Thursday , 26 April 2018
Breaking News
Home » Political » सरकार तैयार, विपक्ष ‘फरार’

सरकार तैयार, विपक्ष ‘फरार’

लोकसभा में फिर नहीं लाया जा सका अविश्वास प्रस्ताव
नई दिल्ली। लोकसभा में मोदी सरकार के खिलाफ लाये गये पहले अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा कराने के गृह मंत्री राजनाथ सिंह के आश्वासन के बावजूद अन्नाद्रमुक और तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के हंगामे के कारण सोमवार को दूसरे दिन भी इसे सदन के समक्ष पेश नहीं किया जा सका और कार्यवाही मंगलवार तक के लिए स्थगित कर दी गयी।
एक बार के स्थगन के बाद दोपहर 12 बजे सदन की कार्यवाही दोबारा शुरू होने पर अन्नाद्रमुक और टीआरएस के सदस्य अपनी मांगों के समर्थन में बैनर और प्लेकार्ड लेकर अध्यक्ष के आसन के समीप पहुंच गये तथा नारेबाजी करने लगे। राष्ट्रीय जनता दल के जयप्रकाश नारायण यादव भी कुछ कागज लहराते हुए आसन के पास पहुंच गये। शोर-शराबे के बीच ही अध्यक्ष ने जरूरी दस्तावेज सदन पटल पर रखवाये।
इसके बाद अध्यक्ष ने कहा कि सिंह कुछ कहना चाहते हैं। गृह मंत्री ने खड़े होकर कहा कि जब से संसद का सत्र शुरू हुआ, तभी से सदन की कार्यवाही बाधित हो रही है। उन्होंने कहा कि वह सत्तापक्ष की तरफ से यह कहना चाहते हैं कि सदस्य जो भी मुद्दे उठायेंगे सरकार उस पर चर्चा के लिए तैयार है।
उन्होंने कहा, अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस मिला है। हम तहेदिल से चाहते हैं कि इस पर चर्चा हो। उन्होंने सभी सदस्यों से अपील की कि वे सदन में शांति बनाये रखने में सहयोग करें ताकि अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा हो सके।
सिंह की अपील के बाद आसन के समीप इकट्ठा अन्नाद्रमुक और टीआरएस के सदस्य और जोर-जोर से नारेबाजी करने लगे, जिससे कुछ भी सुनायी नहीं दे रहा था।
इसके बाद अध्यक्ष ने वाईएसआर कांग्रेस के वाई वी सुब्बा रेड्डी, तेलुगुदेशम पार्टी के थोटा नरसिम्हम और जयदेव गल्ला की ओर से अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस मिलने की सूचना दी। श्रीमती महाजन ने कहा कि वह ये नोटिस सदन के समक्ष रखने के लिए बाध्य हैं, लेकिन जब तक सदन में व्यवस्था नहीं होगी वह प्रस्ताव के समर्थन के लिए जरूरी 50 सदस्यों की गिनती नहीं कर सकती हैं, ताकि वह इस प्रस्ताव को स्वीकार या अस्वीकार करने पर फैसला कर सकें।
अध्यक्ष के इतना कहते ही कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, बीजू जनता दल, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, समाजवादी पार्टी, वाम दल, ऑल इंडिया मजलिसे इत्तेहादुल मुसलमीन तथा अन्य विपक्षी दलों के सदस्य अपनी-अपनी सीटों से खड़े होकर शोर मचाने लगे।
श्रीमती महाजन ने आसन के पास इकट्ठा अन्नाद्रमुक तथा टीआरएस के सदस्यों से अपनी सीटों पर जाने की अपील की और कहा, वह सदस्यों की गिनती करना चाहती हैं लेकिन ऐसा नहीं कर पा रही हैं । उन्होंने इस बात पर खेद जताया कि सदन में व्यवस्था न होने के कारण वह नोटिसों को सदन के समक्ष नहीं पेश करने में असमर्थ हैं।
अध्यक्ष की अपील का सदस्यों पर कोई असर नहीं हुआ और भारी हंगामा शुरू हो गया। हंगामा बढ़ता देख उन्होंने कार्यवाही मंगलवार तक के लिए स्थगित कर दी। सदन में शुक्रवार को भी यही नजारा था। श्रीमती महाजन ने सदन में व्यवस्था न होने का हवाला देकर अविश्वास प्रस्ताव की नोटिसों को सदन में रखने में असमर्थता जाहिर की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*