Tuesday , 27 June 2017
Top Headlines:
Home » Twitter » Twitter : Suresh Goyal

Twitter : Suresh Goyal

Views:
57
  • कश्मीर में शहीद पुलिसवालों को श्रद्धांजलि देने सत्ता पक्ष तथा विपक्ष का एक बन्दा तक नहीं …. शर्मनाक! … धिक्कार है!!
  • कश्मीर में शहीद पुलिसवालों को श्रद्धांजलि देने सत्ता पक्ष तथा विपक्ष का एक बन्दा तक नहीं …. शर्मनाक! … धिक्कार है!!
  • लगता है इन आतंकवादियों की सेना से पिटाई बढती जा रही है … तभी तो बदहवासी में पुलिसवालों को मारने लगे ……
  • पत्थरबाजों? … देख लो आतंकवादियों का असली चेहरा! … अब तो वे तुम्हारे भाईबन्दों को भी नहीं छोड़ रहे!!
  • लालू के बेटे का पेट्रोल पम्प रद्द … तभी लालू मीडिया पर भड़क रहा…
  • रोजी रोटी दिलाने का एहसान मानों … सुना? राजदीप! बरखा!!
  • दार्जिलिंग की स्थिति बिगड़ रही … ममता? … गोरखे प्रखर राष्ट्रभक्त हैं … इन्हें हिंसा पर मजबूर मत करो
  • मोदी की बड़ी सफलता … स्विस खातों के विवरण मिल सकेंगे … वो तो 2019 के बाद से है … तब तक तो माल इधर उधर हो जायगा
  • आयकर संग्रह में 26 प्र.श. वृद्धि … मगर सब तो कह रहे – धन्धे चौपट हो गये, नोटबन्दी ने इकोनोमी की वाट लगा दी….
  • 20 जून को द्रोपदी का जन्म दिन …. मोदी? … कोई तोहफा?
  • हिन्दुओं के हत्यारे को केरल का मुख्यमंत्री बनाने वाला सीताराम येचुरी कह रहा – राष्ट्रपति प्रत्याशी सेकूलर होना चाहिये ……
  • येचुरी? … वैसे असदुद्दीन औवेसी कैसा रहेगा? … उससे बढिया सेकूलर कौन होगा?
  • कविराज के दिन लद गये? … आप पार्टी में कुमार विश्वास के खिलाफ जबर्दस्त पोस्टरबाजी ….. बापड़ा!
  • अभी तो इन्दु सरकार का टे्रलर ही आया है जिसमें मुखदस्त शुरू हो गई …. फिल्म रिलीज होगी तब क्या होगा? ……
  • 84 के सिख नरसंहार तथा 89 के कश्मीरी पंडितों के कत्लेआम के खिलाफ भी फिल्में बननी चाहियें!
  • साध्वी सरस्वती ने गो भक्षों को सरे आम लटकाने की मांग क्या कही सेकों ने सियापा शुरू कर दिया ……..
  • जब बरकटिये जैसे मुल्ले और अंसारी जैसे कांग्रेस नेता फतवे जारी करते हैं तब इनकी घिग्घि बंध जाती है
  • पाकिस्तान में स्टेडियम का नाम गद्दाफी, हवाई अड्डे का नाम जिनपींग … कोई योग्य नेता हुआ ही नहीं? … टुकडख़ोर जो हैं!
  • कब तक ये सामन्ती सम्बोधन चलेंगे? … जजों को माईलोर्ड और मंत्रियों को होनरेबल कहना कब रूकेगा?
  • सती प्रथा कभी किसी हिन्दु कानून में नहीं थी … वेद तो विधवा विवाह को प्रोत्साहन देते थे ….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*