Monday , 19 February 2018
Breaking News
Home » Sports » मैच के साथ सीरिज भी हारा भारत

मैच के साथ सीरिज भी हारा भारत

सेंचुरियन। जबरदस्त लय और ऊंचे मनोबल के साथ दक्षिण अफ्रीका पहुंची कप्तान विराट कोहली की नंबर वन भारतीय टीम अफ्रीका की जमीन पर 25 वर्षों बाद भी अपवाद साबित नहीं हो सकी और बुधवार को करो या मरो के दूसरे क्रिकेट टेस्ट में 135 रनों से पराजित होने के साथ सीरी•ा भी गंवा बैठी।
भारतीय टीम केपटाउन में पहला मैच हारकर तीन टेस्टों की सीरी•ा में 0-1 से पिछड़ चुकी थी लेकिन रोमांच और आक्रामकता से भरे दूसरे टेस्ट में टीम 287 रन के लक्ष्य का पीछा नहीं कर सकी और दक्षिण अफ्रीका की उछाल भरी पिचों पर घूमती गेंदों के सामने पूरी टीम 50.2 ओवरों में 151 रन पर ढेर हो गयी। इसी के साथ मे•ाबान टीम ने 2-0 से सीरी•ा में अपराजेय बढ़त कायम कर ली है।
लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम के लिये मध्यक्रम के बल्लेबा•ा रोहित शर्मा 47 रन की पारी खेलकर सबसे सफल रहे जबकि पहली पारी में 153 रन की बेहतरीन शतकीय पारी खेलने वाले विराट दूसरी पारी में पांच रन पर आउट हुये। लुंगी एनगिदी ने जसप्रीत बुमराह को वेर्नोन फिलेंडर के हाथों कैच कराकर भारत का आखिरी विकेट निकाला। वह दूसरी पारी में 39 रन पर सर्वाधिक छह विकेट लेकर दक्षिण अफ्रीका के सबसे सफल गेंदबा•ा रहे।
घरेलू मैदान पर लगातार नौ सीरी•ा जीतने के आस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के विश्व रिकार्ड को तोड़ने वाली कप्तान विराट के नेतृत्व वाली टीम इंडिया से दक्षिण अफ्रीका में लगातार 10वीं टेस्ट सीरी•ा जीतने के साथ इतिहास रचने की उम्मीद थी जहां उसने 25 वर्षाें से कोई टेस्ट सीरी•ा नहीं जीती है। लेकिन युवा और जबरदस्त खिलाड़ियों से भरी टीम अपने घरेलू मैदान की फार्म को विदेशी जमीन पर दोहरा नहीं पायी।
भारत ने मैच के चौथे दिन ही 35 रन पर अपने तीन अहम विकेट गंवा दिये थे और तभी उसकी स्थिति नियंत्रि से बाहर लग रही थी। सुबह उसने अपनी पारी को जब आगे बढ़ाया तो कल के नाबाद बल्लेबा•ा चेतेश्वर पुजारा 11 रन और पार्थिव पटेल पांच रन बनाकर क्री•ा पर थे। लेकिन दोनों बल्लेबा•ा बड़ी साझेदारी तक नहीं पहुंच सके और केवल 23 रन ही जोड़ पाये थे कि पुजारा रनआउट हो गये।
पुजारा को एनगिदी ने गेंद डाली जिसे एबी डीविलियर्स ने विकेट के पीछे खड़े क्विंटन डी काक ने हाथों में जल्दी से पकड़कर स्टम्प को उड़ा दिया और मैच में दूसरी बार एनगिदी की बदौलत पुजारा रनआउट हो गये। उन्होंने 47 गेंदों की पारी में दो चौके लगाकर 19 रन बनाये और दिन के पहले बल्लेबा•ा के रूप में आउट हुये।
दूसरे छोर पर खड़े पार्थिव पटेल ने 49 गेंदों में दो चौके लगाकर 19 रन बनाये ओर उन्हें कैगिसो रबादा ने मोर्न मोर्कल के हाथों कैच कराकर 65 रन पर भारत के पांच विकेट उखाड़ दिये। दक्षिण अफ्रीकी गेंदबाजों के सामने भारतीय टीम के बल्लेबा•ा देर तक खड़े रहने का जज्बा नहीं दिखा सके और उसने अपने सात विकेट 102 रन जोड़कर गंवाये।
निचले क्रम पर उपयोगी साबित होने वाले स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या और रविचंद्रन अश्विन भी एनगिदी के प्रहार से बच नहीं सके और डी काक ने उन्हें छठे और सातवें बल्लेबा•ा के रूप में विकेट के पीछे कैच कर पवेलियन भेज दिया। पांड्या ने 12 गेंदों में छह रन और अश्विन ने छह गेंदों में तीन रन बनाये।
एक छोर पर हालांकि रोहित ने टिकते हुये रन बटोरने की आखिरी कोशिश की और 74 गेंदों में छह चौके और एक छक्का लगाकर 47 रन की पारी खेली और बल्ले से सबसे सफल भी रहे। उन्होंने दूसरे छोर पर मोहम्मद शमी के साथ आठवें विकेट के लिये 54 रन की अर्धशतकीय साझेदारी भी जमाई। शमी ने 24 गेंदों की पारी में पांच चौके लगाकर 28 रन बनाये।
ते•ा गेंदबा•ा रबादा ने रोहित को डीविलियर्स के हाथों कैच कराकर इस साझेदारी पर ब्रेक लगाया और आठवां विकेट 141 के स्कोर पर निकाल दिया। शमी को आखिरी समय में एक जीवनदान भी मिला जब हाशिम अमला ने उनका कैच छोड़ दिया लेकिन वह देर तक संयम नहीं बनाये रख सके और जल्द ही नौवें बल्लेबा•ा के रूप में आउट हुये। एनगिदी ने शमी को मोर्कल के हाथों कैच कराया जबकि बुमराह को फिलेंडर के हाथों कैच कराकर भारतीय पारी समेट दी।
दक्षिण अफ्रीका की ओर से 21 साल के मध्यम ते•ा गेंदबा•ा एनगिदी ने अपने टेस्ट पदार्पण को यादगार बनाते हुये 12.2 ओवर में 3.16 के इकोनेामी रेट से 39 रन पर सर्वाधिक छह विकेट निकाले। रबादा को 14 ओवर में 47 रन पर तीन विकेट मिले। एनगिदी को उनके पहले ही टेस्ट में इस मैच विजयी प्रदर्शन के लिये मैन ऑफ द मैच चुना गया। दुनिया की नंबर एक टीम के खिलाफ नंबर दो दक्षिण अफ्रीका टीम ने इस मैदान पर अपने पिछले बेहतरीन रिकार्ड को भी कायम रखा। यहां घरेलू टीम ने अब तक पिछले 22 टेस्टों में 17 टेस्ट जीते हैं,तीन ड्रा खेले हैं और मात्र दो ही गंवाये हैं। सेंचुरियन टेस्ट में दक्षिण अफ्रीका ने अपनी पहली पारी में 335 रन बनाये थे जिसके जवाब में कप्तान विराट के 153 रन की शतकीय पारी के बावजूद भारत पहली पारी में 307 रन पर ऑल आउट हो गयी। दक्षिण अफ्रीका ने इसके बाद दूसरी पारी में 258 रन बनाये और पहली पारी की बढ़त के आधार पर 286 रन की कुल बढ़त कायम की थी और अंततः मैच के आखिरी दिन लंच से पहले जीत अपने नाम कर ली। (शेष पेज 8 पर)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*