Saturday , 26 May 2018
Breaking News
Home » Political » प्र.म. मोदी ने ‘मोदी ऐप’ से दी सांसदों और विधायकों को नसीहत

प्र.म. मोदी ने ‘मोदी ऐप’ से दी सांसदों और विधायकों को नसीहत

‘विवादित बयान दे मीडिया को मसाला न दें’नई दिल्ली। प्रधानमंत्री मोदी ने रविवार को ‘‘नरेंद्र मोदी ऐप’’ के माध्यम से भाजपा के सांसदों और विधायकों से बात की। उन्होंने नेताओं को सलाह दी कि मीडिया के सामने विवादित बयान देने से बचें और बोलते वक्त संयम रखें।
प्रधानमंत्री ने कहा, हम गलती करते हैं और मीडिया को मसाला देते हैं। जब हम कैमरा देखते हैं तो बयान देने के लिए उछल पड़ते हैं जैसे कि बड़े समाज विज्ञानी या एक्सपर्ट हों…और फिर मीडिया ऐसे बयानों का इस्तेमाल करता है। यह मीडिया की गलती नहीं है।
उन्होंने पार्टी के नेताओं से सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों से जुड़ने की अपील की। प्रधानमंत्री ने पार्टी के सांसदों को उनके काम के लिए बधाई भी दी। प्रधानमंत्री मोदी ने जनधन योजना, कौशल विकास, मुद्रा योजना पर फोकस करने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि देश में इन योजनाओं को लेकर जागरूकता फैलाने और आंत्रप्रेन्योर को मजबूत करने की जरूरत है।
प्रधानमंत्री ने सांसदों और विधायकों से ग्रामीण विकास और किसानों के हित के बारे में चर्चा की। पंचायत के स्तर पर विकास कार्यों के बारे में भी उन्होंने सांसदों से बात की। इस दौरान प्र.म. मोदी ने कहा कि अगर सांसद के अपने इलाके के 3 लाख लोग ट्विटर पर उन्हें (एमपीएस) फॉलो करने लगे तो मैं इसी तकनीक के माध्यम से सीधे उनसे बातचीत करने को तैयार हूं। विधायकों के बारे में उन्होंने कहा कि 1-2 लाख स्थानीय लोग ट्विटर पर उन्हें (एसएलएस) फॉलो करने लगे तो उनसे भी बात की जाएगी। उन्होंने कहा कि समय देने में देर हो सकती है पर मुझे स्थानीय लोगों से सीधे बात करने में आनंद आएगा।
प्रधानमंत्री ने सांसदों और विधायकों से बच्चों की पढ़ाई, बुजुर्गों की दवाई और युवाओं की कमाई पर फोकस करने का मंत्र दिया। (शेष पेज 8 पर)
गांव के विकास के लिए उन्होंने अन्ना हजारे के गांव से सीख लेने को भी कहा। उन्होंने नेताओं से कम से कम एक गांव में बदलाव लाने के लिए खुद प्रयास करने को कहा। पीएम ने बताया कि वह अपने संसदीय क्षेत्र में इस तरह के कार्यों को बड़ी तल्लीनता से देख रहे हैं।
एक सांसद से बातचीत में उन्होंने कहा कि पहले हार्ट के इलाज में लाख-डेढ़ लाख रूपये लगते थे, जो अब काफी कम हो गए हैं। उन्होंने गांव की शक्ति को जगाने और विकास से उसे जोड़ने की बात कही। उन्होंने साफ-सफाई और टीकाकरण पर सांसदों और विधायकों को विशेष ध्यान देने को कहा।…मैंने सुना है ब्रह्मपुत्र
में पानी बढ़ रहा है ?असम के बोकाजन से विधायक डॉ. नूमल मोमिन जब ऐप पर मुखातिब हुए तो प्रधानमंत्री ने उनसे पूछा, मैंने सुना है ब्रह्मपुत्र नदी में पानी बढ़ रहा है। उन्होंने बताया कि शनिवार को विदेश से आते ही उन्होंने इसकी जानकारी ली। आयुष्मान भारत की बात करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि सांसद-विधायक इस बात पर ध्यान दें कि कोई गलत नाम पात्रता सूची में न आने पाए, जिससे गरीब और मध्यम वर्ग को ही इसका लाभ मिले। चीन जाएंगे प्र.म. मोदीपेइचिंग। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बीच अगले सप्ताह चीन में मुलाकात होगी। पेइचिंग में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ संयुक्त कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने बताया कि राष्ट्रपति चिनफिंग और प्रधानमंत्री मोदी के बीच वुहान में 27-28 अप्रैल को अनौपचारिक शिखर बैठक होगी। पिछले साल डोकलाम में दोनों देशों के बीच लंबे वक्त तक चले सैन्य गतिरोध के बाद दोनों देशों के राष्ट्राध्यक्षों की यह बैठक काफी अहम मानी जा रही है। संयुक्त कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने कहा कि वह शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) का सदस्य बनने पर भारत को एक बार फिर बधाई देते हैं। उन्होंने कहा कि चीन एससीओ के विदेश मंत्रियों की बैठक में पहली बार हिस्सा ले रहीं भारतीय विदेश मंत्री का गर्मजोशी से स्वागत करता है। संयुक्त कॉन्फ्रेंस में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने बताया कि चीन ने सतलज और ब्रह्मपुत्र नदियों के डेटा को 2018 में भारत के साथ शेयर करने की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि भारत इसका स्वागत करता है। सुषमा ने यह भी बताया कि नाथु ला दर्रा से होने वाली कैलाश मानसरोवर यात्रा इस साल से बहाल होगी। उन्होंने कहा कि भारत और चीन आतंकवाद, जलवायु परिवर्तन, ससटेनेबल डिवेलपमेंट, ग्लोबल हेल्थकेयर के क्षेत्र में मिलकर काम करने को लेकर सहमत हुए हैं। इससे पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने रविवार को अपने चीनी समकक्ष वांग यी से मुलाकात की। (शेष पेज 8 पर)
दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय संबंधों पर और रिश्तों में सुधार के लिए उच्च स्तरीय संवाद की गति को तेज करने पर चर्चा की। शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के विदेश मंत्रियों की बैठक में हिस्सा लेने के लिए सुषमा स्वराज शनिवार को 4 दिन के दौरे पर चीन पहुंची हैं। द्विपक्षीय मुलाकात से पहले वांग ने पेइचिंग स्थित दिआयुतई स्टेट गेस्ट हाउस में सुषमा की अगवानी की। वांग को पिछले माह स्टेट काउंसिलर बनाया गया है जिसके बाद वह चीन के पदक्रम में शीर्षस्थ राजनयिक बन गए हैं। साथ ही वह विदेश मंत्री के पद पर भी बने हुए हैं।
स्टेट काउंसिलर बनाए जाने के बाद वांग से सुषमा की यह पहली मुलाकात है। मुलाकात के दौरान सुषमा ने वांग को स्टेट काउंसिलर बनाए जाने और भारत चीन सीमा वार्ताओं के लिए विशेष प्रतिनिधि नियुक्त किए जाने पर बधाई दी। वांग ने कहा कि द्विपक्षीय संबंधों में उल्लेखनीय विकास हुआ है और दोनों देशों के नेताओं की देखरेख में इस साल एक सकारात्मक गति भी देखने को मिली है। उन्होंने कहा इस साल चीन की नैशनल पीपल्स कांग्रेस के समापन की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति शी चिनफिंग को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से एक अत्यंत महत्वपूर्ण फोन कॉल मिला। वांग ने कहा कि इस कॉल ने दोनों देशों के बीच वार्ता प्रक्रिया में सकारात्मक गति दी। उन्होंने कहा, हमारे दोनों नेताओं ने विचारों का गहन आदान प्रदान किया और चीन भारत संबंधों को आगे बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण सहमति पर पहुंचे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*