Thursday , 18 January 2018
Breaking News
Home » Political » सिद्धारमैया का ‘हिंदू टेरर’ भाजपा ने लपका

सिद्धारमैया का ‘हिंदू टेरर’ भाजपा ने लपका

कर्नाटक में जेल भरने का ऐलान

बंगलुरू। कर्नाटक में कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी के बीच अब जुबानी जंग काफी तेज हो गई है। कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया के आरएसएस और भाजपा के कार्यकर्ताओं को हिंदू उग्रवादी बताने पर भाजपा ने पलटवार किया है। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने गुरूवार को प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि कांग्रेस पार्टी का हिंदुओं के प्रति रूख खुल कर सामने आ गया है, इसमें कुछ नया नहीं है।
पात्रा ने कहा कि पहले भी कांग्रेस सरकार के दौरान हिंदू आतंकवाद की बात सामने लाई गई थी। अब एक बार फिर कर्नाटक में इस मुद्दे को उठाया जा रहा है। पात्रा ने कहा कि राहुल गांधी जनेऊ पहनकर अस्थाई हिंदू बनने की कोशिश कर रहे हैं। कांग्रेस की सोच अब सामने आ रही है। पात्रा ने इस दौरान विकीलीक्स द्वारा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के हिंदू टेरर वाले खुलासे का भी जिक्र किया।
जेल भरो आंदोलन
बता दें कि सिद्धारमैया के इस बयान के बाद भाजपा फुल एक्शन मोड में आ गई है। राज्य की भाजपा नेता शोभा करंदलजे ने ऐलान किया है कि भाजपा कार्यकर्ता शुक्रवार को पूरे कर्नाटक में जेल भरो आंदोलन करेंगे। उन्होंने कहा कि हम सरकार से कहेंगे चूंकि हम भाजपा और आरएसएस से हैं, इसलिए हमें गिरफ्तार कर लीजिए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस हमारे ऊपर बैन की बात करती है लेकिन उन्होंने खालिस्तान, उल्फा और लिट्टे का समर्थन किया है। मुख्यमंत्री को अपने बयान पर माफी मांगनी चाहिए।क्या बोले थे सिद्धारमैया…
भाजपा, आरएसएस और बजरंग दल एक तरह के आतंकवादी हैं। जो भी समाज की शांति को भंग करते हैं उन्हें सरकार को बर्दाश्त नहीं करना चाहिए। चाहे वो पीएफआई हो, एसडीपीआई हो या वीएचपी, आरएसएस। बाद में सिद्धारमैया ने कहा कि मेरा मतलब था कि भाजपा और आरएसएस एक हिंदू उग्रवादी हैं।पहले भी किया था पलटवार
बता दें कि बुधवार को भी सिद्धारमैया के हमले के बाद भाजपा ने भी पलटवार किया था। भाजपा कर्नाटक के ट्विटर अकाउंट से ट्वीट किया गया कि सिद्धारमैया चुनाव का ध्रुवीकरण कर रहे हैं। एक तरफ वो भाजपा-आरएसएस को आतंकी संगठन कह रहे हैं दूसरी तरफ स्थानीय कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश भाजपा पर बैन की मांग कर रहे हैं। भाजपा की ओर से ट्वीट में लिखा गया कि उन्हें समझना चाहिए कि ये 1975 नहीं है और आज इंदिरा गांधी प्रधानमंत्री नहीं हैं।
बता दें कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव अप्रैल के महीने में होने हैं। राज्य की 225 विधानसभा सीटों में से मौजूदा समय में कांग्रेस के पास 121, भाजपा के पास 40 और जनता दल (एस) के पास 40 सीटें है। बाकी 24 सीटें अन्य के पास है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*