य रोड

उदयपुर ग्रामीण विधायक के वार्ड में है सड़क

उदयपुर। शहर के वार्ड 31 में मादड़ी चौराहे से कालाभाटा और आगे कानपुर गांव तक मुख्य रोड बनाने का काम नेताओं के वादे होने के बावजूद शुरू नहीं हो सका है। यह सड़क नहीं बन पाने से स्थानीय वार्डवासियों के अलावा गांवों से आने-जाने वाले लोग और मादड़ी औद्योगिक क्षेत्र में आने-जाने वाले लोग रात-दिन परेशानी झेलते हैं।
कुछ समय पूर्व वार्ड में एक कार्यक्रम में आए गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया स्थानीय लोगों की मांग पर मादड़ी चौराहे से कालाभाटा तक एक किमी से अधिक लंबाई में नया मुख्य रोड बनाने का वादा कर गए थे। कटारिया ने कार्यक्रम में इस सड़क को बनाने की घोषणा की थी। इसके अलावा नगरीय विकास विभाग मंत्री श्रीचंद कृपलानी भी कार्यक्रम में आए थे और उन्होंने भी इस मार्ग को यूआईटी की मदद से बनवाने का आश्वासन दिया था। स्थानीय लोगों ने बताया कि मादड़ी चौराहे से कालाभाटा अथवा कानपुर तक मार्ग के दोनों और कच्ची पटरियां काफी चौड़ाई में हैं। वर्तमान सड़क की जगह नई चौड़ी सड़क बनाई जाए तो इस मार्ग से ग्रामीणों, शहरी और औद्योगिक क्षेत्र का ट्राफिक आसानी से गुजर सकेगा। अभी सड़क कई जगह संकरा होने और यातायात दबाव अधिक होने से आए दिन दुर्घटनाएं होती रहती हैं। यह मार्ग कई जगह उधड़ चुका है और इसके किनारे भी खराब होने से बड़े-बड़े गड्ढे पड़ गए हैं। बार-बार पेचवर्क करवाकर इसे चलने लायक बना दिया जाता है लेकिन वर्षाकाल में यह खतरों भरा मार्ग में तब्दील हो जाता है।गृहमंत्री कटारिया, मंत्री कृपलानी कर गए थे बनाने का वादाकम से कम 15 फीट चौड़ी बने सड़क
स्थानीय व्यापार मण्डल अध्यक्ष वदनसिंह राठौड़, युवा मण्डल अध्यक्ष शिवसिंह चौहान, बलवंत ओझा, सुरेश वैष्णव, यशवंत मेहता, वार्ड अध्यक्ष रामसिंह चूंडावत आदि ने बताया कि उक्त मार्ग फिलहाल कहीं 12 फीट तो कहीं 15 फीट है। जो भी एजेंसी इसे बनाए वो कम से कम 15 फीट चौड़ाई में बनाए, जिससे दोनों लेन पर यातायात आसानी से निकल सके।
चक्कर कटवा रहे यूआईटी, पीडब्ल्यूडी
स्थानीय नागरिकों ने बताया कि वे कई बार यूआईटी और पीडब्ल्यूडी से सड़क की जानकारी लेने गए तो यूआईटी ने बताया कि उसे सड़क पीडब्ल्यूडी से स्थानांतरित नहीं हो सकी है। जबकि पीडब्ल्यूडी ने बताया कि उसने यूआईटी को सड़क हस्तांतरित कर दी है। इस तरह से तीन साल हो गए हैं लेकिन सड़क निर्माण नहीं हो सका।मर चुके हैं मजदूर
इस खराब सड़क के कारण छह महीने पहले एक फैक्ट्री के तीन मजदूर ट्रक की चपेट में आने से मर चुके थे। तब सड़क पर बड़े गड्ढे में वाहन गिरने से वे ट्रक की चपेट में आकर कुचला गए थे। इस मार्ग से कानपुर, भोइयों की पचोली, लकड़वास, कलड़वास, उमरड़ा, झामरकोटड़ा आदि कई सटे हुए गांवों के लोग रात-दिन आवागमन करते हैं। जबकि शहरी क्षेत्र के लोगों का आवागमन अलग से होता है।नाबालिग का अपहरण
उदयपुर। जिले के वल्लभनगर थाना क्षेत्र में एक व्यक्ति ने युवक के खिलाफ नाबालिग का अपहरण कर ले जाने का मामला दर्ज करवाया है। पुलिस सूत्रों के अनुसार वल्लभनगर निवासी एक व्यक्ति ने आरोपी कीकावास निवासी बबलू पुत्र रामलाल सेन तथा मुकेश पुत्र शोभालाल सेन के खिलाफ मामला दर्ज करवाया कि १३ मई को पुत्री बिना बताए घर से चली गई थी। जिसकी तलाश करने पर पता चला कि आरोपी भी अपने घर से गायब चल रहा था। इस पर उसने आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज करवाया है। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*