Saturday , 16 December 2017
Breaking News
Home » India » Jammu Kashmir » लश्कर कमांडर दुजाना ढेर

लश्कर कमांडर दुजाना ढेर

श्रीनगर। दक्षिण कश्मीर के पुलवामा में मंगलवार को सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा का स्वंयभू कमांडर अबु दुजाना समेत दो आतंकवादी मारे गये।
सेना के 15वीं कोर के जनरल ऑफिसर कमांङ्क्षडग (जीओसी) जे एस संधू एवं कश्मीर क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक मुनीर अहमद खान ने दुजाना के मारे जाने को सुरक्षा बलों के लिए एक बड़ी कामयाबी बताते हुए कहा कि स्थानीय लोगों द्वारा प्रदर्शन एवं पथराव के बावजूद आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई जारी रहेगी।
खान ने मुठभेड़ में एक नागरिक के मारे जाने और सात अन्य के घायल होने पर अफसोस जताते हुए लोगों से घटनास्थल से दूर रहने की अपील की। उन्होंने पुलवामा में एहतियातन इंटरनेट सेवा बंद करने की पुष्टि भी की है।
लेफ्टिनेंट जनरल संधु और खान ने मुठभेड़ समाप्त होने के बाद संयुक्त संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए बताया कि सोमवार रात मिली खुफिया सूचना के आधार पर पुलवामा जिले के हाकरीपोरा गांव के एक घर में दो आतंकवादियों के छुपे होने की सूचना के बाद तलाशी अभियान चलाया गया था। उन्होंने बताया कि जब क्षेत्र की घेराबंदी की जा रही थी उसी दौरान घर में छुपे आतंकवादियों ने सेना पर स्वचालित हथियार से गोलीबारी शुरू कर दी।
उन्होंने कहा कि सुबह घर के अन्य लोगों के बाहर आने के बाद लगभग साढ़े आठ बजे आतंकवादियों के खिलाफ अभियान शुरू किया गया। उन्होंने कहा, हमने आतंकवादियों को आत्मसमर्पण करने का पर्याप्त समय दिया और पास स्थित मस्जिद से बार-बार आतंकवादियों को आत्मसमर्पण करने के लिए कहा इसके बाद भी वे बाहर नहीं निकले और लगातार गोलीबारी करते रहे। बाद में सुरक्षाबलों को मजबूरन जवाबी कार्रवाई करनी पड़ी जिसमें दोनों आतंकवादी मारे गए।
जनरल संधू ने बताया कि घर के मलबे से दोनों के शवों बरामद कर एक की पहचान कश्मीर में लश्कर-ए-तैयबा के स्वंयभू कमांडर अबु दुजाना के रूप में की गयी। वह पाकिस्तान का रहने वाला था। एक अन्य आतंकवादी की पहचान स्थानीय निवासी आरिफ ललिहारी के रूप में हुई है।श्रीनगर। सेना की मोस्ट वॉन्टेड आतंकियों की लिस्ट में शामिल लश्कर कमांडर अबु दुजाना कई बार सुरक्षा बलों की गोली का शिकार होते-होते बचा था। बताया जा रहा है कि वह पांच बार सुरक्षा बलों को चकमा देकर भागने में कामयाब रहा था, लेकिन मंगलवार को सेना के जवानों ने उसे इस तरह घेरा कि उसके लिए भागना नामुमकिन हो गया। जानकारी के मुताबिक, वह अपनी पत्नी से मिलने के लिए गांव आया था। इसी दौरान सुरक्षा बलों ने खुफिया जानकारी के आधार पर उसे घेर लिया। यह जानकारी भी सामने आ रही है कि पिछली बार एनकाउंटर के दौरान उसका आईफोन मौके पर छूट गया था। इस आईफोन के सहारे भी सुरक्षा बलों को उसकी मूवमेंट का पता चला।
सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक, दुजाना के आईफोन की मदद से सेना को उसके और अन्य आतंकियों के मूवमेंट की जानकारी मिली। सुरक्षा बल इसके जरिए लगातर दुजाना की हर गतिविधि पर नजर बनाए हुए थे। मंगलवार की सुबह उसे पुलवामा जिले के हकड़ीपोरा गांव में घेर लिया गया। बताया जा रहा है कि वह अपनी पत्नी से मिलने के लिए गांव में आया था। सुरक्षा बलों को इस बात की जानकारी पहले से थी कि दुजाना अपनी पत्नी से मिलने के लिए वक्त-वक्त पर यहां आता रहा है। इसके पहले भी दो बार उसे यहां देखा गया था। ऐसे में उसके यहां आने की टाइमिंग को बहुत बारीकी से नोटिस किया गया। इस बार जैसे ही उसके आने की खुफिया सूचना मिली, पुलिस और सुरक्षा बल के जवान सादे कपड़ों में वहां पहुंच गए। दो घंटे बाद मौके पर अतिरिक्त फोर्स पहुंची।
इसके बाद जम्मू-कश्मीर पुलिस और उसके स्पेशल ऑपरेशन गु्रप की अगुवाई में पूरे इलाके को घेर पर सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया। पुलिस को सेना की 182 बटालियन, 183 बटालियन, 55 राष्ट्रीय राइफल्स और सीआरपीएफ का सहयोग मिला। खुफिया जानकारी की पुष्टि होने के बाद सुबह 4.30 बजे ऑपरेशन शुरू किया गया था। सर्च ऑपरेशन में पता चला कि दोनों आतंकी एक घर के अंदर छिपे हुए हैं। उन्हें बाहर निकालने की पहले हर संभव कोशिश की गई, लेकिन जब आतंकी बाहर नहीं आए तो इमारत को उड़ाने के सिवा कोई रास्ता नहीं बचा।
पुलिस ने बताया है कि दुजाना खूंखार आतंकी होने साथ-साथ बहुत बड़ा अय्याश भी था और इलाके की लड़कियों के लिए भी बड़ा खतरा बन चुका था।
पुलिस ने बताया कि दुजाना, लश्कर के ए प्लस प्लस कैटिगरी का आतंकी था। यह कैटिगरी सबसे खूंखार आतंकियों को दी जाती है। सेना की ओर से जारी की गई मोस्ट वॉन्टेड आतंकियों की लिस्ट में भी दुजाना शामिल था। उस पर 10 लाख रूपये का इनाम भी घोषित किया गया था, लेकिन उसे मार गिराने की कोशिशें लगातार नाकाम हो रही थीं। पुलिस ने बताया है कि दुजाना जम्मू-कश्मीर में अय्याशी किया करता था। अय्याशी के लिए वह किसी भी घर में घुस जाया करता था। एक तरह से वह इलाके की लड़कियों के लिए भी खतरा बन गया था। पुलिस के मुताबिक, वह बहुत ज्यादा हमलों में शामिल नहीं था, वह बस यहां अय्याशी कर रहा था, वह अय्याश था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*