Tuesday , 21 November 2017
Breaking News
Home » International » छत्तीसगढ़-झारखंड में बच्चों का इस्तेमाल कर रहे नक्सली : संरा

छत्तीसगढ़-झारखंड में बच्चों का इस्तेमाल कर रहे नक्सली : संरा

न्यूयॉर्क। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस का कहना है कि संयुक्त राष्ट्र को ऐसी रिपोर्ट्स मिली हैं कि नक्सली संगठन छत्तीसगढ़ और झारखंड में सुरक्षा बलों से लडऩे के लिए बच्चों का इस्तेमाल कर रहे हैं। इसके साथ ही आतंकवादियों ने पिछले साल कश्मीर में 30 स्कूलों को जलाकर खाक कर दिया था। महासचिव ने भारत सरकार से अपील की है कि वह इन आतंकवादी संगठनों और हिंसा से बच्चों को बचाने के लिए तेजी से काम करे।
गुटेरेस ने सशस्त्र संघर्ष में बच्चों पर अपनी सालाना रिपोर्ट में कहा, बच्चे हथियारबंद समूहों और सरकार के बीच विशेष रूप से छत्तीसगढ़ और झारखंड में हो रही हिंसा और जम्मू-कश्मीर में उपजे तनाव की घटनाओं से प्रभावित हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार की रिपोर्ट्स के मुताबिक, जम्मू -कश्मीर में हथियारबंद समूहों द्वारा 30 स्कूलों को जला दिया गया है या आंशिक रूप से नष्ट कर दिया गया है। उन्होंने कहा, इसके अलावा, सरकारी रिपोर्ट्स में पुष्टि की गई है कि सुरक्षाबल बीते कई सप्ताह से चार स्कूलों का सैन्य इस्तेमाल कर रहे हैं।
साल 2016 की इस रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले साल नक्सलियों या अन्य हथियारबंद समूहों द्वारा बच्चों के इस्तेमाल में कमी आई है और अब 6 राज्यों की तुलना में सिर्फ दो राज्यों में ही इनका इस्तेमाल किया जा रहा है। संयुक्त राष्ट्र की 2015 की रिपोर्ट में तत्कालीन संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने कहा था कि नक्सली बिहार, छत्तीसगढ़, झारखंड, महाराष्ट्र, ओडिशा और पश्चिम बंगाल में 6 साल तक के बच्चों का इस्तेमाल कर रहे हैं।
गुटेरेस ने इस बात को चिंताजनक बताया है कि नक्सली छत्तीसगढ़ में कई स्कूल चला रहे हैं, और वे उसमें पाठ्यक्रम के हिस्से के रूप में बच्चों को लड़ाई का प्रशिक्षण दे रहे हैं। रिपोर्ट में एक घटना का जिक्र किया गया है। पुलिस ने मार्च 2016 में झारखंड के गुमला जिले में ऐसे 23 बच्चों को सुरक्षा दी, जिन्हें आतंकवादी समूहों द्वारा अगवा किए जाने की धमकी मिली थी। इन बच्चों का स्कूलों में दाखिला कराने में मदद की गई। कई अपुष्ट रिपोर्ट्स के मुताबिक, ऐसा हो सकता है कि पुलिस जवाबी कार्रवाई के लिए पहले इन हथियारबंद समूहों से जुड़े बच्चों का इस्तेमाल मुखबिर के तौर पर कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*