Monday , 19 February 2018
Breaking News
Home » India » बढ़ी सैनिकों की तैनाती

बढ़ी सैनिकों की तैनाती

armyनई दिल्ली। सिक्किम से सटे चीन की सीमा पर तनाव के बीच भारत ने डोका ला इलाके में और ज्यादा सैनिकों की तैनाती की है। 1962 के बाद पहली बार ऐसा हो रहा है जब किसी इलाके में भारत और चीन की सेनाओं के बीच इतने लंबे वक्त तक गतिरोध बना हुआ है। पिछले करीब एक महीने से डोका ला में दोनों देशों के सैनिक आमने-सामने हैं। भारत ने डोका ला में और ज्यादा सैनिकों को ”नॉन-काम्बैटिव मोडÓÓ में लगाया है। ”नॉन-काम्बैटिव मोडÓÓ यानी गैर-लड़ाकू मोड में बंदूकों की नाल को जमीन की ओर रखा जाता है।
सूत्रों के मुताबिक चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी द्वारा भारतीय सेना के 2 बंकरों को नष्ट करने की आक्रामक गतिविधि के बाद भारत ने और ज्यादा जवानों को भेजा है। सूत्रों ने पहली बार दोनों सेनाओं के बीच ताजा गतिरोध के बारे में डीटेल देते हुए बताया कि 1 जून को पीएलए ने भारतीय सेना से डोका ला में 2012 में बने अपने दो बंकरों को हटाने को कहा। डोका ला भारत, भूटान और तिब्बत से सटने वाली चुम्बी घाटी के नजदीक है।
डोका ला इलाके में भारतीय सेना कई सालों से गश्त करती रही है। सेना ने 2012 में यहां 2 बंकर बनाने का फैसला किया। सूत्रों ने बताया कि बंकरों को हटाने को लेकर 1 जून को चीन की सेना की तरफ से दी गई चेतावनी के बाद इसकी सूचना नॉर्थ बंगाल के सुकना में स्थित 33 कॉप्र्स हेडक्वॉर्टर को दी गई। इस बीच 6 जून की रात को चीन के 2 बुलडोजरों ने बंकरों को नष्ट कर दिया। उनका दावा था कि यह इलाका उनका है और इस पर भारत या भूटान का कोई हक नहीं है।
वहां पर मौजूद भारतीय सैनिकों ने चीनी सैनिकों और मशीनों को इलाके में और ज्यादा नुकसान पहुंचाने या अतिक्रमण करने से रोका। 8 जून को करीब 20 किलोमीटर दूर स्थित नजदीकी ब्रिगेड हेडक्वॉर्टर से अतिरिक्त फोर्स भी गतिरोध स्थल पर पहुंच गई। इस दौरान दोनों देशों के सैनिकों के बीच झड़प भी हुई और इसमें दोनों पक्षों को मामूली चोट भी आई। इलाके में स्थित पीएलए की 141 डिविजन से और ज्यादा जवान मौके पर पहुंच गए जिसके बाद भारतीय सेना ने भी अपनी स्थिति को मजबूत करने के लिए और ज्यादा जवानों को मौके पर बुलाया।
1962 के भारत-चीन युद्ध के बाद पहली बार इस इलाके में भारत और चीन के सैनिकों के बीच इतने लंबे समय तक गतिरोध बना हुआ है। इससे पहले 2013 में जम्मू-कश्मीर के लद्दाख डिविजन स्थित दौलत बेग ओल्डी में दोनों देशों की सेनाएं करीब 21 दिनों तक आमने-सामने थी। उस समय चीन के सैनिक भारतीय सीमा में 30 किलोमीटर भीतर तक आ चुके थे। उनका दावा था कि यह इलाका उनका है। हालांकि बाद में भारतीय सेना ने उन्हें वापस खदेड़ा।
मई 1976 को भारत का हिस्सा बना सिक्किम इकलौता ऐसा राज्य है जहां चीन के साथ सीमा निर्धारित है। सिक्किम की चीन से सटी सीमा का निर्धारण 1889 में चीन के साथ हुए एक समझौते पर आधारित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*