Monday , 21 May 2018
Breaking News
Home » Udaipur » एटीएम लुटेरों का सुराग नहीं लेकिन दावा शीघ्र खुलासे का

एटीएम लुटेरों का सुराग नहीं लेकिन दावा शीघ्र खुलासे का

  • नकाब खुलने वाले लुटेरे का फोटो वायरल
  • मध्यप्रदेश, हरियाणा, अलवर में भेजी पुलिस की टीमें
  • साईबर सेल मोबाइल टावर से जांच में जुटी

उदयपुर। जिले में गुरुवार-शुक्रवार की मध्यरात्रि को पुलिस को धत्ता बता कर मात्र साढ़े तीन घंटे में गैस कटर से एटीएम काट कर 24 लाख 63 हजार 700 रूपए लूटने वाले लुटेरों का कोई सुराग नहीं लगा है, हालांकि पुलिस ने शीघ्र ही इस लूट का खुलासा करने का दावा किया है। इधर लूट के दौरान जिस लुटेरे का नकाब खुल गया था, उसका फोटो पुलिस ने अपने ही विभाग में वायरल कर तलाश शुरू कर दी है। उधर, पुलिस इस मामले में पूर्व की घटनाओं को देखते हुए जांच में जुट गई है। हरियाणा, मध्यप्रदेश व अन्य जिलों में भी टीमें भेजी है।
डबोक थाने के ठीक सामने ललित सर्विस सेंटर पेट्रोल पम्प के पास स्थित एसबीआई के एटीएम को काट कर अज्ञात लुटेरे 18 लाख 65 हजार 700 रूपए लूट कर ले गए। इससे पूर्व हिरणमगरी थाना क्षेत्र में तितरड़ी में एसबीआई को काटकर 5 लाख 98 हजार रूपए ले गए थे। मामले में जिला पुलिस अधीक्षक राजेन्द्र प्रसाद गोयल ने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर हर्ष रत्नू और अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक जिला नारायणसिंह के नेतृत्व में चार-चार टीमों का गठन किया। दोनों ही वारदातों को अंजाम जिन लूटेरों ने दिया वे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गए। वारदात के दौरान एक लूटेरे का नकाब खुल गया था, जिससे उसकी पहचान करने का प्रयास किया जा रहा है। पूरे देशभर में फोटोग्राफ्स को इंटरनेट के जरिये पुलिस की विशेष वेबसाइट पर जारी कर दिया है। जिस बॉटल ग्रीन कलर की स्कॉर्पियो गाड़ी उपयोग में ली उस गाड़ी की वीडियो क्लिप भी वायरल कर दी गई है। प्रथम दृष्टया वारदात को अंजाम देने वाले हरियाणा या राजस्थान के अलवर क्षेत्र की गैंग होने की सम्भावना प्रतीत हो रही है। एक टीम मध्यप्रदेश, हरियाणा, अलवर, जयपुर की तरफ भेजी गई है। हिरणमगरी थानाधिकारी व डबोक थानाधिकारी इस मामले की जांच में जुटे हुए है। पूर्व में एटीएम उखाड़ कर बीकानेर में पकड़े गए आरोपियों का भी पता लगाया जा रहा है कि वे जमानत पर छूटे है या नहीं। उधर, गैस कटर से एटीएम काटने की घटनाएं इससे पूर्व हरियाणा व बीकानेर में हो चुकी है। उस आधार पर जांच की जा रही है। पुलिस अधिकारियों की शनिवार को विशेष बैठक हुई जिसमें लूट की दोनों वारदातों की वीडियो क्लिपिंग को ध्यान से देखा उनमें दोनों ही वारदातों को अंजाम देने वाले एक ही गैंग के लूटेरे नजर आ रहे थे, जिस तरह उन्होंने वारदात को अंजाम दिया वह देखकर पुलिस अधिकारियों का माथा भी ठनक गया। हरियाणा, मध्यप्रदेश, जयपुर, अलवर व अन्य पड़ौसी राज्यों में इस तरह की वारदातें पूर्व में हुई हो उसका पता लगाया जा रहा है और अब तक इस तरह की कोई गैंग का खुलासा हुआ या नहीं उसकी भी जांच की जा रही है। पुलिस अधिकारियों को विश्वास है कि शीघ्र ही एटीएम को लूटने वाली गैंग का पटाक्षेप कर दिया जाएगा। इसके साथ ही जिन दोनों घटनास्थल पर वारदातें हुई उस एरिये में जितने भी मोबाइल कम्पनियों के टावर लगे हुए वहां से लूट की घटना के दौरान जो भी फोन कॉल हुए उनकी डिटेल को खंगाला जा रहा है। साईबर सेल इस पर विशेष रूप से जुट गई है। पुलिस चारों तरफ से जांच में जुटी हुई है।
कार के नम्बर निकले फर्जी
इधर सीसीटीवी फुटेज में स्कार्पियों के जो नम्बर आ रहे है उस आधार पर जांच की तो सामने आया कि उक्त नम्बर जयपुर में किसी ईनोवा कार के है और यह कार उसके मालिक के पास है। पुलिस का कहना है कि आरोपियों के पास मौजूद स्कार्पियों संभवतया चोरी की भी हो सकती है।
लूट के बाद मंगलवाड़ टोल नाका पार किया
पुलिस अधिकारियों के अनुसार चोरों ने रात्रि को डबोक में एटीएम को काटने के बाद मंगलवाड़ टोल नाके को रात्रि को ही पार कर लिया। वहां के सीसीटीवी फुटेज में इस स्कार्पियों के नम्बर आ रहे है। हालांकि स्कार्पियों में सवार युवक का चेहरा साफ नजर नहीं आ रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*