Thursday , 23 November 2017
Breaking News
Home » India » राम रहीम बलात्कार का दोषी

राम रहीम बलात्कार का दोषी

पंचकूला। हरियाणा में यहां केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत ने लगभग 15 वर्ष पुराने बहुचर्चित साध्वी यौन शोषण मामले में सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को शुक्रवार को दोषी करार दिया है। अदालत इस मामले में सजा का एलान 28 अगस्त को करेगी।
सीबीआई न्यायाधीश जगदीप सिंह ने डेरा प्रमुख की उपस्थिति में अपना फैसला सुनाने के साथ ही कहा कि दोषी को इस मामले में कितनी सजा हो, इस पर 28 अगस्त को दोनों पक्षों की बहस होगी। बहस के बाद ही अदालत सजा का एलान करेगी।
अदालत के फैसला सुनाने के वक्त डेरा प्रमुख करबद्ध होकर कटघरे में खड़ा था। उसकी नजरें नीचे थीं। फैसला सुनाये जाने के बाद पुलिस ने डेरा प्रमुख को हिरासत में ले लिया।
डेरा प्रमुख को अम्बाला सेंट्रल जेल ले जाया गया, जहां उसे रखने की पूरी तैयारियां की जा चुकी हैं। पूरी जेल को छावनी में तब्दील कर दिया गया है। यहीं से पुलिस अब डेरा प्रमुख को 28 अगस्त को पंचकूला में सीबीआई अदालत के समक्ष पेश करेगी जब उन्हें इस मामले में सजा सुनाई जाएगी।
कानूनविदों के अनुसार इस मामले में डेरा प्रमुख को 7 साल तक की सजा हो सकती है तथा कम से एक तिहाई सजा काटने के बाद ही उनकी जमानत अर्जी पर विचार किया जा सकेगा।
इससे पूर्व इसी अदालत ने गत 17 अगस्त को इस मामले में दोनों पक्षों की जिरह पूरी होने के बाद फैसला सुनाने के लिये 25 अगस्त की तारीख तय की थी।
इससे पूर्व डेरा प्रमुख अदालत में पेश होने के लिये सुबह लगभग सवा 9 बजे सिरसा से सड़क के रास्ते पंचकूला के लिये रवाना हुये। लगभग दो बजे वह अदालत परिसर में पहुंचे। अदालत परिसर की सीढिय़ां चढ़ते हुये उसके चेहरे पर हवाइयां उड़ रहीं थीं हालांकि उसके साथ चल रहे उनके सहयोगी उन्हें सांत्वना दे रहे थे।
न्यायाधीश जगदीप सिंह ने अपराह्न लगभग ढाई बजे अदालती कार्यवाही शुरू की और लगभग 2.50 बजे तक अपना फैसला पढ़ लिया।
कोर्ट परिसर के एक किमी तक के इलाके को सील कर दिया गया था। कोर्ट आने की इजाजत बाबा और उनकी दो गाडिय़ों को ही दी गई थी। फैसला सुनाए जाने से पहले बाबा के सुरक्षाकर्मियों को कोर्ट रूम के बाहर ही रोक दिया गया। कोर्ट के अंदर सिर्फ जज, वकील, दो पुलिस अधिकारी और आरोपी मौजूद रहे। बताया जा रहा है कि जज ने जब फैसला सुनाना शुरू किया तो पुलिस अधिकारियों को भी बाहर कर दिया गया। इसके अलावा, कोर्ट रूम में सारे फोन बंद करवा दिए गए। सूत्रों ने मुताबिक, जज ने फैसला पढऩे में दस मिनट का वक्त लिया। जब फैसला सुनाया जा रहा था तो राम रहीम हाथ जोड़कर अदालत में खड़ा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*