Monday , 21 May 2018
Breaking News
Home » Jaipur » गहलोत बोले- मोदी मुद्दा भटका रहे

गहलोत बोले- मोदी मुद्दा भटका रहे

राहुल के सवालों का जवाब उनके पास नहीं
जयपुर। कांग्रेस महासचिव अशोक गहलोत ने बुधवार को केंद्र की मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला। राहुल गांधी को 15 मिनट बिना पढ़े बोलने की चुनौती का जवाब देते हुए अशोक गहलोत ने कहा कि नरेंद्र मोदी के पास कोई मुद्दा नहीं होता है तो जानबूझकर मुद्दे को भटकाने की कोशिश करते हैं। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी सवाल पूछ रहे हैं किसानों को लेकर, युवाओं को लेकर, लेकिन वह जवाब देने के बजाए उसको अलग ढंग से ले जाने की कोशिश कर रहे हैं। यही काम इन्होंने गुजरात में किया था। इनके पास जब जवाब नहीं होता है तो ये यही काम करते हैं और ये इस काम में माहिर है, लेकिन कर्नाटक की जनता इन चीजों में अब नहीं पड़ने वाली। लोग इनको समझने लगे हैं और कर्नाटक के चुनाव में इनको जवाब मिलेगा।
राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सरकार पर न्यायपालिका में हस्तक्षेप करने का आरोप लगाते हुए कहा कि आज जैसा माहौल कभी देश में नहीं रहा। आज न्यायपालिका भी सुरक्षित नहीं रह गई। सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश कह रहे हैं कि न्यायपालिका में सब कुछ ठीक नहीं है, इस तरह की न्यायपालिका में स्थिति लोकतंत्र के लिए ठीक नहीं है।
दलितों के घर खाना नौटंकी
अशोक गहलोत ने भाजपा के दलितों के घर खाना खाने के प्लान को भी नौटंकी करार देते हुए कहा कि यह लोग बाहर से खाना मंगा कर दलितों के घर खाते हैं। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी यही करते हैं और इनके बाकी नेता भी यही कर रहे हैं क्योंकि इनकी मानसिकता में यही है। राजस्थान में प्रदेश अध्यक्ष नहीं बनाए जाने को लेकर अशोक गहलोत ने कहा कि वसुंधरा राजे की नरेंद्र मोदी और अमित शाह बेइज्जती कर रहे हैं और इससे राजस्थान की बेइज्जती हो रही है। वसुंधरा राजे को इस्तीफा दे देना चाहिए। कांग्रेस में युवाओं को मौका दिए जाने के सवाल पर अशोक गहलोत ने कहा कि यह बात वह सचिन (शेष पेज 8 पर)मैं तो अनुशासित बच्चा हूं : गहलोत
जयपुर। राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा, मैं तो पार्टी का अनुशासित बच्चा हूं जिसे जहां भी लगाया जाता है समर्पित भाव से कार्य करता हंू। गहलोत ने यह टिप्पणी बुधवार को यहां पत्रकारों के समक्ष की। उन्होंने कहा कि मैं कार्यकर्ता के रूप में एनएसयूआई से पार्टी में शामिल हुआ और उसके बाद केन्द्र और राज्य में विभिन्न पदों पर रह कर अनुशासित कार्यकर्ता के रूप में कार्य करता रहा हूं। उन्होंने पार्टी के नये नेताओं से लाईन बड़ी करने का कार्य करते रहने की नसीहत देते हुये कहा कि 1977 के माहौल से ही वह पार्टी के लिये कार्य करते रहे है और उस माहौल में भी जब प्रदेश में कांग्रेस का एक ही सांसद था तब भी उन्होंने पार्टी का झंडा ऊंचा रखा था। उन्होंने नेताओं को पदों के पीछे नही भागने की सलाह देते हुये कहा कि नेताओं को नई पीढ़ी के लिये राजनीति करनी चाहिये ताकि नयी पीढी पुराने और वरिष्ठ नेताओं से सीख लेकर पार्टी का झंडा ऊंचा करते रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*