Tuesday , 21 November 2017
Breaking News
Home » India » New Delhi » ससुराल वालों का दुल्हन से बात न करना क्रूरता नहीं

ससुराल वालों का दुल्हन से बात न करना क्रूरता नहीं

नई दिल्ली। ससुरालवालों का दुल्हन से बात न करना क्रूरता की श्रेणी में नहीं आता और इसके लिए क्रूरता से जुड़ी आईपीसी की धारा 498 ए के तहत किसी सजा का प्रावधान नहीं है। यानी अगर ससुराल में पति समेत ससुराल वाले दुल्हन से कई दिनों तक बात नहीं करते तो यह क्रूरता नहीं मानी जाएगी। ऐसा कहना है सुप्रीम कोर्ट का।
सुप्रीम कोर्ट ने यह फैसला धारा 498ए के तहत दायर किए गए ऐसे केस में दिया, जिसमें एक महिला ने अपने पति और ससुरालवालों पर क्रूरता का आरोप लगाया था। महिला का आरोप था कि शादी के बाद 20 दिनों तक वह अपने पति के साथ रही लेकिन इस दौरान न पति ने उससे बात की और न ससुरालवालों ने, उन्हें अलग-थलग रहना पड़ा। महिला का आरोप है कि कई ईमानदार कोशिशें करने के बावजूद पति ने उनसे बेफिक्र होकर बात नहीं की। महिला ने पति पर उनसे दूर भागने और शारीरिक संबंध बनाने से इनकार करने का भी आरोप लगाया। एक अन्य केस में सुप्रीम कोर्ट पहले यह फैसला सुना चुका है कि पति का पत्नी के साथ रहने से इनकार तलाक का आधार बन सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*