Thursday , 18 January 2018
Breaking News
Home » India » 31 उपग्रहों के प्रक्षेपण के साथ शतक पूरा

31 उपग्रहों के प्रक्षेपण के साथ शतक पूरा

इसरो ने रचा इतिहासड्ड

बेंगलुरू। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने अंतरिक्ष में एक और ऊंची छलांग लगाते हुए शुक्रवार को यहां के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान पीएसएलवी-40 सी के जरिये पृथ्वी अवलोकन उपग्रह कार्टोसैट-2 सहित 31 उपग्रहों का सफल प्रक्षेपण किया जिसके साथ ही इसरो निर्मित उपग्रहों के प्रक्षेपण का शतक पूरा हो गया।
पीएसएलवी-सी40 रॉकेट का सुबह नौ बजकर 29 मिनट पर अंतरिक्ष केंद्र से प्रक्षेपण किया गया जो बादलों से भरे आसमान को चीरता हुआ अपने गंतव्य की ओर बढ गया। इस रॉकेट के जरिये 710 किलोग्राम वजनी कार्टोसैट-2 के साथ 28 विदेशी उपग्रहों का भी प्रक्षेपण किया गया जिनमें अमेरिका, कनाडा, फ्रांस, दक्षिण कोरिया, ब्रिटेन और फिनलैंड के उपग्रह शामिल हैं। इसके साथ ही दो अन्य भारतीय उपग्रह-पांच किलो वजनी नैनो अंतरिक्ष यान और लगभग 100 किलो वजनी सूक्ष्म उपग्रह शामिल हैं। सभी 31 उपग्रहों का वजन लगभग 1323 किलोग्राम है।
इसरो के अध्यक्ष ए एस किरण कुमार ने उपग्रहों के सफल प्रक्षेपण पर प्रसन्नता जताते हुए कहा कि इसरो ने कार्टोसैट-2 और अन्य उपग्रहों के सफल प्रक्षेपण के साथ 2018 की शुरूआत की है। यह देश के लिए इसरो की तरफ से नववर्ष का तोहफा है। उन्होंने कहा कि कार्टोसैट-2 का प्रदर्शन संतोषजनक है और अधिकारी अन्य उपग्रहों के प्रदर्शन पर नजर रखे हुए हैं।
कार्टोसैट-2 प्रक्षेपण के 1040 सेकंड बाद रॉकेट से अलग होकर अपनी निर्धारित कक्षा में स्थापित हो गया। इसके कुछ समय बाद ही नैनो उपग्रह और सूक्ष्म उपग्रह एक-एक करके अपनी-अपनी नियत कक्षा में स्थापित हुए। यह इस वर्ष देश का पहला पीएसएलवी मिशन है। इसरो चार महीने पहले 31 अगस्त को इसी तरह का एक रॉकेट नौवहन उपग्रह आईआरएनएसएस-1एच को धरती की कक्षा में स्थापित करने में नाकाम रहा था। इस मिशन का प्राथमिक लक्ष्य कार्टोसैट-2 उपग्रह को पृथ्वी संबंधी आंकड़ों के (शेष पेज 8 पर)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*