Thursday , 23 November 2017
Breaking News
Home » Political » राहुल का पीएम पर सीधा हमला

राहुल का पीएम पर सीधा हमला

‘अब बहाने बंद करें, गलतियों को स्वीकारें’
अमेठी। अमेठी दौरे पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला है। राहुल ने प्रधानमंत्री पर तीखी टिप्पणी करते हुए कहा, प्रधानमंत्री को यह शोभा नहीं देता है कि जब भी कोई बिगड़ती अर्थव्यवस्था की बात करता है, बढ़ती बेरोजगारी की बात करता है, किसानों की आत्महत्या की बात करता है, तो कोई ना कोई बहाना बना देते हैं। ये समय पैनिक करने का नहीं है, फॉक्स करने का है। प्रधानमंत्री को बहाने देना बंद कर देना चाहिए। राहुल ने आगे कहा, हिंदुस्तान के सामने दो बड़ी समस्याएं हैं। सबसे बड़ी समस्या है रोजगार की समस्या हमारा मुकाबला चाइना से है दुनिया में। दूसरी समस्या किसानों की है, एग्रीकल्चर की है। सरकार किसानों की मदद नहीं कर रही है। नरेंद्र मोदी जी देश के प्रधानमंत्री हैं और उनको बहाने देना बंद कर देना चाहिए। उनको पूरा का पूरा सरकार का ध्यान इन 2 समस्याओं पर लगाना चाहिए।
डेढ़ साल बचा है, उनको अपना पूरा ध्यान युवाओं को रोजगार देने में और किसानों को मदद देने में लगाना चाहिए। अमित शाह के दौरे पर टिप्पणी करते हुए राहुल ने कहा, अमेठी के लिए यूपीए सरकार ने बहुत सारा कार्य किया और अब उसका क्रेडिट भाजपा के कई सीनियर नेता लेना चाहते हैं। इस दौरान राहुल गांधी ने 20 ऐसे प्रोजेक्ट का जिक्र किया जिसमें (शेष पृष्ठ ८ पर)
20 बेड का हॉस्पिटल, 200 बेड का अस्पताल, 90 करोड़ का अस्पताल, एफएम रेडियो का इनॉग्रेशन, सैनिक स्कूल, राजीव गांधी नेशनल एविएशन यूनिवर्सिटी, फुर्सतगंज इंस्टिट्यूट ऑफ होटल मैनेजमेंट, केंद्र विद्यालय, जायल सेल के नए यूनिट, जगदीशपुर, अमेठी, ऊंचाहार न्यू रेलवे लाइन उनमें से कुछ एक हैं।

 

लच्छेदार भाषण से नहीं शासन से चलेगा देश : कांग्रेसनई दिल्ली। कांग्रेस ने अर्थव्यवस्था और सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में गिरावट को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जवाब पर तंज करते हुए गुरूवार को कहा कि उन्हें समझ लेना चाहिए कि देश लच्छेदार भाषण से नहीं बल्कि शासन से चलता है। कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने गुरूवार को यहां संवाददाताओं से कहा कि देश की अर्थव्यवस्था लगातार गिर रही है और पिछली तिमाही में जीडीपी में बड़ी गिरावट दर्ज की गयी है। निर्यात घट रहा है और कृषि उत्पादों का निर्यात नहीं हो रहा है। बैंकों की गैर निष्पादित परिसंपत्ति (एनपीए) सात दशक में सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंच गया है और कई बैंक बंद होने की कगार पर पहुंच गए हैं।
उन्होंने कहा कि मोदी सरकार निराशावाद का प्रतीक बन गयी है। इस सरकार के नोटबंदी के निर्णय से देश को तीन लाख करोड़ रूपए का नुकसान हुआ है। जीएसटी को सरकार ने बिना तैयारी के लागू किया है जिसके कारण छोटे काराबारियों के समक्ष संकट पैदा हो गया है। बेरोजगार बढ़ गयी है और मोदी का दो करोड़ लोगों को रोजगार देने का वादा सिर्फ जुमला बनकर रह गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*