Monday , 21 May 2018
Breaking News
Home » Jaipur » घर में हारा राजस्थान

घर में हारा राजस्थान

दमदार बोलिंग के दम पर सनराइजर्स ने दी पटखनी

जयपुर। सनराइजर्स हैदराबाद ने एक बार फिर बता दिया कि क्यों उसे इंडियन प्रीमियर लीग 2018 की सर्वश्रेष्ठ बोलिंग टीम कहा जाता है। टीम ने अपनी बोलिंग के दम पर कम स्कोर बचाने की आदत सी बना ली है।
रविवार को जयपुर के सवाई मानसिंह स्टेडियम में खेले गए मुकाबले में सनराइजर्स ने राजस्थान रॉयल्स को 11 रनों से हरा दिया। जीत के लिए 152 रनों के लक्ष्य के जवाब में राजस्थान रॉयल्स की टीम 6 विकेट पर 140 रन ही बना पाई।
सनराइजर्स हैदराबाद ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला करते हुए 20 ओवरों में 7 विकेट पर 151 रन बनाए। जीत के लिए मिले 152 रनों के लक्ष्य के जवाब में राजस्थान रॉयल्स की टीम 6 विकेट के नुकसान पर 140 रन ही बना सकी। हैदराबाद की ओर से सिद्धार्थ कौल ने सबसे ज्यादा 2 विकेट लिए। कप्तान अजिंक्य रहाणे के 65 रनों की पारी भी राजस्थान को जीत नहीं दिला पाई। जीत के लिए 152 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी राजस्थान रॉयल्स की शुरुआत अच्छी नहीं रही। पारी के तीसरे ही ओवर में संदीप शर्मा ने उन्हें चार के निजी स्कोर पर बोल्ड कर दिया। इसके बाद संजू सैमसन और अजिंक्य रहाणे ने पारी को संभालने की कोशिश की। दूसरे विकेट के लिए दोनों ने 59 रन जोड़े। संजू सैमसन 30 गेंदों पर तीन चौकों और एक छक्के की मदद से 40 रन बनाकर सिद्धार्थ कौल की गेंद पर आउट हुए। अगले ही ओवर में यूसुफ पठान ने बेन स्टोक्स को बोल्ड कर दिया। रहाणे अकेले डटे रहे इसके बाद अजिंक्य रहाणे और जोस बटलर ने मिलकर पारी को आगे बढ़ाने की कोशिश की। ऐसा लग रहा था कि यह दोनों बल्लेबाज स्कोर को आगे ले जाएंगे लेकिन राशिद खान ने बटलर को आउट कर राजस्थान की उम्मीदों को करारा झटका दिया। बटलर ने बड़ा शॉट खेलने की कोशिश की लेकिन वह बाउंड्री पर शिखर धवन के हाथों लपके गए। उन्होंने 11 गेंदों पर 10 रन बनाए। इससे पहले, कप्तान केन विलियमसन और एलेक्स हेल्स के बीच दूसरे विकेट के लिए 92 रन की साझेदारी के बावजूद सनराइजर्स हैदराबाद की टीम रविवार को राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ आईपीएल मैच में सात विकेट पर 151 रन ही बना पाई। राजस्थान रॉयल्स की ओर से जोफ्रा आर्चर ने तीन और कृष्णप्पा गौतम ने दो विकेट लिए। वहीं जयदेव उनादकत और ईश सोढ़ी ने एक-एक विकेट लिया।
सनराइजर्स ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया। उसकी शुरुआत काफी धीमी रही। शिखर धवन की खराब फॉर्म ने यहां भी उनका साथ नहीं छोड़ा। पहले दो मैचों में उन्होंने 78 और 45 रनों की पारी खेलने के बाद से धवन की फॉर्म उनसे रूठी हुई है। इसके बाद के पांच मैचों में उन्होंने सिर्फ 29 रन ही बनाए हैं। धवन को कृष्णप्पा गौतम ने बोल्ड कर दिया।
हेल्स और विलियमसन ने संभालाः एलेक्स हेल्स और कप्तान विलियमसन ने संभलकर पारी को आगे बढ़ाना शुरू किया। उन्हें किस्मत का भी साथ मिला जब वह 11 रन के निजी स्कोर पर थे तब राहुल त्रिपाठी ने जोफ्रा आर्चर की गेंद पर स्लिप में उनका कैच छोड़ दिया। सनराइजर्स ने पावरप्ले के पहले छह ओवरों में 39 रन बनाये जबकि दस ओवर के बाद उसका स्कोर एक विकेट पर 70 रन था। विलियमसन ने जयदेव उनादकट के 12वें ओवर तीन चौके और लॉन्ग ऑफ पर लगाया गया लाजवाब छक्का लगाकर पारी को रफ्तार देने की कोशिश की। विलियमसन ने 32 गेंदों पर इस सत्र का चौथा और टी20 करियर की 21वीं हाफ सेंचुरी पूरी की। हेल्स पर भी बड़े शॉट खेलने का दबाव था लेकिन वह गौतम की फ्लाइट को समझने में नाकाम रहे और पॉइंट पर आसान कैच दे बैठे। हेल्स ने अपनी पारी में चार चौके लगाये। आईपीएल में अपना पहला मैच खेल रहे न्यू जीलैंड के लेग स्पिनर ईश सोढ़ी ने इस टूर्नामेंट में अपना पहला विकेट अपनी राष्ट्रीय टीम के कप्तान विलियमसन के रूप में लिया जिनका विकेटकीपर जोस बटलर ने खूबसूरत कैच लिया। विलियमसन की पारी में दो छक्कों के अलावा सात चौके भी शामिल हैं।
आखिरी ओवरों में थमा स्कोरः विलियमसन (43 गेंदों पर 63) और हेल्स (39 गेंदों पर 45) जब क्रीज पर थे तब ऐसा लग रहा था कि सनराइजर्स बड़ा स्कोर खड़ा कर लेगा लेकिन अंतिम पांच ओवरों में उसकी टीम ने सिर्फ 31 रन बनाए और चार विकेट भी खोए। डेथ ओवरों में सनराइजर्स के दो नये बल्लेबाज क्रीज पर थे। आर्चर ने शाकिब अल हसन (छह) को इनस्विंग यार्कर पर बोल्ड किया और यूसुफ पठान (दो) को थर्ड मैन पर कैच देने के लिए मजबूर किया। मनीष पांडे (16 गेंदों पर 17 रन) भी लंबे शॉट लगाने के लिए जूझते रहे। ऋद्धिमान साहा 11 रन बनाकर नाबाद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*