Thursday , 23 November 2017
Breaking News
Home » India » New Delhi » किताब से सामने आई डोकलाम की अनकही बात

किताब से सामने आई डोकलाम की अनकही बात

नई दिल्ली। जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच हुई बैठक में डोकलाम समाधान के प्रस्ताव का मंच तैयार किया गया था। एक नई किताब ने इस बात का खुलासा किया है। रणनीतिक मामलों के विशेषज्ञ नितिन ए. गोखले द्वारा लिखी किताब सिक्योरिंग इंडिया द मोदी वे में इस बात का खुलासा किया गया है कि जी -20 में शी से मोदी की अघोषित मुलाकात में यह तय किया गया था। 16 जून से 7 जुलाई तक चले इस सम्मेलन को लेकर विदेश मंत्रालय ने कहा था कि दोनों नेताओं के बीच कई मुद्दों पर चर्चा हुई थी, वहीं चीनी अधिकारियों ने किसी भी तरह के द्विपक्षीय वार्ता से साफ इनकार किया था।
गोखले की किताब का वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को विमोचन किया। किताब के मुताबिक, दोनों नेताओं की संक्षिप्त मुलाकात के दौरान, मोदी ने शी को सुझाव दिया कि दोनों देशों के विशेष प्रतिनिधि, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और चीनी राज्य काउंसलर यांग जीइची को डोकलाम मुद्दे को सुलझाने के प्रयास का नेतृत्व करना चाहिए। मोदी ने कहा था, हमारे सामरिक संबंध डोकलाम जैसे छोटे सामरिक मुद्दों से काफी बड़े हैं।
इसके 15 दिनों बाद ही अजीत डोभाल ब्रिक्स सम्मेलन में भाग लेने बीजिंग गए। किताब में यह भी कहा गया है कि, इस पूरे डोकलाम मामले में बीजिंग में राजदूत विजय गोखले के नेतृत्व में दोनों पक्षों के बीच करीब 38 बैठकें हुईं।
एनएसए डोभाल और विदेश सचिव एस जयशंकर की टीम को प्रधानमंत्री मोदी द्वारा कूटनीति और दृढ़ता के सख्त निर्देश दिए गए थे। इसके अलावा सितंबर में होने वाले ब्रिक्स शिखर सम्मेलन से भी इस मामले को सुलझाने में काफी मदद मिली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*