Tuesday , 21 November 2017
Breaking News
Home » India » 5 दिनों तक गैस चैंबर बनी रहेगी दिल्ली

5 दिनों तक गैस चैंबर बनी रहेगी दिल्ली

delhi_smogनई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर में गैस चैंबर जैसे हालात से राहत मिलती नहीं दिख रही है। मौसम विभाग की मानें तो आने वाले 5 दिनों तक राहत मिलने की उम्मीद नहीं है। हवा का मूवमेंट न के बराबर है जिसकी वजह से वातावरण से जहरीले स्मॉग के दूर होने में कठिनाई है। दिल्ली में पलूशन का स्तर विश्व स्वास्थ्य संगठन की लिमिट से 40 गुना अधिक हो गया है। डॉक्टरों और स्वास्थ्य संगठनों ने दिल्ली-एनसीआर में ‘हेल्थ इमर्जेंसीÓ घोषित कर रखी है। वहीं दिल्ली सरकार ने सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों को रविवार तक बंद रखने का आदेश दिया है।
यूएस दूतावास के आंकड़ों के मुताबिक दिल्ली की हवा में पीएम 2.5 पार्टिकल्स का स्तर 1000 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर से ज्यादा चला गया है। पीएम 205 पार्टिकल्स स्वास्थ्य के लिए काफी हानिकारक होते हैं। डब्ल्यूएचओ की सेफ लिमिट की तुलना में यहां इसका स्तर 40 गुना अधिक हो गया है। प्रदूषण का स्तर मानकों से
40 गुना अधिक5 दिन तक नहीं सुधरेंगे हालात ? सबसे बड़ा संकट इस स्मॉग के लंबे समय से बने रहने के संकेतों को लेकर खड़ा हो गया। क्षेत्रीय मौसम विभाग ने बताया कि स्मॉग और बादली भरा मौसम आगे आने वाले दिनों तक बना रहेगा। मौसम विभाग के मुताबिक न तो हवा का कोई मूवमेंट दिख रहा है और न ही हवा का इतना दबाव बन पा रहा है कि धुंध में मौजूद हानिकारक कण तितर-बितर हो सकें। मौसम विभाग के अधिकारियों का कहना है कि साल के इस समय में खासकर बनने वाला पश्चिमी दबाव भी दिखता नजर नहीं आ रहा है। उनके मुताबिक दिल्ली-एनसीआर में स्मॉग की स्थिति आने वाले 5 दिनों तक बनी रह सकती है, साथ ही बदतर भी हो सकती है। अधिकारियों को तत्काल राहत मिलने के कोई संकेत नजर नहीं आ रहे हैं। ‘इंसानों के रहने लायक नहीं रहा शहरÓडॉक्टरों का कहना है कि दिल्ली में स्मॉग की समस्या इतनी विकराल हो गई है कि फिलहाल यह शहर इंसानों के रहने लायक नहीं रह गया है। श्री गंगा राम अस्पताल के चेस्ट सर्जरी सेंटर के चेयरमैन डॉक्टर अरविंद कुमार का कहना है कि वातावरण में जिस तरह का जहर फैला हुआ है वह आपके ब्रेन, हार्ट, लंग्स और शरीर के सभी हिस्सों के लिए नुकसानदायक है। उनके मुताबिक यह जहरीला धुआं शरीर को अपूरणीय क्षति पहुंचा रहा है। पड़ोसी राज्यों हरियाणा और पंजाब में जलाई जा रही पराली को इस स्मॉग की वजह माना जा रहा है। एक अनुमान के मुताबिक इन दो राज्यों में हर साल 320 लाख टन पराली जलाई जाती है। इस वजह से पैदा होने वाले धुएं ने पिछले साल भी दिल्ली-एनसीआर और पश्चिमी यूपी में हफ्तों दमघोंटू माहौल बनाकर रखा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*