Thursday , 18 January 2018
Breaking News
Home » India » बाबा साहब पर सवाल उठाकर घिरा जिग्नेश

बाबा साहब पर सवाल उठाकर घिरा जिग्नेश

नई दिल्ली। गुजरात में कांग्रेस पार्टी के सहयोग से विधायक बने जिग्नेश मेवाणी अब एक नए विवाद में घिरते दिख रहे हैं। एक एक्सक्लूसिव वीडियो में जिग्नेश संविधान निर्माता बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की आलोचना करते दिख रहे हैं। वहीं इस वीडियो के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद अब भाजपा ने कांग्रेस और जिग्नेश मेवाणी पर जमकर निशाना साधा है।
इस सनसनीखेज विडियो में मेवाणी एक भाषण देते दिखाई दे रहे हैं। इसमें वह महान दलित नेता और संविधान निर्माता बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की विचारधारा की आलोचना करते हुए दिख रहे हैं और उस पर सवाल उठा रहे हैं। उन्होंने कहा, दलित आंदोलन को यह समझने की जरूरत है कि वामपंथी एक ऐसे समाज को विकसित करना चाहते हैं जहां जाति, पंथ और किसी वर्ग का उत्पीड़न नहीं होगा। इस तरह वे आपके प्राकृतिक सहयोगी होंगे। इस विशेष संदर्भ में डॉक्टर अंबेडकर के अलग विचार हैं तो मेरा उनसे अलग विचार है। यदि लेनिन और कार्ल मार्क्स ने जो कह दिया तो वह पत्थर की लकीर नहीं है तो जो अंबेडकर या पेरियार ने कहा वह भी पत्थर पर नहीं लिखा गया है। यह बाबा साहब ने ही हमें बताया था। प्रकाश अंबेडकर ने भी की आलोचना
जिग्नेश मेवाणी द्वारा दिये गये इस बयान पर भीमराव अंबेडकर के पोते और दलित नेता प्रकाश अंबेडकर ने भी निशाना साधा है। प्रकाश ने इस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि जिग्नेश को किसी भी कीमत पर दलितों महापुरूषों का अपमान नहीं करना चाहिये। इससे पूर्व प्रकाश अंबेडकर और जिग्नेश मेवाणी ने पुणे में आयोजित एलगार परिषद् के दौरान मंच साझा किया था। पुणे के इस कार्यक्रम के दौरान विवादित भाषण देने के आरोप में जिग्नेश मेवाणी समेत अन्य लोगों पर केस दर्ज किया गया है।
वीडियो पर पत्रकारों के सवाल को टाल गये जिग्नेश
वहीं जिग्नेश के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा प्रवक्ता नलिन कोहली ने कहा कि मेवाणी राष्ट्रवाद की भावना पर भरोसा नहीं करते और उनके विचार है कि इस देश को कई हिस्सों में तोड़ दिया जाए। वहीं जिग्नेश के इस वीडियो के वायरल होने के बाद पत्रकारों ने जब उनसे इस बारे में सवाल पूछा तो उन्होंने इसे अनसुना करते हुए कोई प्रतिक्रिया नहीं दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*