Thursday , 21 June 2018
Breaking News
Home » Rajasthan » सरकारी स्कूल पर फायरिंग, ३ बालक घायल

सरकारी स्कूल पर फायरिंग, ३ बालक घायल

मुख्य आरोपी फरार, पिता को लिया एहतियातन हिरासत में

govt_school_firingडूंगरपुर। शहर के सबसे पुराने सीनियर माध्यमिक विद्यालय महारावल स्कूल में बुधवार को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वावधान में बेटी बचाओं बेटी पढाओं कार्यक्रम जिला एवं सत्र न्यायाधीश के सानिध्य में चल रहा था ठीक उसी समय विद्यालय के पीछे स्थित एक निजी जमीन के मालिक जिसमे विभिन्न फलों का बाग लगा हुआ है ने आवेश में आकर 12 वीं कक्षा के कक्ष पर टोपीदार बंदूक से फायरिंग कर दी। जिससे कक्षा में बेठे हुए तीन छात्र टोपीदार बंदूक से निकले छर्रो के कारण घायल हो गये। अचानक हुए इस हादसे से बालक घबरा गये। प्रात: साढे दस बजे की घटना की जानकारी विद्यालय की प्राचार्य को जब कार्यक्रम समाप्ति के बाद दी तो विद्यालय परिवार में सनसनी फैल गई और तत्काल घटनाक्रम की जानकारी जिला शिक्षा अधिकारी अनोपसिंह सिसोदिया के निर्देश पर पुलिस को दी। जिस पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक आर.एल.चंदेल, शहर कोतवाल गजेन्द्रसिंह राव, घाटी चौकी प्रभारी सहायक उप निरीक्षक महेन्द्रसिंह मय जाप्ते के विद्यालय पहुंंचे तथा संस्था प्रधान से घटनाक्रम की जानकारी लेकर बगीचे के मालिक जुम्मा खा मेवाफरोश पुत्र गटू भाई निवासी फरासवाडा को तत्काल हिरासत में ले लिया। जब कि फायर करने वाला उसका पुत्र अमजद मौके से फरार हो गया। इसके पश्चात पुलिस का दल उसके निवास पर गया। जहां से दो टोपीदार बंदूके बरामद की तथा पूरे घर की तलाशी ली। इस घटनाक्रम में विद्यालय के 12 वीं विज्ञान कक्षा के छात्र तुषार पुत्र पंूजीलाल यादव निवासी वरदा हाल पुलिस लाईन, हेमेन्द्र पुत्र लक्ष्मण कोटेड निवासी सतीरामपुर तथा बंशीलाल पुत्र मोहनलाल कलासुआ निवासी डचकी के सिर व हाथ पर छर्रे लगने से घाव पड़ गये। जिन्हे सामान्य चिकित्सालय ले जाकर प्राथमिक चिकित्सा एवं मेडिकल करवाया गया तथा परिजनों को भी घटनाक्रम से अवगत कराया। पुलिस ने संस्था प्रधान दिपीका द्विवेदी की रिपोर्ट पर आरोपियों के खिलाफ प्राणघातक हमले का मामला दर्ज कर लिया है। यह हैं मामला
उक्त आरोपी का महारावल स्कूल के पिछवाडे में बगीचा है जहां विभिन्न प्रकार के फलों के पेड-पौधो है। उसका आरोप है कि विद्यालय के छात्र आये दिन बगीचे में पहुंचकर नुकसान पहुंचाते है और तोडफोड कर उत्पात भी मचाते है। इस संबंध में प्राचार्य दिपीका द्विवेदी ने बताया कि उनके कार्यभार संभालने के पश्चात जुम्मा खां द्वारा बताया गया था कि स्कूली बच्चों द्वारा आये दिन बगीचे में नुकसान पहुंचाया जा रहा है जिस पर उन्होने लिखित में कुछ बच्चों को चिन्हित कर रिपोर्ट देने की बात कही थी। साथ ही यह भी कहा था कि तुम्हारी जमीन पर ऊंची दिवार बना दो ताकि बेवजह की परेशानी समाप्त हो जाये। हालांकि विद्यालय प्रशासन द्वारा भी इस संबंध में विभाग को दिवार बनाने हेतु बजट आवंटन के लिए लिखा जा चुका है। ऐसे में बच्चों की शरारत पर बगीचे के मालिक द्वारा इस तरह की दशहत फैलाने वाली कार्यवाही की सर्वत्र निंदा हुई। जैसे ही यह समाचार शहर में फैला तो सोशल मिडिया के जरिये वास्तविकता जानने के लिए आम जन उत्सुक दिखा । साथ ही विद्यालय के बाहर भी काफी जमावडा एकत्रित हो गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*