Sunday , 27 May 2018
Breaking News
Home » Sports » टीम चयन सबसे बड़ी मुश्किल

टीम चयन सबसे बड़ी मुश्किल

जोहानिसबर्ग। हार से बेजार भारतीय टीम दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ बुधवार से शुरू हो रहे तीसरे टेस्ट में उतरेगी तो चयन की गलतियों से उबरकर उसका लक्ष्य सीरीज में सफाये की शर्मिदंगी से बचना होगा। दूसरे टेस्ट में हार के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कप्तान विराट कोहली टीम चयन पर किए गए सवालों पर भड़क गए थे, लेकिन देखा जाए तो उनके सामने सबसे बड़ा चैलेंज टीम चयन ही है। तीसरे टेस्ट के लिए प्लेइंग इलेवन में कई बदलाव संभव हैं।
भुवनेश्वर की वापसी की उम्मीद की जा रही है। ऐसे में पहले दोनों टेस्ट में अपने चयन से चौंकाने वाले जसप्रीत बुमराह बाहर रहेंगे। भारतीय कप्तान एक और बदलाव कर सकते हैं। तीन दिन के ब्रेक के बाद रविवार को जब टीम यहां जुटी तब से अजिंक्य रहाणे लगातार नेट पर अभ्यास कर रहे हैं। पिछले 2 दिन में उन्होंने चार लंबे अभ्यास सत्रों में भाग लिया और उनका खेलना तय लग रहा है चूंकि रोहित शर्मा चार पारियों में 78 रन ही बना सके हैं। रहाणे की वापसी के बावजूद यह तय नहीं है कि रोहित बाहर होंगे। 6 बल्लेबाजों के साथ उतर सकते हैं विराट
कोहली ने लगातार 34 टेस्ट में कभी भी एक एकादश नहीं उतारी है। इस मैच में भी बदलाव देखने को मिलेंगे। अश्विन ने नेट पर बल्लेबाजी नहीं की जबकि रविंद्र जडेजा ने लंबा अभ्यास किया। भारत अगर एक स्पिनर को लेकर उतारता है तो जडेजा को मौका मिल सकता है। बिना स्पिनर के 6 बल्लेबाजों को लेकर उतरने पर कोहली हरफनमौला तेज गेंदबाज के रूप में हार्दिक पंड्या को उतार सकते हैं। पार्थिव पटेल का खराब फार्म के बावजूद खेलना तय माना जा रहा है। हारने पर बनेगा शर्मनाक रेकॉर्ड
कोहली के लिए कुल मिलाकर हालात एकदम बदल गए हैं। 6 महीने पहले उन्होंने टीम को श्रीलंका पर 3-0 से जीत दिलाकर इतिहास रचा था। अब वह 3-0 से सीरीज हारने की कगार पर खड़े हैं। अभी तक दक्षिण अफ्रीकी सरजमीं पर कोई भारतीय टीम 3-0 से सीरीज नहीं हारी है। टीम अगर 3-0 से हारती है तो भी नंबर एक टेस्ट रैंकिंग नहीं गंवाएगी। केप टाउन में पहला टेस्ट 72 रन और सेंचुरियन में दूसरा टेस्ट 135 रन से जीतने के बाद मेजबान टीम सीरीज पहले ही अपने नाम कर चुकी है। वॉडरर्स का रेकॉर्ड भारत के पक्ष में
भारत 1992 से अब तक 6 बार दक्षिण अफ्रीका का दौरा कर चुका है और 1996-97 में सचिन तेंडुलकर की कप्तानी में 2-0 से हारा था। 2006 के बाद से पिछले 3 दौरों पर एक टेस्ट जीतने या ड्रॉ कराने में कामयाब रहा है। वांडरर्स पर भारत का रेकॉर्ड अच्छा रहा है। भारत ने इस मैदान पर 4 टेस्ट (नवंबर 1992, जनवरी 1997, दिसंबर 2006 और दिसंबर 2013) खेले हैं और एक भी गंवाया नहीं है। भारत ने यहां 2006 में राहुल द्रविड़ की कप्तानी में टेस्ट जीता था, जिसमें श्रीसंत ने 99 रन देकर 8 विकेट लिए थे। अब यह है साउथ अफ्रीका का टारगेट दूसरी ओर दक्षिण अफ्रीका किसी तरह की दुविधा में नहीं है। सलामी बल्लेबाज एडेन मार्कराम दूसरे टेस्ट में जांघ में लगी चोट के बाद लौटेंगे। वैसे दक्षिण अफ्रीका अपनी बेंच स्ट्रेंथ को भी आजमा सकता है चूंकि उसे ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज खेलनी है। वैसे सेंचुरियन टेस्ट के बाद दक्षिण अफ्रीका के कप्तान फाफ डु प्लेसिस ने संकेत दिए थे कि उनकी नजरें नंबर वन रैंकिंग पर है। इसके लिए उन्हें भारत को 3-0 से हराने के अलावा ऑस्ट्रेलिया को भी 2-0 से मात देनी होगी। ऐसे में वह पुरानी टीम को भी उतार सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*