Sunday , 24 September 2017
Breaking News
Home » Rajasthan » चिकित्सा और शिक्षा का निजीकरण गरीब विरोधी कदम : कांग्रेस

चिकित्सा और शिक्षा का निजीकरण गरीब विरोधी कदम : कांग्रेस

डूंगरपुर। शिक्षा, चिकित्सा एवं रोड़वेज सहित विभिन्न महकमों के निजीकरण के विरोध में कांग्रेसजनों ने बुधवार को एआईसीसी के राष्ट्रीय सचिव ताराचंद भगोरा एवं जिलाध्यक्ष दिनेश खोड़निया के नेतृत्व में राज्यपाल के नाम कलक्टर को ज्ञापन दिया। इससे पूर्व कांग्रेसजन कलेक्टे्रट पहुंचे और भाजपा सरकार की निजीकरण नीति की निंदा करते हुए प्रदर्शन किया और भाजपा हाय-हाय के नारे लगाएं।
राज्यपाल के नाम सौंपे ज्ञापन में बताया है कि शिक्षा, चिकित्सा एवं रोड़वेज के निजीकरण से जनजाति बहुल वागड़ क्षेत्र के गरीबों की कमर टूट जाएगी। यहां का गरीब आदिवासी शिक्षा और चिकित्सा से महरूम हो जाएगा।कांग्रेसजनो ने निजीकरण की नीति को भाजपा राज की तानाशाही बताया और कहा कि भाजपा की सरकार पूंजीपतियों की सरकार है और निजीकरण के माध्यम से कार्पोरेट घरानो की तिजोरियां भरने की तैयारी में है।निजीकरण से गरीब और कमजोर वर्ग का व्यक्ति सुलभता से शिक्षा और चिकित्सा नहीं पा सकेगा।
ज्ञापन देने से पूर्व कांग्रेसजनों ने मोदी और वसुंधरा सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और भाजपा द्वारा किए जा रहे निजीकरण का विरोध दर्ज करवाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*