Tuesday , 21 November 2017
Breaking News
Home » Udaipur » डॉ. दवे को क्लिनचिट, डॉ. ओपी मीणा पाए दोषी

डॉ. दवे को क्लिनचिट, डॉ. ओपी मीणा पाए दोषी

डॉ. दवे बहाल, डॉ. मीणा को दिया 16 सीसी का नोटिस

उदयपुर। अतिरिक्त संभागीय आयुक्त की अध्यक्षता में गठित टीम द्वारा डॉ. महेश दवे को क्लिनचीट देने पर राज्य सरकार ने उन्हें पुनः आरएनटी मेडिकल कॉलेज में पदस्थापित कर दिया है। उन्हे पुनः स्वाइन फ्लू वार्ड का नोडल प्रभारी भी लगाया गया। वहीं टीम ने पूर्व सांसद के भाई की पत्नी स्वाइन फ्लू से मौत के मामले में डॉ. ओपी मीणा को दोषी माना और उनके खिलाफ 16 सीसी के तहत कार्यवाही की अनुशंसा की। राज्य सरकार ने आरएनटी मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य को डॉ. मीणा के खिलाफ कार्यवाही कर रिपोर्ट सरकार को भेजने के निर्देश दिये। उधर डॉ. दवे के पुनः पद्भार ग्रहण करने पर डॉक्टर्स एसोसिएशन में हर्ष की लहर है।
उल्लेखनीय है कि उदयपुर के पूर्व सांसद एवं वरिष्ठ भाजपा नेता भानु कुमार शास्त्री की भाभी वन्दना शर्मा की मृत्यु के बाद सरकार ने दो जांच कमेटी नियुक्त की थी। एक जांच कमेटी प्रशासनिक एवं एक जांच कमेटी डाक्टर्स की बनाई गई। प्रशासनिक जांच कमेटी में एडीएम सिटी को संयोजक बनाया। उन्होंने जांच के दौरान डॉक्टर महेश दवे के बयान कलमबद्ध नहीं किए जबकि डाक्टर्स की गठित टीम के प्रभारी डॉ. सुरेश गोयल ने डॉक्टर महेश दवे के बयान तो लिये लेकिन पीड़िता के बयान नहीं लिये। दोनों की अपुष्ट जांच रिपोर्ट थी। गत आठ जुलाई को राज्य के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री कालीचरा सर्राफ उदयपुर प्रवास के दौरान भानू कुमार शास्त्री के निवास पर गए थे और उनकी पीड़ा सुनने के बाद तुरन्त प्रभाव से डॉ. महेश दवे को कार्यमुक्त कर जयपुर कर दिया। इसके बाद राजस्थान मेडिकल टिचर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. राहुल जैन के नेतृत्व में डॉक्टर्स की सभी छह एसोसिएशन लामबंद्ध होकर जिला कलेक्टर, संभागीय आयुक्त एवं सरकार से गुहार की और पुनः जांच कमेटी गठित कर मामले की निष्पक्ष जांच के लिए कहा गया। इस पर सरकार ने अतिरिक्त संभागीय आयुक्त डॉ. रूकमणी सिहाग की अध्यक्षता में कमेटी गठित की। तीन सदस्यीय कमेटी ने जांच के बाद रिपोर्ट सौंपी, जिसमें डॉ. महेश दवे को क्लिनचिट दी। रिपोर्ट में बताया कि डॉ. महेश दवे स्वाइन फ्लू वार्ड के नोडल अधिकारी है उनका उपचार पार्ट से कोई लेना-देना नहीं है। जिस दौरान वन्दना शर्मा अस्पताल में भर्ती थी उस दौरान डेलिकेटेट टीम प्रभारी डॉ. ओपी मीणा उपचार पार्ट देख रहे थे।ं टीम ने डॉ. ओपी मीणा के खिलाफ 16 सीसी की कार्यवाही की अनुशंषा की। इस पर राज्य सरकार ने आरएनटी मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. डीपी सिंह को डॉ. ओपी मीणा के खिलाफ 16 सीसी के तहत कार्यवाही कर जांच रिपोर्ट शीघ्र सरकार को भेजने के निर्देश दिये।
उधर राज्य सरकार ने पदस्थापना में चल रहे डॉ. महेश दवे को पुनः आरएनटी मेडिकल कॉलेज में बहाल कर दिया और उनके पास जो विभाग पूर्व में थे वे यथावत रखे। सरकार के आदेश के बाद गुरूवार को डॉ. महेश दवे ने पुनः कार्यभार संभाल कर लिया। सरकार के इस आदेश से डॉक्टर्स में हर्ष की लहर है।पूर्व सांसद की शिकायत पर हुई थी कार्यवाही
जानकारी के अनुसार भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व सांसद भानुकुमार शास्त्री के भाई की पत्नी को स्वाईन फ्लू वार्ड में भर्ती करवाया गया था। जहां पर चिकित्सकों ने स्वाईन फ्लू नहीं बताते हुए सामान्य वार्ड में शिफ्ट कर दिया था। जहां पर कुछ दिनों तक उपचार चलने के बाद परिजन उन्हें अहमदाबाद लेकर गए थे। जहां के चिकित्सकों ने स्वाईन फ्लू बताते हुए उपचार के शुरू किया था और उन्होंने उपचार के दौरान ही दम तोड़ दिया था। इसके बाद भानुकुमार शास्त्री ने प्रदेश सरकार को पत्र लिखकर शिकायत की थी। इसके बाद सरकार ने डॉ. दवे को जयपुर भेज दिया था।इनका कहना है हमारा संघर्ष रंग लाया और सरकार द्वारा मामले की निष्पक्ष जांच के बाद डॉ. महेश दवे को क्लिनचीट मिली और उन्होंने आज कार्यभार संभाल लिया।
– डॉ. राहुल जैन, अध्यक्ष, आरएनटीएमुझे अपने पर पूरा भरोसा था और यह सच्चाई की जीत हुई है। उदयपुर की जनता हमेशा से मेरे साथ रही है और रहेगी।
– डॉ. महेश दवेसरकार की ओर से डॉ. दवे की बहाली के आदेश मिले। उन्होंने पुनः कार्यभार संभाल लिया है। सरकार की ओर से डॉ. ओपी मीणा के खिलाफ कार्यवाही के निर्देश मिले है।
– डॉ. डीपी सिंह, प्राचार्य, आरएनटी मेडिकल कॉलेज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*