Tuesday , 21 November 2017
Breaking News
Home » India » 2 रेप मामलों में 10-10 साल का कारावास, दोनों सजाएं अलग-अलग चलेंगी

2 रेप मामलों में 10-10 साल का कारावास, दोनों सजाएं अलग-अलग चलेंगी

न राम, न रहीम….. सिर्फ कैदी नं. 1997रेपिस्ट बाबा को 20 साल की सजारोहतक/नई दिल्ली। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत ने साध्वी बलात्कार मामले में सिरसा के डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को सोमवार को 20 साल की सजा सुनाई और 30 लाख रूपये का जुर्माना लगाया। सीबीआई के प्रवक्ता अभिषेक दयाल ने नई दिल्ली में स्पष्ट किया कि दो बलात्कार मामलों में राम रहीम को 10-10 साल की सजा सुनायी गयी है, जो अलग-अलग चलेगी। एक सजा खत्म होने के बाद दूसरी सजा शुरू होगी। इस तरह उसे 20 साल जेल में रहना पड़ेगा। न्यायाधीश जगदीप ङ्क्षसह ने सुनारिया जिला जेल में स्थापित अस्थायी अदालत में बलात्कार के इन दोनों मामलों में 15-15 लाख रूपये का जुर्माना भी लगाया। इस राशि में से 14-14 लाख रूपये दोनों पीडि़ता को मिलेंगे।
इससे पहले सजा की अवधि को लेकर भ्रम की स्थिति बनी रही। पहले यह खबर आई थी कि राम रहीम को 10 साल की सजा और 65 हजार रूपये का जुर्माना लगाया गया है, लेकिन बाद में सीबीआई ने नई दिल्ली में स्थिति स्पष्ट की कि दोनों बलात्कार मामलों में अलग-अलग सजा सुनायी गयी है। सजा की एक अवधि खत्म होने के बाद दूसरी शुरू होगी। राम रहीम के वकील एस के नरवाना ने कहा है कि फैसले के खिलाफ ऊपरी अदालत में अपील की जायेगी। सीबीआई अदालत ने भारतीय दंड संहिता की धारा 376, 506 और 509 के तहत डेरा प्रमुख को सजा सुनाई। सजा का एलान होते ही डेरा प्रमुख अदालत के कटघरे में ही फूट-फूटकर रोने लगा। (शेष पृष्ठ ८ पर)
न्यायाधीश ने जेल अधिकारियों को उसे कैदी की वर्दी देने का आदेश दिया। न्यायाधीश ने कहा कि राम रहीम को इसके अलावा और कोई कपड़ा पहनने के लिए नहीं दिया जाये।
न्यायाधीश ने डेरा प्रमुख को जेल की बैरक में ले जाने से पूर्व उसकी चिकित्सा जांच कराने को भी कहा। राम रहीम को जेल में कैदी नम्बर 1997 दिया गया है।
सुरक्षा के मद्देनजर पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय ने डेरा प्रमुख को सजा सुनाने के लिये सीबीआई की पंचकूला अदालत को एक दिन के लिये सुनारिया जेल स्थानांतरित करने के आदेश दिये थे जिसके तहत न्यायाधीश जगदीप ङ्क्षसह पूर्वाह्न पंचकूला से हेलीकॉप्टर से यहां पहुंचे। विशेष न्यायाधीश ने पंचकूला की तरह यहां भी अपराह्न ढाई बजे अदालती कार्यवाही शुरू की। उन्होंने अभियोजन तथा बचाव पक्षों को इस मामले में तथा सजा को लेकर अपन पक्ष रखने के लिये 10-10 मिनट का समय दिया। सीबीआई ने अदालत से डेरा प्रमुख को अधिकतम सजा देने की मांग की। उसके वकील ने कहा कि डेरा में केवल एक साध्वी से नहीं बल्कि अनेक महिलाओं के साथ दुष्कर्म हुआ है लेकिन अन्य सामने नहीं आई हैं। इन महिलाओं के साथ लगभग तीन साल तक दुष्कर्म होता रहा। बचाव पक्ष के वकील ने डेरे द्वारा किये गये रिकार्ड रक्तदान, पौधारोपण, सफाई, निशुल्क उपचार, अनाथ बच्चों और गरीबों की मदद को शिक्षा क्षेत्र और आम जनता की भलाई के लिये किये जा रहे कार्यों तथा डेरा प्रमुख के स्वास्थ्य का हवाला देते हुये उस पर नरमी बरतने का अनुरोध किया। इस दौरान डेरा प्रमुख ने न्यायाधीश की ओर हाथ जोड़ कर उन्हें माफ करने की गुहार लगाई और उनकी आंखों में आंसू छलक पड़े। रहम की भीख मांगता रहा डेरा चीफ
रोहतक। साध्वी के साथ रेप के दोषी डेरा सच्चा सौदा के चीफ गुरमीत राम रहीम को सीबीआई की विशेष अदालत ने सोमवार को 10 वर्ष की सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। सजा सुनते ही राम रहीम रोने लगा और जमीन पर बैठ गया। करोड़ों श्रद्धालुओं के ”पिताजीÓÓ कहे जाने वाले डेरा चीफ जज से माफी की भीख मांगते दिखा। सीबीआई के विशेष जज जगदीप सिंह ने जैसे ही अपना फैसला पढऩा शुरू किया राम रहीम बार-बार 7 साल, 7 साल बोलने लगे। यानी रेप केस में वह अधिकतम 10 साल की बजाए 7 साल की सजा की मांग कर रहे थे। जज (शेष पृष्ठ ८ पर)
जगदीप ने राम रहीम की किसी बात पर कोई ध्यान नहीं दिया और उन्हें 10 साल की सजा सुना दी। पूरी सुनवाई के दौरान आंखों में आंसू भरे राम रहीम सजा के बाद जमीन पर बैठकर रोने लगे। रिपोर्ट्स के मुताबिक जब पुलिसकर्मी उसे कस्टडी में लेने आए तो वह कहीं नहीं जाने की जिद करने लगा
जेल में काम करना पड़ेगा
चंडीगढ़। रेप केस में सजा पा चुका राम रहीम अब 10 साल जेल में बिताएगा। कभी लग्जरी गाडिय़ों, ब्रांडेड कपड़े पहनने वाले और फाइव स्टार जैसी गुफा में आलीशन बिस्तर पर रंगरेलियां मनाने वाले तथाकथित संत को अब बेहद सादगी का जीवन गुजारना होगा। जेल में राम रहीम को सिर्फ दो जोड़ी खादी का कुर्ता-पायजामा, 2 सफेद चद्दर, 2 कंबल, एक प्लेट, चाय का मग ही मिलेगा। उसे कोई गद्दा या बिस्तर नहीं मिलेगा, यानी उसे जमीन पर कंबल बिछाकर ही सोना पड़ेगा। वह अपने साथ जो सूटकेस लेकर घूम रहा था उसे वापस भेज दिया जाएगा और उसके अपने कपड़े भी उसे वापस करने होंगे।
करना होगा काम
राम रहीम को सश्रम कारावास की सजा दी गई है, इसलिए उसे जेल में काम भी करना होगा। उसके सेहत के मुताबिक ही जेल के अधिकारी उसे काम सौंपेंगे। उसके स्किल्ड और अनस्किल्ड काम के मुताबिक उसे मजदूरी भी मिलेगी। यदि वह कारखाने में काम करने लायक नहीं हुआ तो उसे लाइब्रेरी में कोई काम दिया जा सकता है। बाबा को बाहर से कोई खाना नहीं मिलेगा और वह बाहर से दवाइयां भी नहीं मंगा पाएगा। कल राम रहीम का ‘मुलाजाÓ दिवस होगा। (शेष पृष्ठ ८ पर)
इसका मतलब यह है कि कल जेल अधिकारी उसके गुनाहों और अन्य चीजों के बारे में सारा विवरण एक जेल रजिस्टर में दर्ज करेंगे। उसे हफ्ते में सिर्फ एक बार बाहर के किसी व्यक्ति से मिलने का अवसर मिल सकेगा। इसके अलावा जेल के नियमों के मुताबिक राम रहीम के वकील भी उससे मिल सकेंगे।
डेरे के कुछ और खास लोगों को दबोचने की तैयारी
चंडीगढ़। बलात्कार के दोषी गुरमीत राम रहीम को वीवीआईपी ट्रीटमेंट देने के आरोपों से फजीहत झेल रही हरियाणा पुलिस जल्द ही डेरे से जुड़े कुछ और खास लोगों की घेराबंदी कर सकती है। इन लोगों पर राष्ट्रद्रोह से लेकर दूसरी संगीन धाराओं के तहत केस दर्ज हो सकते हैं। इधर, सूत्रों का दावा है कि गुरमीत राम रहीम को भगाने की कोशिश करने वाले हरियाणा पुलिस के 3 कमांडों को बर्खास्त करने के आदेश दे दिए गए हैं। इस मामले में शुरू में राष्ट्रद्रोह के दो मामले दर्ज हुए थे लेकिन, अगले ही दिन गुरमीत राम रहीम की सेवा में लगाए गए हरियाणा पुलिस के 3 कमांडों द्वारा बाबा को छुड़ाने की उजागर हुई घटना का मामला भी जुड़ गया। इसी बीच पंजाब और हरियाणा काईकोर्ट द्वारा एक खबर पर संज्ञान लिए जाने के बाद पुलिस ने डेरा के प्रवक्ताओं आदित्य इंसा और धीमान इंसा के खिलाफ भी देशद्रोह का मामला दर्ज कर लिया था। पंचकूला में (शेष पृष्ठ ८ पर)
25 तारीख को सीबीआई की विशेष अदालत से दोषी करार दिए जाने के बाद इन कमांडोज ने राम रहीम को पुलिस की कस्टडी से भगाने की कोशिश की थी। माना जा रहा है कि ये कमांडो राम रहीम के साथ ही आए थे। इनसे एक एके 47, राइफल और भी कई हथियार बरामद किए गए थे। ये कमांडो पिछले 6 साल से गुरमीत राम रहीम को सुरक्षा दे रहे थे।
जज को जेड प्लस सिक्यॉरिटी की तैयारी
साध्वी यौन शोषण मामले में गुरमीत राम रहीम के खिलाफ सजा सुनाने वाले पंचकूला सीबीआई की विशेष अदालत के जज जगदीप सिंह को जेड प्लस सिक्यॉरिटी मुहैया करवाए जाने की तैयारी है। सूत्रों ने बताया कि मौजूदा हालातों को देखते हुए इस मुद्दे पर गंभीरता से विचार किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*