Sunday , 24 September 2017
Breaking News
Home » Udaipur » टेक्नो कॉलेज के डायरेक्टर को चाकू मारकर छात्र ने की आत्महत्या

टेक्नो कॉलेज के डायरेक्टर को चाकू मारकर छात्र ने की आत्महत्या

उदयपुर। टेक्नो इण्डिया एनजेआर इंजिनियरिंग कॉलेज के डायरेक्टर पर आईटी के फाइनल ईयर छात्र ने कमरे में घुसकर चाकू से हमला कर घायल कर दिया और उसके बाद कॉलेज से भागकर पिछोला में कूदकर आत्महत्या कर ली। इस घटना के बाद से मृतक के परिजनों में आक्रोश व्याप्त है।
मिली जानकारी के अनुसार टेक्नो इण्डिया एनजेआर कॉलेज में डायरेक्टर देवाली निवासी चन्द्रशेखर (61) पुत्र रामेश्वर व्यास अपने कक्ष में बैठे हुए थे। इसी कॉलेज में आईटी के फाइनल ईयर के छात्र फलासिया बस स्टेण्ड हाल हिरण मगरी सेक्टर चार निवासी भाविक जैन (24) पुत्र महेन्द्र चम्पावत दोपहर को अपना बेग लेकर डायरेक्टर के कक्ष के बाहर अकेला घुम रहा था। करीब डेढ बजे उसे लगा कि डायरेक्टर के कक्ष में कोई नहीं है तो वह अन्दर घुसा और अपने बेग से बड़ा सा चाकू निकाला और डायरेक्टर पर ताबड़-तोड वार करने लगा। उधर कमरे में एक छात्रा बैठी हुई थी। उसने रोकने का प्रयास किया लेकिन छात्र भाविक ने उसे धक्का दे दिया। इस पर वह चिल्लाती हुई कक्ष से बाहर आई। कॉलेज के कर्मचारी व अन्य स्टाफ भागकर कक्ष में आए तब तक भाविक जैन बेग व चाकू लेकर कॉलेज से भाग गया। इस घटना से कॉलेज में हड़कम्प मच गया। डायरेक्टर की गर्दन व पंसलियों में चाकू लगने से गंभीर घायल हो गए। तुरन्त कॉलेज स्टाफ उन्हें घायल अवस्था में पास ही स्थित एक निजी चिकित्सालय में ले गए। जहां उनका उपचार शुरू किया गया। घायल डायरेक्टर की हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है।
उधर इस घटना के बाद भाविक जैन कॉलेज से भाग कर सीधा पिछोला झील के अमराई वाले छोर पर पहुंचा। जहां पर अपरान्ह बाद उसका शव तैरते हुए लोगों ने देखा। वहां मौजूद लोगों ने तुरन्त बाहर निकाला। उसके पास मिले कागजों से उसकी शिनाख्त भाविक के रूप में की और उसे सोशल मिडिया पर डाली। सोशल मिडिया से भाविक के साथ रहे रहे उसके बड़े भाई दिव्यांग जैन और उनके उदयपुर में रह रहे परिजन, भाजपा नेता जयेश चम्पावत को जानकारी मिली। उधर पुलिस छात्र को लेकर एमबी चिकित्सालय के आपातकालीन ईकाई पहुंची। जहां चिकित्सकों ने प्राथमिक जांच के बाद मृत घोषित कर दिया। शव को एमबी चिकित्सालय के मुर्दाघर में रखवाया। उधर सूचना मिलने पर भाजयुमो के पूर्व शहरजिलाध्यक्ष जिनेन्द्र शास्त्री व समाज के अन्य लोग अस्पताल में एकत्र हो गए। घटना की सूचना गांव में मृतक के पिता महेन्द्र चम्पावत व माता को दी। उनके आने के बाद ही शव का बुधवार को पोस्टमार्टम होगा। परिजन देर शाम को उदयपुर आ गए।डायरेक्टर करता था परेशान
उदयपुर में भाविक अपने बड़े भाई दिव्यांग जैन के साथ किराए के कमरे में रह रहा था। उसके भाई ने आरोप लगाए कि डायरेक्टर उसे मानसिक रूप से प्रताडि़त कर रहा था। भाई ने मुझे बताया कि डायरेक्टर चन्द्रशेखर व्यास उसे कहता था कि तूझे इन्टर्नशिप यहीं से करनी होगी। तुझे प्लेसमेंट में बैठने नहीं दूंगा। देखता हूॅ कौन कम्पनी तूझे प्लेसमेंट देती है। इसका भाई एमबी हॉस्पीटल में टीबी क्लिनिक में नौकरी करता है। वह काफी दिनों से डायरेक्टर के टॉर्चर से प्रताडि़त हो चुका था। बार-बार उसे यहीं धमकी देता था कि ट्रेनिंग यहीं से करनी होगी। आज दोपहर को जब उसने डायरेक्टर की ज्यादतियों से परेशान होकर उस पर हमला उसके बाद मुझे इसकी सूचना मिली। मैने अपने भाई के मोबाईल पर कई बार फोन किए। लेकिन उसने कोई जवाब नहीं दिया तो मैं अश्विनी बाजार में रहने वाले अपने रिश्तेदार जयेश चम्पावत के पास गया और उन्हें इस बारे में जानकारी दी। उसने बताया कि मैरो भाई काफी भावुक है और घटना के बाद कोई अनहोनी कर सकता है और आखिरकार वहीं हुआ और उसने पानी में कूदकर आत्महत्या कर ली। मेरे भाई की मौत का जिम्मेदार कॉलेज का डायरेक्टर है। घटना की रपोर्ट हिरण मगरी थाने में डायरेक्टर चन्द्रशेखर व्यास की और से दर्ज की गई। पुलिस अग्रिम कार्यवाही करती उससे पहले ही छात्र के मौत की सूचना मिली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*