Thursday , 23 November 2017
Breaking News
Home » Sports » ‘टीम में हमेशा कप्तान की ही चलती है, कोच की नहीं’

‘टीम में हमेशा कप्तान की ही चलती है, कोच की नहीं’

ravi_shastriमुंबई। बेहद नाटकीय घटनाक्रम के बाद आखिरकार रवि शास्त्री को टीम इंडिया का कोच चुन लिया गया है। 19 जुलाई से शुरू हो रहे लंबे श्रीलंका दौरे के लिए शास्त्री टीम को जॉइन करेंगे। खिलाडिय़ों के बीच अपने दोस्ताना रवैये के लिए लोकप्रिय टीम इंडिया के नए कोच ने एक इंटरव्यू में टीम को लेकर उन्होंने अपनी रणनीति से लेकर इशारों ही इशारों में कुंबले-कोहली विवाद में कप्तान को समर्थन भी दे दिया।
शास्त्री ने कहा कि वह विवादों और पुरानी बातों को याद नहीं करना चाहते हैं। ड्रेसिंग रूम में पॉजिटिव एनर्जी के साथ जुडऩे के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा, मैं वर्तमान में जीता हूं और हर दिन को लेकर नई योजना बनाता हूं। बेमतलब के बोझ ढोना मेरी फितरत में नहीं है। टीम के ज्यादातर सदस्य और सपॉर्ट स्टाफ वही हैं। सब कुछ वैसा ही है जैसा मैंने 2016 के मध्य में छोड़ा था।
कोच चयन को लेकर हुए विवाद और नाटकीय घटनाक्रम पर टीम इंडिया के नए कोच ने कहा, मुझे ठीक से यह भी नहीं पता कि जिसे ड्रामा कहा जा रहा है उसमें क्या हुआ। मैं सिर्फ रिफ्रेश बटन दबाकर नए सिरे से शुरूआत कर रहा हूं। टीम और खिलाडिय़ों को लेकर उन्होंने अपनी राय स्पष्ट करते हुए कहा, टीम अच्छी लय में दिख रही है। मेरा काम खिलाडिय़ों की मानसिक दृढ़ता पर और काम करना है। अगर कोचिंग के उच्चतम स्तर की बात करें तो वह यही रहेगा कि मैं खिलाडिय़ों को क्या कर सकते हैं और क्या नहीं इस बारे में बताऊं।
कोच और कप्तान विवाद को लेकर इस पूर्व कप्तान ने किसी का नाम भले ही न लिया हो, लेकिन इशारों में कोहली को अपना समर्थन दे दिया। कोच के लिए रवि शास्त्री का नाम भी खुद कोहली ने ही आगे बढ़ाया था। उन्होंने कहा, यह बहुत सामान्य सच है कि टीम हमेशा कप्तान की ही होती है। मैदान पर कप्तान ही टीम को लीड करता है। कोच का काम बैकग्राउंड में ही रहना होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*