Thursday , 18 January 2018
Breaking News
Home » Udaipur » अम्बेडकर मण्डल अध्यक्ष और वार्ड 7 पार्षद का विवाद और गहराया

अम्बेडकर मण्डल अध्यक्ष और वार्ड 7 पार्षद का विवाद और गहराया

  • बिना पार्षद के मण्डल अध्यक्ष का वार्ड दौरा
  • विरोध पर कहा आगे भी 50 बार करूंगा
  • दलित होने के कारण नहीं बुलाते
  • मैं भी अल्पसंख्यक, समस्या है पर पार्षद को समय नहीं

उदयपुर। नगर निगम के वार्ड 7 पार्षद और अम्बेडकर मण्डल अध्यक्ष के बीच में एक बार फिर से विवाद गहरा गया है। जिसमें इस बार मण्डल अध्यक्ष ने अपने मण्डल महामंत्री के साथ मिलकर निगम की निर्माण समिति अध्यक्ष का वार्ड 7 का दौरा बिना पार्षद को सूचना दिए करवा दिया। जिस पर पार्षद ने स्पष्ट रूप से कहा कि वह दलित है, इसी कारण उपेक्षा की जा रही है। वहीं मण्डल अध्यक्ष ने कहा कि वह भी अल्पसंख्यक है और किसी भी वर्ग का उपेक्षा नहीं कर रहे है। 50 बार आगे भी करवाया जाएगा।
जानकारी के अनुसार वार्ड 7 से भाजपा पार्षद बाबूलाल कटारा है और यह वार्ड अम्बेडकर मण्डल के अन्तर्गत आता है। अम्बेडकर मण्डल अध्यक्ष अतुल चंडालिया है जो स्वयं वार्ड 1 से पार्षद है। मण्डल अध्यक्ष अतुल चंडालिया और पार्षद बाबूलाल कटारा के बीच में कई समय से लगातार विवाद चल रहा है। जिसमें पूर्व में भी कई बार एक-दूसरे के खिलाफ बयानबाजी की जा चुकी है। नया विवाद गुरूवार को जन्मा। मण्डल अध्यक्ष अतुल चंडालिया ने मण्डल महामंत्री कमलेश जावरिया के कहने पर निर्माण समिति अध्यक्ष को फोन कर वार्ड 7 में बुलाया और वार्ड का दौरा करवाकर वार्ड में व्याप्त समस्याओं को बताया। मण्डल अध्यक्ष चंडालिया ने इस बारे में वार्ड पार्षद बाबूलाल कटारा को बताया तक नहीं। जब बाबूलाल कटारा को इस बारे में पता चला तो उन्होंने भाजपा शहर जिलाध्यक्ष दिनेश भट्ट को अपनी पीड़ा बताने के लिए फोन किया तो भट्ट ने फोन ही नहीं उठाया।
इधर इस बारे में वार्ड 7 पार्षद बाबूलाल कटारा से बात की तो कटारा ने कहा कि मैं वार्ड का पार्षद हूं परन्तु दलित होने क कारण मुझे नहीं बुलाया। यह पहली बार नहीं हुआ है पहले भी इस तरह से कुछ कार्यक्रमों में हो चुका है। पहले भी संजय गार्डन से पुलिस मटर्र तक रोड़ डामरीकरण में मेरे को नहीं बुलाया गया। कटारा ने कहा कि कई बार शिकायत करने का प्रयास किया, परन्तु कोई भी सुनवाई नहीं कर रहा है। निर्माण समिति को चाहिए था कि वह फोन कर बुलाए, परन्तु ऐसा नहीं किया गया। दलित होने के कारण उपेक्षा की जा रही है। कटारा ने कहा कि मण्डल अध्यक्ष चंडालिया बार-बार यह आरोप लगाते है कि मैं फोन नहीं उठाता हूं, जबकि बुधवार शाम को हम दोनों साथ में थे, उस दौरान भी कह सकते थे।
इधर इस बारे में जब मण्डल अध्यक्ष अतुल चंडालिया से बात की तो उन्होंने कहा कि बार-बार बाबूलाल कटारा आरोप लगाता है कि वह दलित है। मण्डल अध्यक्ष ने कहा कि क्या वह मेरा पदाधिकारी है या कोई बड़ा नेता, जो उसे मैं बार-बार फोन करूं। मैं भी अल्पसंख्यक हूं और आज दिन तक मेरी किसी ने उपेक्षा नहीं की। उसे पूर्व में भी पचासों बार फोन किया गया, परन्तु वह फोन ही नहीं उठाता है। इसी कारण नहीं सूचना दी। चंडालिया ने कहा कि यदि उसके वार्ड के कार्यकर्ता पिछले कई दिनों से लगातार मुझे फोन कर समस्याएं बता रहे है और इसी कारण मैंने निर्माण अध्यक्ष को बुलाया। यदि पार्षद कटारा पहले ही कार्यकर्ताओं की सुन लेता तो आज यह स्थिति नहीं होती। चंडालिया ने कहा कि मेरे मण्डल के किसी भी वार्ड में यदि किसी भी तरह की समस्या हुई तो मैं एक बार नहीं 50 बार बिना पार्षद बताएं निगम के नेताओं दौरा करवाउंगा, जिसे जहंा पर शिकायत करनी है वह करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*