Tuesday , 21 November 2017
Breaking News
Home » India » Uttar Pradesh » हर जिले के लिए 2 चलती-फिरती आईसीयू एंबुलेंस

हर जिले के लिए 2 चलती-फिरती आईसीयू एंबुलेंस

लखनऊ। ”समाजवादी” एंबुलेंस सेवा अब यूपी सरकार के नाम से क्रिटिकल मरीजों के लिए नई एंबुलेंस सेवा के रूप में उत्तर प्रदेश की सड़कों पर दौड़ेगी। गुरूवार को मुख्यमंत्री ने 5 कालिदास मार्ग पर एएलएस यानी ”एडवांस लाइफ सपोर्ट एंबुलेंस सेवा” को शाम करीब 4 बजे हरी झंडी दिखाई।
इस मौके पर योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश के सभी जिलों को दो-दो एंबुलेंस उपलब्ध कराया जाएगा, जिसमें सभी आधुनिक सुविधाएं होंगी। उन्होंने बताया कि इस एंबुलेंस में आईसीयू जैसी सुविधाएं होंगी ताकि दूर-दराज के मरीजों को सही तरीके अस्पताल तक पहुंचाया जा सके। इसके साथ ही सीएम योगी ने बताया कि इस काम के लिए रकम केंद्र सरकार देगी। इसे सुचारू रूप से लागू करना राज्य सरकार की जिम्मेदारी होगी। उन्होंने कहा कि ये योजना चाहती तो पिछली सरकार ही लागू कर सकती थी, लेकिन इच्छाशक्ति में कमी की वजह से संभव नहीं हो सका।
पहले चरण में 150 एंबुलेंस को प्रदेश के 75 जिलों में दौड़ाया जाएगा। खास बात यह है कि यह एंबुलेंस आधुनिक उपकरणों से लैस होगी और क्रिटिकल केयर के लिए अपने आप में एक चलता-फिरता आइसीयू होगी।
योगी ने कहा, प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं का अभाव है, इसे देखते हुए केंद्र से ये सुविधा मिली। हालांकि इसके बावजूद राज्य ने इसका लाभ नहीं उठाया। उन्होंने पिछली अखिलेश यादव सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा, राज्य सरकार ने केंद्र सरकार से इन योजनाओं के लिए पैसा इसलिए नहीं लिया, कि कहीं मोदी जी को क्रेडिट न मिल जाए। अपनी इस नई एम्बुलेंस सेवा के बारे में बताते हुए योगी ने कहा, इस सेवा के अंतर्गत कुल 250 एम्बुलेंस उपलब्ध कराएंगे। इस सभी एम्बुलेंस में किसी भी तरह की खराबी हुई तो उसकी भी जवाबदेही तय होगी। उन्होंने बताया कि यह एम्बुलेंस केंद्र की एनआरएचएम योजना के तहत चलाई जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*