Thursday , 18 January 2018
Breaking News
Home » Technology » धार्मिक संगठनों ने भी रैली में जाने से किया इंकार, फिर भी मैसेजों की बाढ़

धार्मिक संगठनों ने भी रैली में जाने से किया इंकार, फिर भी मैसेजों की बाढ़

उदयपुर में एक बार फिर से साइबर कफ्र्यू

उदयपुर। राजसमंद में हुई एक हत्या के बाद बिगड़ते माहौल और बढ़ते तनाव को देखते हुए आखिरकार बुधवार को जिला प्रशासन ने जिले में 24 घंटे के लिए इंटरनेट सेवाओं और जिले में धारा 144 लगाने की घोषणा कर ही दी। जिस हिन्दू संगठन के उपदेश राणा ने 14 दिसम्बर को उदयपुर में एक रैली की घोषणा की थी उसको लेकर पुलिस अधिकारियों ने स्थानीय संगठनों की बैठक ली तो स्थानीय संगठन के नेताओं ने रैली में जाने से ही इंकार कर दिया।
जानकारी के अनुसार राजसमंद में अफराजुल खान की वहीं के शंभूलाल रैगर ने नृशंस हत्या कर दी थी। हत्या के बाद शंभूलाल रैगर ने सोशल मीडिया पर कई विडियों अपलोड किए थे, जिसके बाद से ही तनाव का माहौल बना हुआ था। पिछले कई दिनों से जिले के पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा जिले में शांति को कायम रखने के लिए कई तरह के प्रयास किए जा रहे थे। इसी बीच एक हिन्दू संगठन के नेता उपदेश राणा का सोशल मीडिया पर एक विडियों वायरल हुआ, जिसमें कथित तौर पर उसने 14 दिसम्बर को उदयपुर में आकर एक रैली निकालने की घोषणा की थी। इस रैली में उसने स्थानीय लोगों के भी जुडने का आव्हान किया था।
इसके बाद से ही पुलिस और प्रशासन ओर भी सतर्क हो गया था और बार-बार दोनों समुदायों के मौतबीरों और धार्मिक संगठनों से लगातार सम्पर्क कर रहे थे ताकि साम्प्रदायिक सौहार्द ना बिगड़े। 14 दिसम्बर के एक दिन पूर्व बुधवार को पुलिस अधीक्षक राजेन्द्र प्रसाद गोयल ने शहर के सभी हिन्दू संगठनों के पदाधिकारियों की बैठक ली और इस बैठक में उपदेश राणा की रैली के बारे में पूछा। इस पर सभी धार्मिक संगठनो के पदाधिकारियों ने इस रैली में जाने से साफ इंकार कर दिया। अधिकांश तो इस बात पर थे कि वे शहर की शांति खराब नहीं करना चाहते है।
इसके बाद भी बुधवार शाम को कथित रूप से इस रैली को लेकर सोशल मीडिया पर मैसेज की बाढ़ सी आ गई थी। जिसकी लगातार जानकारी पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को मिलने पर बुधवार को जिले के वरिष्ठ पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की एक बैठक हुई और इस बैठक में अधिकारियों ने निर्णय लिया कि जिले में धारा 144 लागू कर दी जाए और जिले में 24 घंटे के लिए इंटरनेट सेवाओं पर भी रोक लगा दी जाए। इसके बाद प्रशासनिक और पुलिस अधिकारियों ने यह आदेश जारी किए।शहर में बढ़ी पुलिस गश्त
रात्रि को जिला मजिस्ट्रेट की ओर से जैसे ही जिले में धारा 144 लागू करने के आदेश जारी किए तो शहर में पुलिस गश्त तेज हो गई। शहर के विभिन्न क्षेत्रों में भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। पुलिस के साथ-साथ विभिन्न आरएसी, एमबीसी, एसटीएफ सहित कई कंपनियों के जवानों को भी तैनात किया गया है। जानकारी के अनुसार संवेदनशील स्थानों पर संबंधित थानाधिकारियों को समय-समय पर राउण्ड लेने के लिए आदेश दिए है।
निर्धारित समय पर करवाए बाजार बंद
जानकारी के अनुसार शहर में रात्रि को अक्सर देर तक दुकानें खुली रहती है, परन्तु प्रशासनिक अधिकारियों की ओर से आदेश जारी करते ही पुलिस अधिकारियों ने गश्त तेज कर दी और बाजारों को बंद करवाना शुरू कर दिया। विशेषकर शहर में विभिन्न स्थानों पर बीड़ी, सिगरेट और पान के गल्लों को बंद करवाया गया।
व्यापारियों को करना पड़ेगा परेशानियों का सामना
जिले में 24 घंटे तक नेट बंद होने के कारण व्यापारियों को परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। आधुनिक युग में सारा व्यवसाय इंटरनेट पर ही आधारित है। ऐसे में इंटरनेट नहीं चलने से व्यवसाय हो नहीं पाएगा और व्यापारी दिनभर परेशान होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*