Thursday , 26 April 2018
Breaking News
Home » Sports » मैरी ने जीता पहला स्वर्ण, गौरव और विकास को सोना

मैरी ने जीता पहला स्वर्ण, गौरव और विकास को सोना

गोल्ड कोस्ट। भारत की स्टार महिला मुक्केबाज एमसी मैरीकॉम ने विश्व, एशिया और ओलंपिक पदकों के बाद अब अपने करियर में पहले राष्ट्रमंडल स्वर्ण पदक की कमी को 21वें राष्ट्रमंडल खेलों में शनिवार को पूरा कर लिया। मैरी के स्वर्ण के अलावा गौरव सोलंकी ने भी 52 किग्रा और विकास कृष्णन ने 75 किग्रा में स्वर्ण पदक जीता जबकि अमित(46-49), मनीष कौशिक(60) और सतीश कुमार(91+) को रजत पदक मिला।
भारत ने इस तरह मुक्केबाजी में तीन स्वर्ण, तीन रजत और तीन कांस्य सहित कुल नौ पदक जीते जो राष्ट्रमंडल मुक्केबाजी में उसका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। भारत ने पिछले ग्लास्गो खेलों में चार रजत और एक कांस्य सहित पांच पदक जीते थे।
21वें राष्ट्रमंडल खेलों में शनिवार को मैरीकॉम ने अपने 45-48 किग्रा भार वर्ग के स्वर्ण पदक मुकाबले में आयरलैंड की क्रिस्टीना ओ हारा को एकतरफा मुकाबले में 5-0 से पराजित किया।
गौरव ने उत्तरी आयरलैंड के ब्रैंडन इरविन को 4-1 से पराजित किया। उन्होंने यह मुकाबला 29-28, 30-25, 29-28, 28-29, 29-28 से जीता। विकास ने कैमरून के डियूडोन विलफ्रेड को 5-0 से पराजित किया। ओलंपिक कांस्य पदक विजेता मैरीकॉम करियर में पहली बार राष्ट्रमंडल खेलों में उतरी थीं और दिग्गज खिलाड़ी ने यहां भी अपना लोहा मनवाते हुये स्वर्ण पदक अपने नाम किया।
पांच बार की विश्व चैंपियन, एशिया चैंपियन और 2012 के लंदन ओलंपिक कांस्य पदक विजेता मैरीकॉम ने इसी के साथ अपने करियर में राष्ट्रमंडल स्वर्ण की कमी को भी पूरा कर लिया। सासंद और तीन बच्चों की मां मैरीकॉम ने भारत को गोल्ड कोस्ट खेलों का 18वां स्वर्ण पदक दिला दिया है। उन्होंने जीत के बाद अपने कोच के कंधे पर बैठकर जीत का जश्न मनाया और अपने बच्चों को यह पदक समर्पित किया।
35 साल की मैरीकॉम के लिये इस उम्र में यह पदक बड़ी उपलब्धि है। उन्होंने पहले राउंड में धीमी शुरूआत की थी लेकिन बाकी के दोनों राउंड में जबरदस्त वापसी की और 22 साल की आयरिश मुक्केबा•ा को नियंत्रित करते हुये कई बेहतरीन पंच लगाये। गौरव सोलंकी ने आयरलैंड के ब्रैंडन इरविन को 4-1 से हराते हुये मुक्केबाजी में दिन का दूसरा स्वर्ण दिला दिया और विकास ने 75 किग्रा में जीत हासिल कर भारत को मुक्केबाजी का तीसरा स्वर्ण दिलाया। पुरूषों के 46-49 किग्रा भार वर्ग में अमित अपने स्वर्ण पदक मुकाबले में इंग्लैंड के यफाई गलाल से 1-3 से हार गये जिससे उन्हें रजत पदक से संतोष करना पड़ा। 60 किग्रा भार वर्ग में मनीष कौशिक को भी फाइनल में हारकर रजत से संतोष करना पड़ा। मनीष को आस्ट्रेलिया के हैरी गारसाइड ने कड़े मुकाबले में 3-2 से पराजित किया। भारतीय मुक्केबा•ा यह मैच 29-28, 27-30, 27-30,29-29, 29-28 से स्वर्ण पदक मैच गंवाया। दिन के आखिरी मुकाबले में भारत के सतीश को इंग्लैंड के फ्रेजर क्लार्क से हारकर रजत से संतोष करना पड़ा। हालांकि सतीश को लग रहा था कि वह मुकाबला जीत गये हैं और उन्होंने अपने हाथ भी उठा रखे थे लेकिन जजों ने क्लार्क को इस मुकाबले का विजेता घोषित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*