Saturday , 25 November 2017
Breaking News
Home » International » पाकिस्तान को बाईपास कर अफगानिस्तान पहुंचा भारत का पहला शिपमेंट

पाकिस्तान को बाईपास कर अफगानिस्तान पहुंचा भारत का पहला शिपमेंट

india-shipping-imageकाबुल। त्रिपक्षीय सहयोग के एक महत्वपूर्ण कदम के तहत भारत से भेजा गया गेहूं का शिपमेंट अफगानिस्तान पहुंच गया है। खास बात यह है कि इसके लिए पाकिस्तानी जमीन का इस्तेमाल नहीं हुआ। पहली बार ईरान के चाबहार पोर्ट के जरिए भारत से सामान अफगानिस्तान भेजा गया है। यह अफगानिस्तान से शानदार कनेक्टिविटी के लिए चाबहार बंदरगाह के ऑपरेशनल होने का रास्ता साफ करेगा।
अफगानिस्तान में भारतीय राजदूत मनप्रीत वोहरा ने ट्वीट किया, चाबहार के रास्ते भारत का पहले गेहूं शिपमेंट का अफगानिस्तान के जरंज में परंपरागत नाच-गान और उल्लास से स्वागत। गर्व का पल।
29 अक्टूबर को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और अफगानिस्तान के विदेश मंत्री सलाहाउद्दीन रब्बानी और ईरान के विदेश मंत्री जवाद जरीफ ने विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शिपमेंट भेजने की शुरूआत की थी। अगले कुछ महीनों में 6 और गेहूं के शिपमेंट अफगानिस्तान को भेजे जाएंगे। यह अफगानिस्तान के लोगों के लिए भारत की ओर से 11 लाख टन गेहूं की सप्लाई के कमिटमेंट का हिस्सा है।
अफगानिस्तान से लैंड रूट के जरिए कारोबार में पाकिस्तान बाधा बना हुआ है। इसके जवाब में ईरान के चाबहार पोर्ट को भारत विकसित कर रहा है, जिसके अगले साल दिसंबर तक ऑपरेशनल होने का अनुमान है। चाबहार पोर्ट के जरिए भारत से सामान समुद्री रूट से अफगानिस्तान भेजा जा सकता है। प्रधानमंत्री मोदी की पिछले साल मई की ईरान की यात्रा के दौरान चाबहार पोर्ट के साथ अफगानिस्तान के जरिए ट्रांसपॉर्ट और ट्रेड कॉरिडोर के लिए त्रिपक्षीय समझौता हुआ था। इससे सेंट्रल एशिया और यूरोप के लिए भारत से शिपमेंट भेजने का खर्च और समय आधा रह जाने का अनुमान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*