Saturday , 26 May 2018
Breaking News
Home » Political » सिक्सलेन की राह से आपसी सद्भाव से हटाएं धार्मिक स्थल : गोयल

सिक्सलेन की राह से आपसी सद्भाव से हटाएं धार्मिक स्थल : गोयल

  • केन्द्रीय राज्यमंत्री विजय गोयल ने ली समीक्षात्मक बैठक
  • मंत्री ने देखे राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजना के काम

उदयपुर। किशनगढ़-अहमदाबाद सिक्सलेन की जद में उदयपुर जिले की सीमा में आ रहे धार्मिक स्थलों को आपसी सद्भाव से हटाकर अन्य प्रतिस्थापित कराने के केंद्रीय सांख्यिकी कार्यक्रम क्रियान्वयन और संसदीय मामलात राज्यमंत्री विजय गोयल ने निर्देश दिए हैं। शुक्रवार को दौरे पर उदयपुर आए मंत्री गोयल ने परियोजना के कामकाज देखे और अधिकारियों की परियोजना पर समीक्षात्मक बैठक ली।
इस दौरान मंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं के क्रियान्वयन में राज्य सरकार का पूर्ण सहयोग मिलने के कारण प्रदेश में सभी प्रोजेक्ट अच्छी गति से चल रहे हैं। यह समय पर पूर्ण होंगे।
सर्किट हाउस में राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं की समीक्षा के बाद संवाददाताओं को उन्होंने कहा कि सिक्सलेनिंग के दौरान मार्ग में आने वाले धर्मस्थलों को पूरी ऐहतियात के साथ लोगों की भावनाओं का सम्मान करते हुए प्रतिस्थापित किया जाए। गौरतलब है कि चित्तौडग़ढ़ से देबारी के बीच और उदयपुर से श्यामलाजी तक सिक्ललेन में कई धर्मस्थल बीच में आ रहे हैं, जिनमें देवरे, मंदिर, मजार और दरगाहें शामिल हैं। गोयल ने देबारी चौराहे के निर्माण कार्यों का निरीक्षण कर अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए।प्रोजेक्ट्स की समीक्षा की
देशभर में भारतमाला योजना के तहत सड़कों का जाल बिछाया जा रहा है। राजस्थान में यह कार्य अपेक्षित गति से चल रहा है, जिसका जनता को व्यापक स्तर पर फायदा मिलेगा। मंत्री ने सर्किट हाउस में ही नेशनल हाइवे ऑथॉरिटी के अधिकारियों की बैठक लेकर विभिन्न प्रोजेक्ट्स की समीक्षा की। प्रोजेक्ट की वर्तमान स्थिति, उनके पूर्ण होने की संभावित समय सीमा, समस्याओं पर चर्चा की। बैठक में प्राधिकरण के स्थानीय परियोजना निदेशक सुनील यादव, एडीएम प्रशासन सीआर देवासी, जिला परिषद के अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी मुकेश कलाल, उपनिदेशक सांख्यिकी पुनीत शर्मा सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।
सिक्सलेन की जानकारी ली
ऑथॉरिटी चित्तौडग़ढ़ से देबारी तक नेशनल हाइवे 76 के हिस्से का सिक्सलेनिंग कार्य करवा रहा है। कुल 93 किमी के इस खंड पर 1100 करोड़ का खर्च होना है। देबारी से काया ग्रीन फील्ड सिक्सलेन 23 किमी बाइपास पर 891 करोड़ रुपए की लागत आएगी। उदयपुर से श्यामलाजी तक 113 किमी सिक्सलेन बनाने का 1 हजार 244 करोड़ रुपए खर्चा होगा। गोयल ने इन कार्यों को समय पर पूरा करने और गुणवत्ता का पूरा ध्यान रखने के निर्देश दिए। गुजरात की सीमा में वन भूमि के भू उपयोग परिवर्तन में देरी पर उन्होंने वहां के संबंधित अधिकारियों से फोन पर वार्ता कर शीघ्र निस्तारण के निर्देश दिए।एलिवेटेड रोड होगा सौगात
गोयल ने कहा कि उदियापोल से कोर्ट चौराहा तक बनने वाले एलिवेटेड रोड से शहरवासियों को प्रदूषण और ट्रेफिक की समस्या से निजात मिलेगी। करीब 296 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले इस 1 किमी 650 मीटर के एलिवेटेड रोड की टेंडरिंग प्रक्रिया अंतिम चरण में है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*