Saturday , 16 December 2017
Breaking News
Home » Sports » बोल्ट की कांसे के साथ विदाई, गैटलिन बने चैंपियन

बोल्ट की कांसे के साथ विदाई, गैटलिन बने चैंपियन

लंदन। पूरी दुनिया की निगाहें विश्व के सबसे तेज धावक जमैका के यूसेन बोल्ट की आखिरी रेस पर लगी हुई थी। लेकिन अमेरिका के जस्टिन गैटलिन ने बोल्ट के विदाई जश्न में खलल डालते हुए विश्व एथलेटिक्स चौंपियनशिप की 100 मीटर की रेस में चैंपियन बनने का गौरव हासिल कर लिया। बोल्ट ने कांस्य पदक के साथ 100 मीटर फर्राटे को अलविदा कह दिया।
आठ ओलंपिक स्वर्ण पदकों, विश्व चैंपियनशिप में 11 स्वर्ण पदकों के विजेता और तीन बार 100 मीटर के विश्व चैंपियन रहे बोल्ट को आखिर कांस्य पदक के साथ 100 मीटर फर्राटे को अलविदा कहना पड़ा। बोल्ट इस विश्व चैंपियनशिप में 200 मीटर में नहीं दौड़ेंगे और इसके बाद चार गुणा 100 मीटर रिले में हिस्सा लेंगे जिसके बाद वह ट्रैक को पूरी तरह अलविदा कह देंगे।
बोल्ट 100 मीटर की हीट में भी अपनी लय में नजर नहीं आए थे और उसी समय यह आशंका उठने लगी थी कि फाइनल में कोई अनहोनी न हो जाए। आखिरी जिस बात का डर था वही हुआ। दो बार डोपिंग के लिए प्रतिबंधित किये गये 35 वर्षीय गैटलिन ने गजब का फर्राटा लगाते हुए 9.92 सेकेंड में विश्व चैंपियन बनने का गौरव हासिल कर लिया। गैटलिन 2015 के विश्व फाइनल में बोल्ट से सेकेंड के 100वें हिस्से से हार गए थे। लेकिन इस बार उन्होंने 12 साल के अंतराल के बाद अपना दूसरा विश्व खिताब जीत लिया।
गैटलिन ने खिताब तो जीता लेकिन दर्शकों को उनकी कामयाबी रास नहीं आई और उन्होंने जीत के बाद इस अमेरिकी धावक की जबर्दस्त हूटिंग की। गैटलिन इस हूटिंग से काफी नाराज नजर आए और उन्होंने कहा कि उनका इतिहास पीछे छूट चुका है और उन्होंने वापसी की है।
अमेरिका के 21 वर्षीय धावक क्रिस्टियन कोलमैन ने 9.94 सेकेंड का समय लेकर दूसरा स्थान हासिल किया जबकि आठ साल पहले 9.58 सेकेंड का विश्व रिकॉर्ड बनाने वाले बोल्ट इस बार 9.95 सेकेंड का समय निकालकर तीसरे स्थान पर रहे। जमैका के योहान ब्लैक (9.99) को चौथा स्थान मिला।
21 वर्षीय कोलमैन ने बोल्ट को सेमीफाइनल में हराया था। बोल्ट ने अपनी 100 मीटर की हीट आखिरी 20 मीटर की तेजी में 10.07 सेकेंड में जीती थी। फाइनल में भी बोल्ट के लिए लगभग ऐसी ही स्थिति रही और गैटलिन ने अंत में उन्हें पीछे छोड़कर 2015 चैंपिशनशिप की हार का बदला चुका लिया।
पिछले कुछ समय में उम्र और लगातार चोटों से जूझने वाले बोल्ट आखिर अपनी अंतिम 100 मीटर दौड़ में लडख़ड़ा गए। रेस के बाद बोल्ट ने कहा, मेरा स्टार्ट उतना अच्छा नहीं रहा है। आमतौर पर यह हर राउंड के साथ बेहतर होता जाता था लेकिन इस बार ऐसा नहीं हुआ।
रेस के बाद जब विशाल स्क्रीन पर परिणाम सामने आया तो दर्शकों ने फिर गैटलिन की हूटिंग चालू कर दी। इससे पहले भी जब गैटलिन ट्रैक पर उतरते थे तो दर्शक उनके डोपिंग इतिहास को लेकर हूटिंग करते थे। दर्शकों का गैटलिन के प्रति स्वभाव रूखा रहा। लेकिन रेस के बाद जमैकन एथलीट ने गैटलिन को गले लगाते हुए उनसे कहा कि वह इस असम्मान के हकदार नहीं है।
वर्ष 2006 में दूसरे डोपिंग अपराध के लिए चार वर्ष का प्रतिबंध झेलने वाले गैटलिन ने कहा, मुझे हर राउंड में हूटिंग से गुजरना पड़ा। लेकिन अपना ध्यान केंद्रित रखा। मैंने वही काम किया जो मुझे करना चाहिए था। जो लोग मुझे प्यार करते हैं वे मुझे यहां भी प्यार कर रहे थे और स्वदेश में भी।
गैटलिन ने 2004 में 100 मीटर में ओलंपिक स्वर्ण पदक जीता था और 2005 में दोहरे विश्व चैंपियन बने थे। उनका डोङ्क्षपग इतिहास हमेशा उनका पीछा करता रहा। लेकिन इस रेस में वह इतिहास से बाहर निकल आए। जब उन पर 2006 में दूसरा डोपिंग प्रतिबंध लगा था तो उस समय (शेष पेज 8 पर)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*