Saturday , 26 May 2018
Breaking News
Home » India » ‘बुरहान ब्रिगेड’ का सफाया, 5 आतंकी ढेर

‘बुरहान ब्रिगेड’ का सफाया, 5 आतंकी ढेर

सेना को बड़ी कामयाबी

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के शोपियां के बडगाम में चल रही मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने हिजबुल कमांडर सद्दाम पादर और उसके दो साथियों बिलाल मौलवी और आदिल समेत 5 आतंकियों मार गिराया। मारे गए आतंकियों में एक कश्मीर विश्वविद्यालय का असिस्टेंट प्रोफेसर भी शामिल है। फायरिंग में पुलिसकर्मी अनिल कुमार और 44 आरआर का एक जवान जख्मी हुए हैं। पुलिस महानिदेशक एसपी वैद्य ने जानकारी दी की 5 आतंकियों के शव बरामद कर लिए गए हैं।
हालांकि एसएसपी ने मारे गए आतंकियों के नामों की पुष्टि नहीं की है, लेकिन संबंधित सूत्रों ने बताया कि मारे गए आतंकियों में हिजबुल मुजाहिदीन का 15 लाख का ईनामी डीविजनल कमांडर सद्दाम पादर, असिस्टेंट प्रोफेसर मोहम्मद रफी बट, आदिल व दो अन्य हैं।

एक पुलिस अधिकारी ने जानकारी दी कि शोपियां के जैनापुरा इलाके में बडीगाम गांव में आतंकियों की मौजूदगी के बारे में सूचना मिली थी। इस सूचना पर सुरक्षा बलों ने सुबह इलाके की घेराबंदी कर तलाशी अभियान चलाया। अधिकारी ने कहा कि आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर फायरिंग शुरू कर दी थी। सुरक्षाबलों की तरफ से भी जवाबी फायरिंग की गई थी।हिज्बुल का आतंकी सद्दाम पादर भी मारा गयामीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक मारे गए आतंकियों में हिज्बुल मुजाहिदीन का कमांडर सद्दाम पादर भी है। सुरक्षाबलों ने सद्दाम के साथ बिलाल मौलवी और आदिल मलिक को भी घेर लिया था। सद्दाम हिज्बुल का शीर्ष आतंकी कमांडर है और वह बुरहान ब्रिगेड में शामिल एकमात्र जीवित हिज्बुल कमांडर था।पहले सरेंडर करने को कहा गया
मारे गए 5 आतंकियों में सद्दाम के साथ-साथ डॉक्टर मुहम्मद रफी भट्ट, बिलाल मौलवी और आदिल मलिक भी शामिल है। रफी भट्ट कश्मीर यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर रहा हैं, और उसे बुलाने के लिए सुरक्षा बलों ने उसके परिजनों को घटनास्थल पर बुलाया गया ताकि उसे सामने लाया जा सके। लेकिन मुठभेड़ में 5 आतंकी मारे गए हैं। एसएसपी शोपियां ने एनकाउंटर के दौरान छिपे इन आतंकियों को सरेंडर करने का अनुरोध किया, जिसे आतंकियों ने ठुकरा दिया और जवाब में फायरिंग शुरू कर दी।कुछ दिन पहले मारा गया समीरइससे पहले पिछले महीने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सुरक्षाबलों और पुलिस ने संयुक्त ऑपरेशन में दो आतंकियों को ढेर कर दिया था, जिसमें हिज्बुल मुजाहिदीन का टॉप कमांडर समीर टाइगर भी शामिल था। समीर टाइगर 2016 में हिज्बुल मुजाहिदीन में शामिल हुआ था। समीर पुलवामा का रहने वाला था और हिज्बुल के कई हमलों में शामिल रहा।
बुरहान वानी के बाद समीर को कश्मीर के पोस्टर ब्वॉय के रूप में पेश किया गया था।

समीर ने आतंकी वसीम के जनाजे में शामिल होकर फायरिंग भी की थी। पिछले महीने समीर टाइगर का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ जिसमें वह एक स्थानीय युवा से पूछताछ करता नजर आ रहा था। समीर इस वीडियो में कथित मुखबिर से पूछ रहा है कि इलाके में कौन-कौन सुरक्षाबलों को जानकारी देते हैं। इस वीडियो के कुछ घंटों बाद ही सुरक्षाबलों ने समीर टाइगर को पुलवामा के द्रबगाम में घेर लिया और उसका खात्मा कर दिया।इस साल करीब 60 आतंकियों का सफायाबता दें कि ‘ऑपरेशन ऑलआउटÓ के जरिए कश्मीर घाटी को आतंकवाद मुक्त करने के मिशन पर निकली भारतीय सेना ने पिछले साल 208 आतंकवादियों को ठिकाने लगाया था। इस साल अब तक 59 आतंकवादियों का सफाया किया जा चुका है। इसकी वजह से ही कश्मीर में आतंकवादी संगठनों के पास लेबर फोर्स की कमी हो गई है। कश्मीर में आतंकवाद के खिलाफ भारतीय सेना का ‘ऑपरेशन ऑलआउटÓ दिन दूनी-रात चौगुनी रफ्तार से जारी है। इसी कारण से आतंकवादी संगठनों और उनके आकाओं के दिन का चैन और रात की नींद उड़ी हुई है। रक्षा विशेषज्ञ पीके सहगल ने ‘ऑपरेशन ऑलआउटÓ के फेज टू में 14 आतंकियों की लिस्ट जारी की। पहले 10 दिन में दो को उड़ा दिया। ऑपरेशन के फेज वन में 30 में से 25 मुखिया मारे जा चुके हैं।आतंकी बनने के 36 घंटे के अंदर ही मारा गया प्रोफेसर
श्रीनगर। दक्षिण कश्मीर के शोपियां में रविवार को आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ हुई। इस दौरान सुरक्षाबलों ने 5 आतंकियों को मार गिराया। इसमें हिज्बुल मुजाहिदीन का कमांडर सद्दाम पादर और हाल ही में आतंकवाद का रास्ता पकडऩे वाले कश्मीर यूनिवर्सिटी का असिस्टेंट प्रोफेसर मोहम्मद रफी भट्ट भी शामिल है।
एक अंग्रेजी वेबसाइट की खबर के मुताबिक, कश्मीर यूनिवर्सिटी में सोशियोलॉजी डिपार्टमेंट में असिस्टेंट प्रोफेसर मोहम्मद रफी भट्ट शुक्रवार से संदिग्ध रूप से लापता हो गया था। जब उसके आतंकी संगठन में शामिल होने की अफवाह फैली, तो उसका परिवार कश्मीर यूनिवर्सिटी पहुंचा। मोहम्मद रफी का परिवार दक्षिण कश्मीर के गंदरबाल में रहता है।
भट्ट ने आखिरी बार अपने पिता को फोन किया था और आतंक का रास्ता चुनने के लिए माफी मांगी थी। रफी ने कहा था, मुझे माफ कर दें, अगर मैंने आपको आहत किया।

पिता को फोन कर मांगी थी माफी

यूनिवर्सिटी प्रशासन ने मोहम्मद रफी के गायब होने को लेकर पुलिस को चि_ी लिखी थी, जिसके बाद पुलिस ने उसके गायब होने का मामला भी दर्ज किया। रविवार को सुरक्षाबलों को शोपियां में आतंकियों के छिपे होने की खबर मिली। इनपुट के मुताबिक, इन आतंकियों में हिज्बुल कमांडर सद्दाम पादर और असिस्टेंट प्रोफेसर मोहम्मद रफीक भी शामिल था।
इसके बाद सुरक्षाबलों ने मुहम्मद रफी से सरेंडर करवाने के लिए उसके परिवारवालों को मौके पर बुलाया। लेकिन, आतंकी सरेंडर के लिए तैयार नहीं हुए और लगातार फायरिंग करने लगे। बाद में सभी आतंकियों के ढेर होने की खबर आई।
इस मुठभेड़ में हिज्बुल कमांडर और बुरहान वानी ब्रिगेड का आखिरी सदस्य सद्दाम पादर भी मारा गया है। मुठभेड़ में एक नागरिक की भी मौत हो गई, जबकि दो जवान घायल हुए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*