Saturday , 25 November 2017
Breaking News
Home » Political » जीएसटी की 18 फीसदी सीमा के लिए संघर्ष जारी रखेंगे : राहुल

जीएसटी की 18 फीसदी सीमा के लिए संघर्ष जारी रखेंगे : राहुल

नई दिल्ली। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को कहा कि सरकार ने दबाव में कई वस्तुओं पर वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) की 28 प्रतिशत की दर को समाप्त कर दिया है लेकिन जीएसटी की दर 18 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो इसके लिए पार्टी का संघर्ष जारी रहेगा।
जीएसटी परिषद की गुवाहाटी में शुक्रवार को हुई बैठक में 178 वस्तुओं पर जीएसटी में बदलाव का फैसला किया गया है। गांधी ने जीएसटी परिषद के फैसले पर ट््वीट करते हुए कहा, भारत को गब्बर सिंह टैक्स नहीं, सरल जीएसटी चाहिए। कांग्रेस और देश की जनता ने लड़कर कई वस्तुओं पर 28 प्रतिशत टैक्स खत्म करवाया है। पार्टी 18 प्रतिशत अधिकतम जीएसटी के साथ एक रेट के लिए संघर्ष जारी रखेगा। अगर भाजपा ये काम नहीं करेगी, तो कांग्रेस करके दिखाएगी।
पूर्व वित्त मंत्री पी चिदम्बरम ने भी गुवाहाटी में जीएसटी परिषद की बैठक में लिए गए निर्णयों पर चुटकी लेते हुए कहा कि सरकार को जीएसटी में इस दोष को समझने में चार माह दस दिन का समय लग गया। उन्होने ट््वीट किया, जीएसटी की सीमा 18 प्रतिशत होनी चाहिए इस संबंध में कांग्रेस तथा मेरी बात सही साबित हुई है।
इस बीच कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख रणदीप ङ्क्षसह सुरजेवाला ने भी यहां एक बयान जारी कर कहा कि जीएसटी का वर्तमान ढांचा दोषपूर्ण है और इसमें समग्र बदलाव के लिए पार्टी संघर्ष जारी रखेगी।
उन्होंने कहा कि इस जीएसटी को जल्दबाजी में तैयार कर लागू किया गया जिससे देश के छोटे व्यापारियों, लघु एवं कुटीर उद्योगों तथा असंगठित क्षेत्र को भारी नुकसान हो रहा है। किसानों को भी इसके दायरे में लाया गया है जो अब तक कभी नहीं हुआ है।
प्रवक्ता ने कहा कि मोदी सरकार का जीएसटी ‘एक देश एक टैक्स नहीं बल्कि एक देश सात टैक्सÓ बन चुका है। कांग्रेस पहले दिन से ही इसका विरोध कर रही है और जीएसटी की अधिकतम दर 18 प्रतिशत की मांग कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*