Thursday , 23 November 2017
Breaking News
Home » India » Jammu Kashmir » रक्षामंत्री ने सियाचिन में जवानों संग मनाई विजयादशमी

रक्षामंत्री ने सियाचिन में जवानों संग मनाई विजयादशमी

श्रीनगर। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को दुनिया के सबसे ऊंचे युद्ध क्षेत्र सियाचिन में जवानों के साथ विजयादशमी मनाई। उन्होंने अग्रिम चौकियों पर तैनात जवानों का मनोबल बढ़ाते हुए सैन्य तैयारियों का जायजा लिया। साथ ही लेह को काराकोरम से जोडऩे वाले रास्ते पर श्योक नदी पर बने पहले पुल को भी जनता को समर्पित किया। रक्षा मंत्री ने लद्दाख के अग्रिम इलाकों में चीन द्वारा अक्सर वास्तविक नियंत्रण रेखा का उल्लंघन करने से पैदा होने वाले हालात पर भी सैन्य अधिकारियों के साथ विशेष बैठक की। उन्होंने निर्देश दिया कि यदि चीन कोई दुस्साहस करता है तो उसका जवाब दें। रक्षा मंत्री शुक्रवार को जम्मू कश्मीर के दो दिवसीय दौरे पर श्रीनगर पहुंची थीं। रक्षा मंत्री बनने के बाद यह उनका पहला राज्य दौरा है। शनिवार सुबह रक्षा मंत्री वायुसेना के विशेष विमान में सियाचिन के आधार शिविर थोईस पहुंची, जहां लद्दाख में सरहदों की हिफाजत में जुटी सेना की फायर एंड फयूरी कोर के लेफ्टिनेंट जनरल एसके उपाध्याय व अन्य सैन्य अधिकारियों ने उनका स्वागत किया। रक्षा मंत्री के साथ थल सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत और उत्तरी कमान के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल अनबू भी थे। सीतारमण ने सियाचिन पहुंचने के बाद फायर एंड फयूरी कोर के वरिष्ठ कमांडरों के साथ बैठक में सियाचिन और चीन के साथ सटी वास्तविक नियंत्रण रेखा के मौजूदा हालात पर चर्चा की। उन्होंने सेना की तैयारियों की समीक्षा करते हुए सैनिकों को उपलब्ध सुविधाओं पर भी संबंधित सैन्य कमांडरों के साथ विचार-विमर्श किया। सीतारमण ने सियाचिन में तैनात सैन्यकर्मियों के एक दरबार को संबोधित करते हुए विजयादशमी की मुबारकबाद दी और प्रतिकूल परिस्थितियों में भी देश की सरहद पर डटे रहने के लिए उनकी राष्ट्रभक्ति और कर्तव्यनिष्ठा की सराहना की। दौरे के दौरान उन्होंने वायुसेना के अधिकारियों के साथ भी बैठक की और सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) द्वारा श्योक नदी पर निर्मित पुल श्योक सेतु का उद्घाटन किया। यह पुल सामरिक दृष्टि से अत्यंत महत्वपूर्ण है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*