Thursday , 26 April 2018
Breaking News
Home » India » भाजपा को हराने अन्य दलों से हाथ मिलायेगी कांग्रेस

भाजपा को हराने अन्य दलों से हाथ मिलायेगी कांग्रेस

कांग्रेस महाधिवेशन में पारित हुआ प्रस्ताव
नई दिल्ली। कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर देश की आजादी और लोकतांत्र को खतरे में डालने का आरोप लगाते हुये शनिवार को कहा कि मोदी सरकार को 2019 में सत्ता से बाहर करने के लिए वह समान विचारधारा वाले दलों के साथ साझा व्यावहारिक कार्यक्रम बनायेगी।
कांग्रेस महाधिवेशन में पारित राजनीतिक प्रस्ताव में भाजपा और आरएसएस पर कड़ा प्रहार करते हुये कहा गया है कि वे किसी भी कीमत पर सत्ता हथियाने के लिए धर्म और राजनीति का जहरीला घालमेल कर रहे हैं। इस गठजोड़ ने देश की राजनीति के मूल आधार को ही खतरे में डाल दिया है। उन्होंने अपने विभाजनकारी एजेंडे का अनुसरण करते हुये ‘सांप्रदयिक आवेश और उन्मादी राष्ट्रवाद’ की आग भड़का दी है। इससे लोगों में डर और शंका का माहौल बन गया है तथा सामाजिक एकता और भाईचारे का तानाबाना टूटने का खतरा पैदा हो गया है।
प्रस्ताव में कहा गया है, कांग्रेस सभी समान विचारधारा वाले दलों के साथ सहयोग के लिए व्यावहारिक दृष्टिकोण अपनायेगी और 2019 के चुनाव में भाजपा-आरएसएस को हराने के लिए साझा व्यावहारिक कार्यक्रम बनायेगी।
मोदी सरकार पर तानाशाही रवैया अपनाने का आरोप लगाते हुये पार्टी ने कहा है कि प्रधानमंत्री और भाजपा सरकार सत्ता के मद में चूर हैं तथा किसी भी तरह की आलोचना सहन नहीं करती। इस सरकार में संवैधानिक संस्थाओं को कमजोर किया जा रहा है। राज्यपालों का इस्तेमाल राज्य सरकारों को अस्थिर करने और जनादेश का अपमान कर बनावटी बहुमत से सत्ता हथियाने के लिए किया जा रहा है। सरकारी एजेंसियों का इस्तेमाल बदले की भावना से राजनीतिक विरोधियों को पीड़ित करने के लिए किया जा रहा है।
सरकार पर भ्रष्टाचार में लिप्त लोंगों को बचाने का आरोप लगाते हुये प्रस्ताव में कहा गया है कि प्रथम दृष्टया पर्याप्त सबूत होने के बावजूद ऐसे लोगों के खिलाफ जांच एजेंसियो को जरूरी कार्रवाई नहीं करने दी गयी। सार्वजनिक बैंकों के साथ हजारों करोड़ रूपये की धोखाधड़ी हुई और आरोपियों को देश से भागने दिया गया।
पार्टी ने सरकार पर देश की आंतरिक और बाह्य सुरक्षा की चुनौतियों से निपटने में भी असफल रहने का आरोप लगाते हुये कहा है कि उसके शासन में सीमा पार से आतंकवादी हमलों में भारी वृद्धि हुई है। सीमा पर कई सैनिकों और नागरिकों की जानें गयी हैं।

कांग्रेस ही देश को आगे ले जा सकती है : राहुल
नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांघी ने मोदी सरकार पर विकास के लिए काम करने की बजाय गुस्से का माहौल पैदा करने का आरोप लगाते हुए शनिवार को कहा कि वह देश को बांटने की कोशिश कर रहे हैं और कांग्रेस जोड़ने का काम करती है इसलिए यही पार्टी देश को प्रगति के मार्ग पर अग्रसर कर सकती है। गांधी ने अखिल भारतीय कांग्रेस के 84वें महा अधिवेशन में देशभर से आये पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की तरफ इशारा करते हुए कहा कि उनका काम देश को लड़ाना है, समाज को तोड़ना और बांटना है लेकिन कांग्रेस का काम देश को जोड़ने का है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस महा अधिवेशन का लक्ष्य देश को रास्ता दिखाना है और प्रगति के पथ पर अग्रसर करना है।

प्रतिशोध की भावना से काम कर रही है मोदी सरकार
नई दिल्ली। कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तीखा हमला करते हुए शनिवार को कहा कि उनकी सरकार प्रतिशोध की भावना से काम कर रही है और विपक्ष के नेताओं के खिलाफ झूठे मुकदमे दर्ज किए जा रहे हैं। श्रीमती गांधी ने अखिल भारतीय कांग्रेस के 84वें महाधिवेशन को संबोधित करते हुए कहा कि देश की जनता मोदी सरकार की तानाशाही से तंग आ चुकी है और उन्हें भ्रष्टाचार रहित, प्रतिशोध रहित और हाहाकार मुक्त भारत चाहिए।
उन्होंने मोदी सरकार के ‘सबका साथ- सबका विकास’ तथा ‘न खाने दूंगा और न खाऊंगा’ के नारे को सत्ता हथियाने की ड्रामाबाजी करार दिया और कहा कि वह सिर्फ वादे करते हैं जबकि कांग्रेस लोगों से जुड़ी रहती है। जनता के साथ होने वाले अत्याचार के खिलाफ कदम उठाती है और जनहित को प्राथमिकता देती है।

अधिवेशन के मंच पर नहीं दिखीं पुराने नेताओं की तस्वीरें
नई दिल्ली। कांग्रेस महाधिवेशन में पहली बार मंच के पीछे पार्टी के पुराने नेताओं की तस्वीरें नहीं लगायी गयीं तथा मंच पर कोई नेता आसीन नहीं था।
यहां इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में चल रहे पार्टी के 84वें महाधिवेशन में इस बार सभागार के अंदर सिर्फ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की तस्वीरें और पार्टी का चुनाव चिह्न पंजा दिखायी दिया। इससे पहले महाधिवेशनों में मंच के पीछे पार्टी के पुराने नेताओं की तस्वीरें रहती थीं तथा मंच पर वरिष्ठ नेता विराजमान रहते थे।
सभागार में हर तरफ पोस्टर लगे थे जिन पर लिखा है,‘वक्त है बदलाव का चेंज इस नाऊ।’ पार्टी कार्यकर्ताओं ने सफेद वस्त्र पहन रखे थे और गांधी टोपी भी लगा रखी थी।
पार्टी की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी जब संबोधन के लिए खड़ी हुईं तो कार्यकर्ताओं ने खड़े होकर उनका स्वागत किया। पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी का उद्धाटन भाषण बहुत ही संक्षिप्त था। गांधी ने अपने संबोधन में कहा कि वह अभी तो संक्षेप में अपनी बात रख रहे हैं, बाद में विस्तार से बोलेंगे। अन्य वक्ताओं से भी अपनी बात रखने में समय का ध्यान रखने की अपील की गयी। गांधी के संबोधन से पहले मीडिया की सीटें खाली थीं और इन्हें भरने के लिए कार्यकर्ताओं को बैठा दिया गया। इसे लेकर पार्टी के संचार विभाग के लोगों और सेवादल के कार्यकर्ताओं के बीच कहासुनी भी हुई। एक युवा कार्यकर्ता पूरे सभागार में घूम- घूमकर पार्टी का विशाल झंडा लहरा रहा था और वह लोगों के आकर्षण का केंद्र बना था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*