Thursday , 23 November 2017
Breaking News
Home » Sports » 6 बार के चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को हरा भारत फाइनल में

6 बार के चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को हरा भारत फाइनल में

डर्बी। तूफानी बल्लेबाज हरमनप्रीत कौर की नाबाद 171 रन की पारी की बदौलत भारतीय टीम ने आईसीसी महिला वल्र्डकप के सेमीफाइनल मुकाबले में 6 बार की चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को 36 रन से हरा दिया। इस जीत के साथ भारतीय टीम ने प्रतियोगिता के फाइनल में जगह बना ली है जहां उसका मुकाबला 23 जून को मेजबान इंग्लैंड से होगा। भारतीय टीम ने दूसरी बार महिला वल्र्डकप के फाइनल में स्थान बनाया है इससे पहले वह 2005 में फाइनल में पहुंची थी।
हरमनप्रीत की 20 चौकों और 7 छक्कों से सजी शतकीय पारी की बदौलत भारतीय टीम ने निर्धारित 42 ओवर में 4 विकेट पर 281 रन बनाए। जवाब में ऑस्ट्रेलिया टीम 245 रन ही बना सकी। बारिश की बाधा के कारण मैच में ओवर की संख्या घटाकर 42-42 कर दी गई थी। ऑस्ट्रेलिया के लिए एलिसे वेलिनी ने 75 और एलेक्स ब्लैकवेल ने 90 रन की साहसिक पारी खेली लेकिन यह टीम को जीत दिलाने के लिहाज से नाकाफी साबित हुई।
भारत के विशाल स्कोर के जवाब में ऑस्ट्रेलिया को मजबूत शुरूआत की जरूरत थी, लेकिन शिखा पांडे ने पारी के दूसरे ही ओवर में बेथ मूनी (1) को आउट करके यह नहीं होने दिया। मूनी को शिखा ने बोल्ड किया। ऑस्ट्रेलिया का दूसरा और तीसरा विकेट भी जल्द ही गिर गया। कप्तान मेग लेनिंग (0) को झूलन गोस्वामी ने बोल्ड कर दिया जबकि निकोल बोल्टन (14) दीप्ति शर्मा का शिकार बन गई। दस ओवर के पहले ही ऑस्ट्रेलिया टीम तीन विकेट गंवाकर मुश्किल में फंस गई। 21 रन के स्कोर तक 3 विकेट गिरने के बाद भी ऑस्ट्रेलिया ने एलिसे पैरी और एलिसे विलानी के जरिये अपना संघर्ष जारी रखा। इन दोनों में से विलानी ज्यादा आक्रामक नजर आईं। उन्होंने इस दौरान करियर का तीसरा अर्धशतक पूरा किया। जब यह जोड़ी भारत के लिए खतरनाक बन रही थी तभी स्पिनर राजेश्वरी गायकवाड़ टीम के लिए महत्वपूर्ण सफलता लेकर आई। उन्होंने एलिसे विलानी (75 रन, 58 गेंद, 13 चौके)को मिडऑन पर स्मृति मंधाना से कैच कराया। ऑस्ट्रेलिया का चौथा विकेट 126 के स्कोर पर गिरा। ऑस्ट्रेलिया टीम का पांचवां विकेट एलिसे पैरी के रूप में गिरा जिन्हें 38 रन (56गेंद, तीन चौके) के निजी स्कोर पर शिखा पांडे ने विकेटकीपर सुषमा वर्मा से कैच कराया। ऑस्ट्रेलिया टीम का छठा विकेट एलिसा हिली और सातवां विकेट ए. गार्डनर के रूप में गिरा। हिली को झूलन गोस्वामी ने शिखा पांडे से कैच कराया जबकि गार्डनर को पूनम यादव की गेंद पर मिताली राज ने कैच किया। आठवें विकेट के रूप में जेस जोनासन रन आउट हुईं।
इससे पहले मैच में बैटिंग करने उतरी भारतीय टीम की शुरूआत बेहद निराशाजनक रही और पहले ही ओवर में टीम को स्मृति मंधाना (6) के रूप में महत्वपूर्ण विकेट गंवाना पड़ा। इस ओवर की दूसरी गेंद पर स्मृति ने चौका लगाया था लेकिन आखिरी गेंद पर उन्हें विकेट गंवाना पड़ा। मंधाना को शुट की गेंद पर विलिनी ने कैच किया। पहला विकेट गिरते समय टीम के खाते में महज छह रन जुड़े थे। इसके बाद पूनम राउत और मिताली राज ने दूसरे विकेट के लिए 29 रन जोड़े। 35 रन के स्कोर पर पूनम राउत (14) भी आउट हो गईं। पारी के 10वें ओवर में उन्हें गार्डनर ने बैथ मूनी से कैच कराया। टीम का स्कोर उस समय 35 रन था। इसके बाद हरमनप्रीत ने स्कोर को गति देने दी। उन्होंने शुट के ओवर में दो चौके भी लगाए। 15 ओवर के बाद भारत का स्कोर दो विकेट खोकर 55 रन था। कप्तान मिताली 36 रन पर आउट हुईं और वनडे में अपना 50वां अर्धशतक बनाने से चूक गईं। उन्हें क्रिस्टन बीम्स ने बोल्ड किया। भारतीय कप्तान ने अपनी पारी के दौरान 61 गेंदों का सामना करके दो चौके लगाए।
मिताली के आउट होने के तुरंत बाद हरमनप्रीत ने अपना अर्धशतक पूरा किया। इसके बाद तो उन्होंने कंगारू गेंदबाजों की जमकर खबर ली। उन्होंने पारी को बेहतरीन तरीके से संवारा। पारी के 35वें ओवर में उन्होंने अपने वनडे करियर का तीसरा शतक पूरा किया। इसके लिए उन्होंने 90 गेंदों का सामना करते हुए 12 चौके और दो छक्के लगाए। इस दौरान हरमनप्रीत और दीप्ति के बीच शतकीय साझेदारी भी पूरी हुई। पारी के अंतिम क्षणों में तो उन्होंने जबर्दस्त बल्लेबाजी करते हुए 37वें ओवर में गार्डनर की गेंद पर लगातार दो छक्के और दो चौके लगाए। ओवर में कुल 23 रन बने। भारत का चौथा विकेट दीप्ति शर्मा के रूप में गिरा, उन्हें एलिस विलानी ने आउट किया। इसके बाद वेदा कृष्णामूर्ति ने हरमनप्रीत का अच्छा साथ दिया। इस जोड़ी ने चार ओवरों के बल्लेबाजी पावरप्ले में 57 रन जोड़े।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*