Thursday , 21 June 2018
Breaking News
Home » Udaipur » झील में फिर फूूटे सिवरेज के फव्वारे

झील में फिर फूूटे सिवरेज के फव्वारे

दिन भर लगी रही नगर निगम की टीम, परन्तु नहीं मिली सफलता

उदयपुर। शहर के चंादपोल क्षेत्र में सोमवार को पहली बार झील की दीवार से सिवरेज के फव्वारे फूटकर झील में समाहित होते हुए नजर आए। जिस क्षेत्र में यह फव्वारे फूट रहे थे, उस क्षेत्र में 40 वर्ष पुरानी सिवरेज लाईन है। झील में गिर रहे सिवरेज को बंद करने के लिए नगर निगम से टीम भी आई और दिन भर प्रयास के बाद भी इन फव्वारो को बंद नहीं कर पाई।
जानकारी के अनुसार वर्र्तमान में झील की ऐतिहासिक दीवार को गिराकर पर्यटकों के लिए रोड़ से से ही पिछोला झील का नजारा दिखे ऐसा बनाया जा रहा है। चांदपोल से गडिया देवरा रोड़ पर झील की दीवार को गिरा दिया है और उसके स्थान पर मात्र दो फिट की दीवार ही रही है। सोमवार सुबह पहली बार जहां पर दीवार गिराई गई वहां से सिवरेज के फव्वारे फूटते हुए नजर आए। यह देखकर झील विकास प्राधिकरण के सदस्य तेजशंकर पालीवाल ने स्वास्थ्य अधिकारी नरेन्द्र श्रीमाली को बताया। पालीवाल ने बताया कि चांदपोल से गड़िया देवरा तक 40 वर्ष पुरानी पत्थरों से बनी सिवरेज लाईन है। चांदपोल से गड़िया देवरा तक के 90 मीटर के टुकड़े को वर्ष 2006 में डाली सिवरेज लाईन से नहीं जोड़ा गया था। इसी कारण इस क्षेत्र का सिवरेज इसी जर्जर लाईन से ही नई लाईन में लिफ्ट करवाया जा रहा है।
जब दीवार को गिराया गया तो इस जर्जर सिवरेज लाईन से सिवरेज के फव्वारे फूटते हुए नजर आने लगे। जो पहली बार किसी ने देखे थे। झील विकास प्राधिकरण सदस्य पालीवाल की सूचना पर निगम से अधिकारी और और मौका-मुआयना कर तत्काल काम शुरू किया गया। इस दौरान जैटिंग मशीन से दो टैंकर पानी को पूरी स्पीड़ के साथ पुरानी लाईन में छोड़ा गया, ताकि आगे कहीं पर सिवरेज चौक हो तो उसे हटाया जा सकें, परन्तु ऐसा नहीं हो पाया। दिनभर चली मशक्कत के बाद भी सफलता नहीं मिल पाई अब मंगलवार को फिर से काम किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*